न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CitizenshipAmendmentBill: मोदी सरकार की अहम परीक्षा, विपक्ष भी तैयार, जानें राज्यसभा का अंक गणित

930

New Delhi: नागरिकता संशोधन विधेयक को मोदी सरकार बुधवार को राज्यसभा में पेश करने वाली है. लोकसभा से पास हो चुके इस बिल को राज्यसभा से पास कराना केंद्र सरकार के लिए इतना आसान भी नहीं होगा.

राज्यसभा की कार्यवाही की सूची के मुताबिक दोपहर 2 बजे इस बिल पर चर्चा शुरू होगी. राज्यसभा में इस बिल पर चर्चा की खातिर 6 घंटे का समय तय किया गया है.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ेंः#CitizenshipAmendmentBill:  संविधान के ‘वी द पीपल’ को ‘वी द हिंदू’ से बदलने की कोशिश है बिल- राजद

राज्यसभा में बिल की असली परीक्षा होगी. इस दौरान उच्च सदन में हंगामे की पूरी संभावना है क्योंकि बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस, टीएमसी और सपा ने भी अपने सांसदों को राज्यसभा में मौजूद रहने के लिए तीन लाइन व्हिप जारी किया है.

राज्यसभा में बिल पर बहस के दौरान कांग्रेस की ओर से कपिल सिब्बल, टीएमसी की ओर से डेरेक ओ ब्रायन और समाजवादी पार्टी की ओर से रामगोपाल यादव बहस करेंगे.

Vision House 17/01/2020

राज्य सभा का अंक गणित

Related Posts

#Nirbhaya_Gang_Rape : कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया,  दोषियों को एक फरवरी सुबह छह बजे फांसी दी जायेगी   

कोर्ट ने दोषियों का नया डेथ वॉरंट जारी किया है. हालांकि दोषियों के वकील मामले को और खींचने की फिराक में हैं. एक दोषी की उम्र को लेकर आपत्ति जताई जा रही है.

फिलहाल राज्यसभा में सांसदों की कुल संख्या 240 है. यानी बिल को पारित कराने के लिए 121 सांसदों का समर्थन चाहिए. एनडीए के पास 116 सांसदों का समर्थन है. बीजेडी के 7 सांसद बिल के पक्ष में वोट करेंगे.

वहीं वाईएसआर कांग्रेस के 2 सांसद भी बिल का समर्थन कर सकते हैं. यानी इस समीकरण को देखें तो एनडीए 125 सांसदों के साथ आसानी से बहुमत का आंकड़ा पा सकती है.

इसे भी पढ़ेंः#Moblynching तबरेज अंसारी मामले में 6 आरोपियों को हाइकोर्ट से मिली जमानत 

लेकिन ये समीकरण बदल भी सकते हैं, और राज्यसभा में मोदी सरकार का ये बिल इटक भी सकता है. क्योंकि 6 सांसदों वाले जेडीयू में बिल पर मतभेद सामने आ चुके हैं.

वहीं लोकसभा में बिल का समर्थन करनेवाली शिवसेना के तेवर बदले हुए हैं. उद्धव ठाकरे ने शंकाओं के दूर होने के बाद ही राज्यसभा में समर्थन देने की बात कही है. टीआरएस के 6 सांसद बिल के विरोध में वोट करेंगे.

इसके अलावे विधेयक का समर्थन कर रही बीजेडी ने बिल में संशोधन की मांग की है. ऐसे में कहना गलत नहीं होगा कि सरकार ने बिल को लोकसभा में जितनी आसानी से पारित करा लिया, राज्यसभा में वो उतना आसान नहीं होगा. उसकी कसौटी कड़ी होगी.

इसे भी पढ़ेंःगोमिया में गोलीबारी करने वाले CRPF जवान पर हत्या का मामला दर्ज, इलाज के बाद होगा गिरफ्तार

Ranchi Police 11/1/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like