Lead NewsNationalSci & Tech

चांद की सतह पर उतरा चीन का मिशन चांगे-5

मिट्टी व चट्टान लेकर आएगा मिशन चांगे-5

Beijing : चीन का चांगे-5 मिशन चांद पर उतर गया। सप्ताह पूर्व लांच किए गए इस रोबोटिक मिशन की लैंडिंग को टीवी चैनलों ने लाइव कवर नहीं किया, मगर मंगलवार को मिशन के चांद की सतह को छूते ही समाचार फ्लैश किया गय। चांगे-5 चांद से मिट्टी तथा चट्टान लेकर धरती पर लाने वाला है।

मालूम हो कि यह अगले दो दिनों तक चांद पर रहकर वातावरण का परीक्षण करेगा तथा विभिन्न उपकरणों की सहायता से सतह के नमूने जमा करेगा। इससे पहले 1976 में सोवियत का लूना 24 मिशन ने चांद से 200 ग्राम मिट्टी व चट्टान के नमूने लाया था।

बीस दिन लग सकता है मिशन पूरा होने में

उल्लेखनीय है कि 24 नवंबर को इस अंतरिक्ष यान को लांग मार्च-5 रॉकेट के माध्यम से हेनान प्रांत से रवाना किया गया था। चीनी अंतरिक्ष यान का लैंडर चांद की जमीन पर खुदाई कर मिट्टी और चट्टान निकालेगा। इसके बाद इस नमूने को लेकर असेंडर के पास ले जाएगा। असेंडर नमूने लेकर चंद्रमा की सतह से उड़ेगा और अंतरिक्ष में चक्कर काट रहे मुख्य यान से जु़ड़ेगा।

इसके बाद मुख्य अंतरिक्ष यान चंद्रमा की सतह के नमूने को एक कैप्सूल में रखेगा और फिर उसे पृथ्वी के लिए रवाना कर देगा। इस मिशन में 20 दिन से अधिक समय लग सकता है।

करीब चार दशक बाद ऐसा होने वाला है, जब कोई देश चंद्रमा के सतह की खुदाई करके वहां से चट्टान और मिट्टी पृथ्वी पर लाएगा। चीन के अंतरिक्ष यान को चांद तक पहुंचाने के लिए लांग मार्च-5 रॉकेट का इस्तेमाल किया गया है। चीन का यह ताकतवर रॉकेट 187 फुट लंबा और 870 फुट वजनी है।

यह भी पढ़ेंकिसान आंदोलन का साइड इफेक्ट : उत्तर रेलवे ने रद्द की कुछ ट्रेनें, कई के रूट बदले…

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: