World

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने कहा-  चीन सीमा पर हालात ‘सामान्य’ बनाने के लिए उठा रहा कदम

Beijing : भारत और चीन के बीच लद्दाख में सीमा को लेकर तनाव जारी है. दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद हालात थोड़े सामान्य हुए हैं, पर तनाव अब भी बरकरार है. इस बीच चीन ने बुधवार को कहा कि सीमा पर हालात सामान्य बनाने के मकसद से छह जून को दोनों देशों के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के बीच हुई ‘सकारात्मक बातचीत’ के आधार पर भारतीय और चीनी सैनिकों ने कदम उठाने शुरू कर दिये हैं. चीन के विदेश मंत्रालय की एक प्रवक्ता इस बारे में बताया.

एक दिन पहले नयी दिल्ली में अधिकारियों ने कहा कि बुधवार को सैन्य वार्ता के दूसरे दौर के पहले, शांतिपूर्ण तरीके से सीमा गतिरोध को खत्म करने के इरादे से भारत और चीन की सेना ने पूर्वी लद्दाख के कुछ इलाके से पीछे हटने का फैसला किया है.

इसे भी पढ़ें – Corona Update: लोहरदगा से पांच और खूंटी से दो नये कोरोना केस मिले, राज्य में संक्रमितों का आंकड़ा 1430

Sanjeevani

दोनों तरफ से उठाये जा रहे हैं कदम

उन खबरों के बारे में पूछे जाने पर कि, क्या दोनों तरफ के जवान अपनी पुरानी स्थिति की तरफ लौट रहे हैं, चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि सीमा पर स्थिति सहज बनाने के लिए दोनों तरफ कदम उठाये जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि हाल में चीन और भारत के बीच कूटनीतिक और सैन्य माध्यम से सीमा पर स्थिति के बारे में प्रभावी बातचीत हुई और सकारात्मक सहमति बनी. उन्होंने कहा कि सीमा पर स्थिति सहज बनाने के लिए दोनों देश आपस में बनी सहमति के आधार पर कदम उठा रहे हैं.

नयी दिल्ली में सैन्य सूत्रों ने कहा है कि दोनों सेनाएं गलवान घाटी में गश्त प्वाइंट 14 और 15 के आसपास तथा हॉट स्प्रिंग क्षेत्र से हट रही हैं. साथ ही कहा गया है कि चीनी सेना दोनों क्षेत्र में 1.5 किलोमीटर तक पीछे हट गयी है.

इसे भी पढ़ें – दिल्ली : जामा मस्जिद के शाही इमाम के PRO की कोरोना संक्रमण से मौत, बंद हो सकती है मस्जिद

पेंगॉन्ग सो में हिंसक झड़प के बाद पांच मई से ही भारत और चीन की सेना के बीच गतिरोध चल रहा है. पेंगॉन्ग सो झील के पास फिंगर इलाके में भारत द्वारा महत्वपूर्ण सड़क बनाने पर चीन ने कड़ा ऐतराज किया था. इसके अलावा गलवान घाटी में दरबुक-शायोक-दौलत बेग ओल्डी रोड को जोड़ने वाली सड़क पर भी चीन ने आपत्ति जतायी थी. इसके बाद से ही दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

छह जून को सैन्य स्तरीय वार्ता के दौरान भारत और चीन 2018 में वुहान शिखर बैठक में दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच बनी सहमति के आधार पर फैसला करने पर सहमत हुए थे. छह जून को लेह की 14 वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और तिब्बती सैन्य जिले के कमांडर मेजर जनरल लिउ लिन के बीच बैठक हुई थी.

इसे भी पढ़ें – अंधविश्वास की इंतहाः कोरोना भगाने के लिए देवी की पूजा, 400 बकरों की बलि

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button