National

#CitizenShipAmendmentBill : सोनोवाल ने चेताया, हिंसा बर्दाश्त नहीं करेंगे, कहा, मूल निवासियों के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हूं

Guwahati : असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने राज्य में CitizenShipAmendmentBill  के विरोध में हो रही हिंसा और आगजनी में शामिल लोगों को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी देते हुए कहा कि लोकतांत्रिक प्रक्रिया में तोड़फोड़ के लिए कोई जगह नहीं है. कहा कि वे राज्य के मूल निवासियों के अधिकारों की रक्षा के लिए  कृतसंकल्पित हैं.

साथ ही अभिभावकों से कहा कि वे अपने बच्चों को समझाएं कि वे ऐसे किसी भी आंदोलन में शामिल न हों जो हिंसक हो सकता है. इस क्रम में उन्होंने मीडिया से कहा, हम हिंसा बर्दाश्त नहीं करेंगे. तोड़फोड़ में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें : #SaveIndiaRally : सोनिया गांधी ने कहा, देश में अंधेर नगरी चौपट राजा जैसा माहौल, राहुल बोले, मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं…

advt

भाषायी अधिकारों की रक्षा असम समझौते के उपनियम छह लागू करने से होगी

सोनोवाल ने कहा कि कुछ लोग गलत जानकारी फैलाकर लोगों को भ्रमित करना चाहते हैं और हालात को बिगाड़ना चाहते हैं. मैं सभी से अपील करता हूं कि ऐसा कुछ न करें जिससे शांति भंग होती हो. राज्य के लोगों से कहा कि वह संशोधित नागरिकता कानून के बारे में चिंता न करें क्योंकि उनकी परंपरागत संस्कृति, भाषा, राजनीतिक और भाषायी अधिकारों की रक्षा असम समझौते के उपनियम छह को लागू करने से होगी.

इसे भी पढ़ें : #CitizenShipAmendmentBill : भारतीय सेना ने लोगों को ट्वीट कर अलर्ट किया,  फेक न्यूज और दुष्प्रचार से बचें

मूल निवासियों के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हूं : सीएम

सीएम सोनोवाल ने कहा, मैं यहां के मूल निवासियों के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हूं. सीएम ने आश्वासन दिया कि बिल से मूल निवासियों के हितों को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार को अहिंसक लोकतांत्रिक प्रक्रिया पर कोई ऐतराज नहीं है लेकिन जो लोग तोड़फोड़ कर रहे हैं, प्रदर्शनों का फायदा उठा रहे हैं, उनसे सख्ती से निपटा जायेगा.

जान लें कि CitizenShipAmendmentBill  लोकसभा और राज्यसभा से पारित होने और राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद   कानून का स्वरूप ले चुका है. असम के विभिन्न हिस्सों में प्रदर्शनकारियों ने बड़े पैमाने पर हिंसा को अंजाम दिया, सड़कों पर टायर जलाये और वाहनों पर पत्थर फेंके तथा तोड़फोड़ की. दो रेलवे स्टेशनों पर आगजनी की और कई विधायकों के घरों पर हमला किया गया .सोनोवाल के निजी आवास पर भी भीड़ ने हमला किया था.

adv

इसे भी पढ़ें : नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में असम का तीखा होता स्वर देशव्यापी हो सकता है

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button