न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नगर विकास विभाग का नहीं मिला सहयोग, कोई काम नहीं कर पाया :  परमा सिंह

290
  • आरआरडीए की बोर्ड बैठक में कई योजनाओं के प्रस्तावों को मिली स्वीकृति
  • अपने बचे एक माह के कार्यकाल के पहले आरआरडीए चेयरमेन ने जताया अफसोस

Ranchi: रांची क्षेत्रीय विकास प्राधिकार के चेयरमैन परमा सिंह ने आरआरडीए द्वारा बनायी गयी कई योजनाओं पर नगर विकास विभाग से कोई सहयोग नहीं मिलने की बात कही है. उन्होंने यह बात अपने बचे एक माह के कार्यकाल के पहले गुरुवार को आयोजित बोर्ड बैठक में कही है. इस दौरान आरआरडीए द्वारा लाये गये कई प्रस्तावों को भी स्वीकृति दी गयी है. इसमें राजधानी के मास्टर प्लान में संशोधन करके छूटे हुए गांवों को जोड़ने, पीपीपी मोड पर सड़क किनारे बने बस पड़ाव का निर्माण करने जैसे प्रस्ताव प्रमुखता से शामिल हैं. यह बैठक गुरुवार को आरआरडीए चेयरमैन परमा सिंह की अध्यक्षता में हुई. इस दौरान आरआरडीए क्षेत्र में अवैध तरीके से लगे होर्डिंग्स का रजिस्ट्रेशन कर राजस्व की प्राप्ति करने सहित अन्य प्रमुख एजेंडों पर भी स्वीकृति दी गयी. इसमें मास्टर प्लान में छूटे गये कई राजस्व गांवों को प्लान में शामिल करना भी शामिल है.

इसे भी पढ़ें – दिशोम गुरु की हार से मर्माहत नेता, कार्यकर्ता व समर्थक हेमंत को सोशल मीडिया में दे रहे सलाह, नजदीकियों पर साध रहे निशाना

Aqua Spa Salon 5/02/2020

योजनाओं को लेकर तैयार किये गये थे कई प्रस्ताव

बोर्ड की बैठक की जानकारी देते हुए चेयरमैन परमा सिंह ने कहा कि आरआरडीए ने ग्रामीण क्षेत्र के विकास के लिए कई योजनाओं पर काम शुरू किया था. योजनाओं को लेकर तैयार किये गये प्रस्ताव को स्वीकृति के लिए नगर विकास विभाग को भेजा गया था,  लेकिन सरकार से सहयोग नहीं मिलने के कारण ऐसे विकास के काम पूरे नहीं हो सके. यही कारण है कि अपने 3 साल के कार्यकाल के दौरान उन्हें ठीक तरीके से काम करने का मौका नहीं मिल सका है.

इसे भी पढ़ें- मोदी राज-2 शुरू : नरेंद्र मोदी ने ली पीएम पद की शपथ, अर्जुन मुंडा बने कैबिनेट मंत्री

सहयोग नहीं मिलने से विकास काम हुआ प्रभावित

उन्होंने कहा कि आवासीय कॉलोनी विकसित करने के लिए सरकार से एनओसी मांगा था, लेकिन नहीं मिला. रिंग रोड से कनेक्टिंग सड़कों को विकसित करने के लिए फंड मांगी थी, लेकिन उसकी भी स्वीकृति नहीं दी गयी. आरआरडीए में कर्मचारी पदाधिकारी बहाल करने की शक्ति मांगी गई थी, लेकिन उस पर भी नगर विकास विभाग ने चुप्पी साध ली. अब उनका आरआरडीए पर बने रहने का कार्यकाल एक माह में समाप्त हो जाएगा. ऐसे में उन्हें हमेशा अफसोस रहेगा कि सरकार के इस विभाग से सहयोग नहीं मिलने की वजह से प्राधिकार क्षेत्र का विकास नहीं कर पाया.

इसे भी पढ़ें – पूंजीपतियों को जमीन दिलाना बंद करे, आदिवासियों को धर्म के नाम पर न बांटे सरकार :  गोपीकांत 

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like