न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चाइना ओपन बीडब्ल्यूएफ : सिंधू, श्रीकांत के क्वार्टर में हारने से भारत का अभियान खत्म

चाइना ओपन बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 1000 टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती समाप्त

84

Changzhou : शीर्ष शटलर पीवी सिंधू और किदाम्बी श्रीकांत के यहां क्वार्टरफाइनल में हारने से 10 लाख डालर इनामी राशि के चाइना ओपन बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 1000 टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती भी समाप्त हो गयी.  चौबीस वर्षीय भारतीय खिलाड़ी को मौजूदा विश्व चैम्पियन केंटो मोमोटा से 9-21 11-21 से पराजय झेलनी पड़ी जबकि तीसरी वरीय सिंधू 52 मिनट तक चले मुकाबले में चीन की चेन युफेई से 11-21 21-11 15-21 से हार गयी. सिंधू ने ने पिछली छह भिड़ंत में 20 साल की चेन को चार बार पराजित किया था लेकिन शुक्रवार को वह अपनी गलतियों पर लगाम नहीं लगा सकी और अपनी प्रतिद्वंद्वी की योजना का तोड़ नहीं निकाल सकीं.

शुरूआती गेम में चीन की खिलाड़ी ने 6-3 की बढ़त को ताकतवर रिटर्न के बाद 11-5 कर दिया। ब्रेक के बाद सिंधू ने दो अंक जुटाये लेकिन चेन 15-7 से आगे हो गयीं। इसके बाद चीन की खिलाड़ी ने हर गलती का फायदा उठाया और तेज तर्रार स्मैश से गेम अपने नाम किया. छोर बदलने के बाद सिंधू ने प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी को रैलियों में उलझाने का प्रयास किया , जो कारगर भी हुआ और उन्होंने 6-1 से बढ़त हासिल कर ली. लेकिन थकावट साफ दिख रही थी और चीन की खिलाड़ी ने चार अंक जुटा लिये.

चेन ने इसके बाद कुछ शाट वाइड लगाये जिससे सिंधू 10-6 से आगे हो गयीं। इस भारतीय की बढ़त ब्रेक तक 11-8 हो गयी. फिर सिंधू ने 15-10 के बाद यह गेम जीत लिया. निर्णायक गेम में चेन 7-4 से आगे हो गयी और उन्होंने ब्रेक तक तीन अंक की बढ़त कायम रखी. वह 14-8 से बढ़त बनाये थीं कि सिंधू ने लगातार चार अंक जुटाये पर चेन ने इस गेम को हासिल कर अगले दौर में प्रवेश किया. इससे पहले श्रीकांत का मोमोटा के खिलाफ रिकार्ड 3-7 का था. पर एक तरफा मुकाबले में दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी के शाट्स का उनके पास कोई जवाब नहीं था. श्रीकांत जून और जुलाई में भी मोमोटा से क्रमश: मलेशिया ओपन और इंडोनेशिया ओपन में हार गये थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: