न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चीन ने कहा, हांगकांग पर हाथ पर हाथ धरे नहीं बैठेंगे , प्रदर्शनों पर कार्रवाई से नहीं होगी थियाननमेन स्क्वेयर की पुनरावृत्ति   

संपादकीय में कहा गया है कि चीन अब बहुत मजबूत और अधिक परिपक्व हो गया है तथा जटिल परिस्थितियों से निपटने की उसकी क्षमता में खासी वृद्धि भी हुई है.   

126

Beijing :  चीन के सरकारी मीडिया ने शुक्रवार को विश्वास जताया कि यदि चीन, हांगकांग के लोकतंत्र समर्थक विरोध प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए कार्रवाई करता है, तो थियाननमेन स्क्वेयर की पुनरावृत्ति नहीं होगी. ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित संपादकीय के अनुसार  30 साल पहले राजधानी में विरोध प्रदर्शनों को कुचलने के लिए इस्तेमाल किये गये तरीकों की तुलना में आज देश के पास कहीं ज्यादा बेहतर तरीके हैं जिनसे विरोध प्रदर्शन को नियंत्रित किया जा सकता है. संपादकीय में लिखा है, हांगकांग में कार्रवाई से चार जून 1989 की राजनीतिक घटना की पुनरावृत्ति नहीं होगी. संपादकीय में कहा गया है कि चीन अब बहुत मजबूत और अधिक परिपक्व हो गया है तथा जटिल परिस्थितियों से निपटने की उसकी क्षमता में खासी वृद्धि भी हुई है.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने   हिंसक प्रतिक्रिया के खतरे  पर चिंता जताई

इससे पहले हांगकांग में चल रही अशांति की स्थिति को लेकर चीन ने चेताया  कि वह हाथ पर हाथ धर कर नहीं बैठेगा. चीन ने यह चेतावनी तब दी है जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनों की हिंसक प्रतिक्रिया के खतरे को लेकर चिंता जताई है. ट्रंप ने अपने चीनी समकक्ष शी चिनफिंग से प्रदर्शनकारियों से मुलाकात करने का अनुरोध किया.  वहीं अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने बीजिंग में प्रदर्शनकारियों पर 1989 में की गई हिंसक कार्रवाई का जिक्र करते हुए चीन को हांगकांग में  नया थियाननमेन स्क्वेयर बनाने के खिलाफ चेताया. जान लें कि हांगकांग में चीन को प्रत्यर्पण की अनुमति देने वाले एक विधेयक के विरोध में कई सप्ताह पहले प्रदर्शन शुरू हुए थे.  जिसने बाद में लोकतांत्रिक अधिकारों की मांग की शक्ल ले ली और हिंसा शुरू हुई,

इसे भी पढ़ें –  भारत में भी मंदी के आसार! पीएम मोदी ने वित्त मंत्री सीतारमण से की मंत्रणा

Related Posts

#HowdyModi इवेंट में दो घंटे रहेंगे ट्रंप, 30 मिनट बोलेंगे, पीएम मोदी का भाषण भी सुनेंगे

 मोदी के इस कार्यक्रम में  50 हजार भारतीय मूल के अमेरिकी लोग शामिल होंगे. मोदी के इस इवेंट में आने से ट्रंप को फायदा होना तय माना जा रहा है.

चीन के हजारों सैन्यकर्मियों ने  लाल झंडा फहराते हुए परेड निकाली

साल 1997 में एक समझौते के तहत ब्रिटेन द्वारा चीन को हांगकांग सौंपे जाने के बाद से लेकर अब तक बीजिंग के लिए इस शहर में यह अशांति सबसे बड़ी चुनौती बन गयी है.  गुरुवार  को एएफपी द्वारा ली गयी तस्वीरों के अनुसार, चीन के हजारों सैन्यकर्मियों ने हांगकांग की सीमा के पास एक शहर के खेल स्टेडियम में लाल झंडा फहराते हुए परेड निकाली.  शेनजेन के इस स्टेडियम के भीतर बख्तरबंद वाहन भी नजर आये.  सरकारी मीडिया ने इस हफ्ते खबर दी थी कि पीपुल्स आर्म्ड पुलिस (पीएपी) से जुड़े लोग शेनजेन में जमा हो रहे हैं.

पीएपी केंद्रीय सैन्य आयोग के कमान के तहत आता है. ब्रिटेन में चीन के राजदूत लियू शिआओमिंग ने   कहा कि यदि हांगकांग में स्थिति नियंत्रण से बाहर होती है, तो चीन हाथ पर हाथ धरकर नहीं बैठेगा और वह अशांति से निपटने के लिए तैयार है.   ट्रंप ने गुरुवार को  शांतिपूर्ण समाधान का अनुरोध करते हुए पत्रकारों से कहा कि वह संभावित कार्रवाई को लेकर काफी चिंतित हैं. उन्होंने कहा कि अगर शी चिनफिंग प्रदर्शनकारियों से बात करें तो मैं शर्त लगाता हूं कि वह 15 मिनट में इसका हल ढूंढ लेंगे.

इसे भी पढ़ें –  राजनाथ सिंह ने कहा, परमाणु हथियारों से पहले हमला नहीं करने के सिद्धांत पर भारत अडिग , लेकिन…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: