न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड कम्युनिकेशन नेटवर्क लिमिटेड के सीइओ के खिलाफ सीआइआइ ने की शिकायत, कार्रवाई शुरू

1,360
  • बचाव में जुटे जेसीएनएल के सीइओ, भेजा सीआइआइ को पत्र
  • मामला 490 करोड़ रुपये के केबुल बिछाने का
  • कंपनी के निदेशक मंडल में पूर्व मुख्य सचिव राजबाला वर्मा समेत छह आइएएस और आइटी निदेशक

Deepak

Ranchi: झारखंड कम्युनिकेशन नेटवर्क लिमिटेड (जेसीएनएल) के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी (सीइओ) यूपी शाह के खिलाफ की गयी शिकायत को लेकर मंत्रालय में अफरा-तफरी की स्थिति बनी हुई है. जेसीएनएल के सीइओ के खिलाफ भारतीय औद्योगिक महासंघ (सीआइआइ) की तरफ से शिकायत की गयी है. इसमें 11 जिलों में भारत ब्रॉड बैंड नेटवर्क लिमिटेड के दूसरे चरण को लेकर 490 करोड़ के टेंडर में गड़बड़ी की बातें कही गयी थीं.

hosp3

पहली बार निकाले गये टेंडर में हुई शिकायत के बाद निविदा को रद्द कर दिया गया है. और दूसरी बार इसकी निविदा आमंत्रित की गयी है. जेसीएनएल और बीबीएनएल की तरफ से तीन हजार करोड़ की लागत से इंटरनेट आधारभूत संरचना विकसित की जायेगी. सूत्रों का कहना है कि झारखंड सरकार ने जेसीएनएल के सीइओ के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है. इसके उलट सीआइआइ से सूचना प्राद्योगिकी विभाग ने शिकायत की सत्यता पर जवाब मांगा है.

क्या है मामला

जेसीएनएल की तरफ से 11 जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर तक वाईफाई तथा इंटरनेट की सुविधाएं उपलब्ध कराने को लेकर निविदा आमंत्रित की गयी थी. जेसीएनएल के सीइओ की तरफ से आमंत्रित निविदा में पोलिकैब, एलएनटी, आइटीआइ समेत चार कंपनियों ने अपना आवेदन दिया था.

इस निविदा में 490 करोड़ का वित्तीय आवेदन देनेवाली कंपनी पोलिकैब को एल-1 घोषित किया गया था. जेसीएनएल का कहना है कि एल-1 कंपनी ने काम करने से इनकार कर दिया था, क्योंकि सरकार की तरफ से तीन सौ करोड़ का ही डीपीआर पूर्व में तैयार किया गया था. पूर्व की निविदा के आधार पर 30-40 प्रतिशत अधिक की बोली कंपनियों ने लगायी थी. अब इसका पुनरीक्षित डीपीआर तैयार कर लिया गया है और फिर से निविदा आमंत्रित की गयी है.

कौन-कौन हैं जेसीएनएल में

जेसीएनएल में निदेशक मंडल में तत्कालीन मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील वर्णवाल, आइएएस विनय चौबे, प्रवीण टोप्पो, सतेंद्र सिंह, वंदना डाडेल और आइटी निदेशक यूपी शाह शामिल हैं. कंपनी का गठन 28 जनवरी 2017 को किया गया था. इसकी अधिकृत पूंजी पांच करोड़ और पेड कैपिटल 50 लाख है.

हमारे खिलाफ कोई कर रहा साजिश : शाह

जेसीएनएल के मुख्य कार्यपालक अधिकारी का कहना है कि दूसरी बार का टेंडर भी खोल दिया गया है. तीन कंपनियों ने अपना आवेदन दिया है. आइटी निदेशक के पद पर मेरे चार वर्ष हो गये है. उपरोक्त निविदा के तहत पाकुड़, गोड्डा, सिमडेगा, गुमला, चाईबासा समेत 11 जिलों में ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क बिछाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि किसी वेंडर ने शिकायत नहीं की है. निविदा निकालने के पूर्व और बाद में कैबिनेट की मंजूरी ली गयी थी.

इसे भी पढ़ेंः वन पट्टा बांटने के मामले में झारखंड पीछेः छत्तीसगढ़ ने बांटे 07 लाख पट्टे, झारखंड ने बांटे सिर्फ 25 हजार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: