न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हंगामे के बीच #CitizenshipAmendmentBill लोकसभा में पेश, पक्ष में 293, बिल के खिलाफ 82 वोट, 375 सदस्यों ने वोटिंग की

गृह मंत्री ने कहा कि वह अभी बिल पेश कर रहे हैं और विपक्षी सांसदों के एक-एक सवालों का जवाब देंगे, तब आप वॉकआउट मत कीजिएगा.

59

NewDelhi : आज सोमवार को विपक्ष के हंगामे के बीच  नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा में पेश किया गया. . बिल पर कुल 375 सदस्यों ने मतदान किया. पक्ष में 293 वोट पड़े वहीं बिल के खिलाफ 82 वोट पड़े. जान लें कि जैसे ही  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन विधेयक पेश किया, विपक्षी सांसदों का हंगामा शुरू हो गया.

इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि वह अभी बिल पेश कर रहे हैं और विपक्षी सांसदों के एक-एक सवालों का जवाब देंगे, तब आप वॉकआउट मत कीजिएगा. शाह ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक किसी भी तरह से देश के अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

विपक्ष की मांग पर मतदान करवाया गया

इससे पहले लोकसभा में विधेयक को पेश किये जाने के लिए विपक्ष की मांग पर मतदान करवाया गया और सदन ने 82 के मुकाबले 293 मतों से इस विधेयक को पेश करने की स्वीकृति दे दी. कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस सहित विपक्षी सदस्यों ने विधेयक को संविधान के मूल भावना एवं अनुच्छेद 14 का उल्लंघन बताते हुए इसे वापस लेने की मांग की.

गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस, आईयूएमएल, एआईएमआईएम, तृणमूल कांग्रेस समेत विपक्षी सदस्यों की चिंताओं को खारिज करते हुए कहा कि विधेयक कहीं भी देश के अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं है और इसमें संविधान के किसी अनुच्छेद का उल्लंघन नहीं किया गया है.

शाह ने सदन में यह भी कहा, अगर कांग्रेस पार्टी देश की आजादी के समय धर्म के आधार पर देश का विभाजन नहीं करती तो इस विधेयक की जरूरत नहीं पड़ती.  नागरिकता अधिनियम, 1955 का एक और संशोधन करने वाले विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने के बाद पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से शरणार्थी के तौर पर आये उन गैर-मुसलमानों को भारत की नागरिकता मिल जाएगी जिन्हें धार्मिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ा हो.

इसे भी पढ़ें : #CitizenshipAmendmentBill2019: शिवसेना ने केंद्र पर हिंदुओं-मुस्लिमों को बांटने का लगाया आरोप

यह अल्पसंख्यकों को लक्ष्य कर लाया गया विधेयक है : कांग्रेस

शाह ने जब विधेयक पेश करने के लिए सदन की अनुमति मांगी तो कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने विधेयक पेश किये जाने का विरोध करते हुए कहा कि यह अल्पसंख्यकों को लक्ष्य कर लाया गया विधेयक है. इस पर गृह मंत्री ने कहा, ‘विधेयक देश के अल्पसंख्यकों के 0.001 प्रतिशत भी खिलाफ नहीं है. उन्होंने चौधरी की टिप्पणियों पर कहा कि विधेयक के गुण-दोषों पर इसे पेश किये जाने से पहले चर्चा नहीं हो सकती. सदन की नियमावली के तहत किसी भी विधेयक का विरोध इस आधार पर हो सकता है कि क्या सदन के पास उस पर विचार करने की विधायी क्षमता है कि नहीं.

इसे भी पढ़ें : #CitizenshipAmendmentBill पर बोले शशि थरूर, भारत का स्तर गिरकर पाकिस्तान का हिन्दुत्व संस्करण  हो जायेगा

Related Posts

#Delhi_ Violence : जांच के लिए दो एसआइटी का गठन,  आप पार्षद ताहिर हुसैन पर एफआइआर दर्ज, फैक्ट्री सील

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है.  दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत दो एसआईटी का गठन किया गया है.

  मैं सदस्यों की हर चिंता का जवाब दूंगा : शाह

शाह ने कहा. विधेयक पर चर्चा के बाद मैं सदस्यों की हर चिंता का जवाब दूंगा.  लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सदस्यों को विधेयक पर चर्चा के दौरान उनकी विस्तार से बात रखने का मौका मिलेगा. अभी वह अपना विषय संक्षिप्त में रख दें. तृणमूल कांग्रेस के सौगत राय ने कहा कि गृह मंत्री सदन को गुमराह कर रहे हैं.  शाह इस सदन के नये सदस्य हैं. उन्हें कम जानकारी है. इस पर भाजपा के सदस्यों ने विरोध जताया.

द्रमुक के टी आर बालू ने श्रीलंकाई तमिलों के विषय को उठाया. इसके बाद पार्टी के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया. आईयूएमएल के पी के कुन्हालीकुट्टी और ई टी मोहम्मद बशीर, कांग्रेस के शशि थरूर तथा एआईएमआइएम के असदुद्दीन ओवैसी ने भी विधेयक को संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करने वाला बताते हुए और इसे पेश किये जाने का विरोध किया.

विधेयक संविधान के किसी अनुच्छेद का उल्लंघन नहीं करता 

गृह मंत्री शाह ने विधेयक से संविधान के अनुच्छेद 11 और 14 का उल्लंघन होने संबंधी विपक्षी सदस्यों की चिंताओं को खारिज करते हुए कहा,  मैं सदन को और सदन के माध्यम से पूरे देश को आश्वस्त करना चाहता हूं कि यह विधेयक किसी भी तरह संविधान के किसी अनुच्छेद का उल्लंघन नहीं करता.

कहा कि अनुच्छेद 14 तर्कसंगत वर्गीकरण के आधार पर कानून बनाने से नहीं रोक सकता. शाह ने कांग्रेस और अन्य विपक्षी सदस्यों की टोका-टोकी के बीच कहा, अगर कांग्रेस पार्टी आजादी के समय धर्म के आधार पर देश का विभाजन नहीं करती तो इस विधेयक की जरूरत नहीं पड़ती.

इसे भी पढ़ें : #CitizenshipAmendmentBill2019: संसद में पेश होगा बिल, विरोध में असम बंद, देशभर में प्रदर्शन

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like