NEWS

आपराधिक गिरोह पहाड़ी चीता और पुलिस के बीच मुठभेड़ की जांच को CID ने किया टेकओवर

Ranchi: सिमडेगा जिला के बोलबा थाना क्षेत्र के तलमंगा डीपाटोली में बीते 21 अगस्त को मुठभेड़ हुई थी. यह मुठभेड़ आपराधिक गिरोह पहाड़ी चीता और पुलिस के बीच हुई थी, जिसमें एक अपराधी मारा गया था. इस मुठभेड़ में पहाड़ी चीता गिरोह के एरिया कमांडर सिमोन केरकेट्टा मारा गया था.

इस मामले की जांच को सीआइडी ने टेकओवर किया है. सीआइडी के एडीजी अनिल पालटा ने इसकी पुष्टि की है. सीआइडी ने जांच शुरू कर दी है. दरअसल, नक्सल हिंसा से मौत के मामलों में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के निर्देश के अनुसार, जांच स्वतंत्र एजेंसी से करायी जानी चाहिए. ऐसे में सीआइडी ने इस केस को टेकओवर किया है.

 इसे भी पढ़ेंः औंधे मुंह गिरती इकोनॉमीः फिच का चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.5 % की गिरावट का अनुमान

advt

पहाड़ी चीता का एरिया कमांडर सिमोन केरकेट्टा मारा गया था

21 अगस्त को सिमडेगा जिले के बोलबा थाना क्षेत्र के तलमंगा डीपाटोली में पुलिस और पहाड़ी चीता गैंग के बीच मुठभेड़ हुई थी. मुठभेड़ में पहाड़ी चीता का एरिया कमांडर सिमोन केरकेट्टा मारा गया था. जबकि एक अपराधी किशोर पुलिस की गोली से घायल हो गया था. मुठभेड़ के बाद पुलिस ने एक बाइक, 30 जिंदा कारतूस, 4 मोबाइल, 2 पिस्टल एवं 3 देसी कट्टा सहित अन्य सामान बरामद किये थे.

ठेकेदार रोहित सिंह से मांगी थी लेवी  

बताया गया कि बोलबा क्षेत्र में सक्रिय पहाड़ी चीता आपराधिक गिरोह ठेकेदार रोहित सिंह से लेवी की मांग की थी. लेवी नहीं देने पर जान से मारने की भी धमकी दी थी. रोहित सिंह ने पहाड़ी चीता गिरोह के खिलाफ बोलबा थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी थी. इससे नाराज पहाड़ी गिरोह के सदस्यों ने रोहित सिंह को मारने के लिए रणनीति बनायी, लेकिन इसकी भनक पुलिस को लग चुकी थी.

तत्कालीन एसपी संजीव कुमार के निर्देश पर पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद थी. गिरोह के सदस्य रोहित सिंह को मारने की नियत से तलमंगा डीपाटोली आये थे. इसी बीच अपराधियों की नजर पुलिस पर पड़ गयी. पुलिस को देखते ही पहाड़ी चीता गिरोह के अपराधियों ने पुलिस पर फायरिंग करने लगे. पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए ताबड़तोड़ फायरिंग अपराधियों पर की. पुलिस और अपराधियों के बीच हुए मुठभेड़ में गिरोह का एरिया कमांडर सिमोन केरकेट्टा और एक अन्य अपराधी किशोर को गोली लगी थी.

सिमोन केरकेट्टा की मौत सदर अस्पताल में इलाज के दौरान हो गयी थी. जबकि एक अपराध कर्मी चरका नदी में कूद कर भागने में सफल रहा था.

adv

इसे भी पढ़ेंः LAC विवादः चीन के दावों की भारतीय सेना ने खोली पोल, पीएलए ने की फायरिंग, हमने संयम से लिया काम

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button