न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सिटी बस मामला: RMC लेता है 201 रुपये प्रतिदिन चार्ज, रूट है मलाईदार, फिर भी भाड़ा बढ़ाने का हो रहा दबाव

16
  • शहर में चल रहे 25 सिटी बस से जुड़ा है पूरा मामला
  • डीजल के दाम में कमी होने पर भी अड़े हैं ऑपरेटर: किशोर मंत्री
  • अपर नगर आयुक्त ने कहा- नहीं बढ़ेगा 1 रुपया भी भाड़ा
  • अलग-अलग रूटों पर कुल 51 सिटी बसें चलाने की हो रही तैयारी

Ranchi: राजधानी रांची की सड़कों पर चल रहे सिटी बसों का मामला अभी शांत नहीं हुआ है. जहां एक तरफ सिटी बस ऑपरेटर किशोर मंत्री ने उनके द्वारा बस भाड़ा नहीं बढ़ाने पर इन बसों को निगम के स्टोर रूम में खड़ा कर देने की चेतावनी दी है, वहीं रांची नगर निगम ने कह दिया है कि किसी भी हालत में इन सिटी बसों का भाड़ा 1 रुपया भी नहीं बढ़ेगा. हकीकत यह है कि जिस रूट में (किशोरी यादव चौक से धुर्वा) किशोर मंत्री इन बसों को चला रहे हैं. वह काफी मलाईदार रूट है. इस रूट में शायद ही होता हो कि सभी बसें खाली जाती हों. इन बसों को चलाने के एवज में निगम को उन्हें केवल 201 रुपये प्रतिदिन भाड़ा देता पड़ता है. वहीं मलाईदार रूट होने के कारण वे बस चलाना भी नहीं छोड़ना चाहते हैं. फिर भी सिटी बस ऑपरेटर किशोर मंत्री निगम पर दबाव बनाते रहे हैं.

बस किराया बढ़ाने के लिए लिखा था पत्र

मालूम हो कि सिटी बस चला रहे किशोर मंत्री पिछले दो माह से निगम के अधिकारियों के समक्ष यात्री किराया बढ़ाने की मांग करते रहे हैं. इसके पीछे उन्होंने डीजल के मूल्य में हो रही बढ़ोतरी को एक प्रमुख कारण बताया था. उन्होंने इसके लिए नगर आयुक्त मनोज कुमार को एक पत्र लिखकर चेतावनी भी दी थी, कि उनकी मांगों को नहीं मानने पर वे बसों को हैंडऑवर कर देंगे.

ऑपरेटर को नुकसान की नहीं है गुंजाइश

सिटी बस संचालन का कार्य देख रहे निगम के अधिकारियों का कहना है कि एक सिटी बस चलाने के एवज में किशोर मंत्री नगर निगम को प्रतिदिन 201 रुपये भुगतान करते हैं. वहीं 155 रुपये उन्हें रोड टैक्स के रूप में देना पड़ता है. अगर शहर में चल रहे ऑटो भाड़ा को देखें, तो उन्हें अपने मालिकों को 500 रुपये किराया तक देना होता है. ऐसे में समझा जा सकता है, कि निगम कितने कम चार्ज पर किशोर मंत्री को बस चलाने दे रहा है. जिस रूट पर वे इन बसों को संचालित करते हैं, वह भी काफी भीड़-भाड़ वाला इलाका है. ऐसे में उन्हें नुकसान होने की कोई गुंजाइश नहीं है.

नहीं है दबाव, स्वयं चलाएगें सिटी बसें: अपर नगर आयुक्त

चेतावनी को नजर अंदाज करते हुए अपर नगर आयुक्त गिरिजा शंकर प्रसाद ने कहा है कि सिटी बसों को चलाने में निगम पर कोई दबाव नहीं है. सिटी बसों को अगर किशोर मंत्री हैंडऑवर करते हैं, तब भी निगम को कोई दिक्कत नहीं है. निगम अपने नियंत्रण में इसे चलाने को तैयार है. इसके लिए निगम अपर बाजार स्थित बकरी बाजार स्टोर को सिटी बस पड़ाव बनाएगा. साथ ही बसों की देखरेख के लिए यहां गैराज भी बनाया जाएगा.

विभिन्न रूटों में चलायी जा सकती है बसें

वर्तमान में सिटी बसें अभी एक ही रूट पर संचालित हो रही हैं. सूत्रों के मुताबिक अब निगम इसे विभिन्न रूटों पर चलाने की तैयारी कर रहा है. अगर किशोर मंत्री इन बसों को नहीं चलाते है, तो उनके द्वारा संचालित 25 सिटी बसों और निगम स्टोर में खड़ी 26 नई बसों यानि कुल 51 बसों का परिचालन निगम विभिन्न रूटों में करेगा. मालूम हो कि निगम के बकरी बाजार स्टोर में 26 नयी बसें खड़ी धूल फांक रही हैं. वहीं, दर्जनों पुरानी बसें भी खड़ी हैं. ऐसे में नयी बसों को अब फिर से सड़क पर उतारने की तैयारी चल रही है.

इसे भी पढ़ें: बिजली बोर्ड के अधिकारी कर रहे हैं इलेक्ट्रिक कार की सवारी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: