JharkhandLead NewsRamgarh

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव व निर्मला देवी पर लगे आरोपों की जांच करेगी सीआईडी, अंबा ने उठाया था मामला

Ramgarh: बड़कागांव मे एनटीपीसी से उचित मुआवजे का भुगतान, पुनर्वास तथा रोजगार की मांग को लेकर किए जा रहे आंदोलनों के दौरान तत्कालीन सरकार, एनटीपीसी तथा प्रशासन के द्वारा पूर्व कृषि मंत्री योगेंद्र साव तथा पूर्व विधायक निर्मला देवी पर किए गए मुकदमों की जांच सरकार अब सीआईडी से कराएगी. बड़कागांव विधायक अंबा प्रसाद द्वारा लगातार सीआईडी जांच की मांग विभिन्न स्तरों पर की जा रही थी. उन्होने विधानसभा में कई बार इस मामले को मामला उठाया था तथा लिखित और मौखिक तौर से अनेकों बार मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, गृह प्रधान सचिव तथा डीजीपी से सीआईडी जांच हेतु आग्रह किया गया था.

अंबा प्रसाद ने पत्र के माध्यम से कई बार आरोप लगाया था कि उनके पिता पूर्व मंत्री योगेंद्र साव तथा उनकी माता तत्कालीन विधायक निर्मला देवी को रघुबर सरकार तथा एनटीपीसी एवं प्रशासन के द्वारा षड्यंत्र के तहत झूठे मुकदमे में फंसाया गया है.

इसे भी पढ़ें:6 अगस्त को उपराष्ट्रपति पद के लिए चुनाव

Catalyst IAS
ram janam hospital

पुलिस पूर्व की सरकार के दबाव में तथा कंपनियों से आर्थिक लाभ लेकर एकतरफा कार्रवाई करते हुए शांतिपूर्ण धरना कर रहे किसानों पर गोली चलाई थी जिसमें 3 निर्दोष नौजवानों की मौत हो गई थी तथा कई अन्य घायल हुए थे.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

उन्होंने तत्कालीन सरकार पर पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर सरकारी तंत्रों का दुरुपयोग करते हुए झूठे मुकदमे करवाने तथा कार्रवाई करने का आरोप लगाया था.

साथ ही एनटीपीसी तथा उसके अधीनस्थ कंपनियों पर बगैर मुआवजा भुगतान किए किसानों की जमीनों पर अतिक्रमण तथा कब्जा करने का आरोप लगाकर सीआईडी तथा सीबीआई से जांच की मांग की थी. अंबा प्रसाद के उन्हीं प्रयासों के बदौलत बड़कागांव से जुड़े आठ मामलों की जांच सीआईडी को सौंप दी गई है.

इसे भी पढ़ें:Rath Yatra Special Train : रथ यात्रा में शाम‍िल होने पुरी जाना है तो आपके ल‍िए काम की खबर, रेलवे चला रहा रथ यात्रा स्‍पेशल ट्रेन, ये रही पूरी डि‍टेल

सरकार द्वारा सीआईडी जांच के फैसले का अंबा प्रसाद ने स्वागत करते हुए कहा कि बड़कागांव के विस्थापित एवं प्रभावित लोगों के साथ अब न्याय होगा. पूर्ववर्ती सरकार ने स्थानीय ग्रामीणों पर जो जुल्म ढाए हैं, उनका राज खुलने का समय आ गया है, किस तरह सत्ता का दुरुपयोग कर पूर्ववर्ती सरकार ने लोगों की आवाज को दबाने एवं कुचलने का प्रयास किया वह जगजाहिर है.

अब सीआईडी जांच होने पर सारी बातें बहुत जल्द खुलकर सामने आएगी पूर्व मंत्री योगेंद्र साव तथा निर्मला देवी पर कॉरपोरेट, पूर्व सरकार तथा प्रशासन द्वारा लगाए गए आरोपों का पटाक्षेप होगा और लोगों को न्याय मिल सकेगा.

इसे भी पढ़ें:झारखंड में उत्पादक कंपनियों पर करोड़ों का बकाया, सालाना छह हजार करोड़ के नुकसान में निगम

Related Articles

Back to top button