न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामूः मुख्य सचिव ने दिया आदेश, डीईओ के कथित अवैध संबंधों की होगी जांच

1,527

Palamu:  पलामू जिले में रहते हुए जिला शिक्षा अधीक्षक से जिला शिक्षा पदाधिकारी बनाए गए सुशील कुमार इन दिनों एक महिला शिक्षिका से अवैध के आरोप में चर्चा में आ गये हैं. शिक्षक समुदाय द्वारा दोनों के बीच कथित अवैध संबंध की शिकायत करने पर राज्य के मुख्य सचिव ने इस संबंध में पलामू के आरडीडीई को जांच के आदेश दिये हैं.

mi banner add

जिले के कुछ शिक्षकों ने राज्य के मुख्य सचिव डीके तिवारी को एक पत्र भेजकर डीईओ सुशील कुमार का जिले में पदस्थापित एक शिक्षिका के साथ अवैध संबंध होने का गंभीर आरोप लगाया था. इस आलोक में पत्र जारी करते हुए मुख्य सचिव ने जांच करने का आदेश दिया है और 19 जून तक जांच रिपोर्ट सबमिट करने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ेंः कमीशन लेने वाले डॉक्टरों का केवाईसी भरवाता है मेदांता अस्पताल

सभी बिंदुओं पर होगी  जांच

इसी मामले में माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के निदेशक ने अपने पत्रांक 12/वि-11-11/2019 के माध्यम से पलामू के क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशक को पूरे मामले की जांच का आदेश दिया है. निदेशक ने शिक्षक समुदाय द्वारा परिवाद पत्र में उठाये गये सभी बिन्दु पर जांच कर बिन्दुवार जांच प्रतिवेदन 19 जून तक सौंपने का निर्देश दिया है.

क्या लिखा गया है शिकायत पत्र में

गौरतलब है कि मुख्य सचिव को लिखे परिवाद पत्र में शिक्षक समुदाय ने डीईओ सुशील कुमार के आचरण पर सवाल खड़े किये हैं. कहा गया है कि उनका एक शिक्षिका के साथ अवैध रिश्ता है. डीईओ का वरदहस्त रहने के कारण वह शिक्षिका भी कभी विद्यालय नहीं जाती है. डीईओ भी हमेशा अन्य कार्यों में उनको प्रतिनियोजित करते रहते हैं.

इसे भी पढ़ेंः दर्द-ए-पारा शिक्षक : जिस कमरे में रहते हैं उसी में बकरी पालते हैं, उधार इतना है कि घर बनाना तो सपने जैसा

अन्य शिक्षिकाओं से भी रहे हैं कथित संबंध

कुछ समय पहले तो डालटनगंज लाइब्रेरी में शिक्षिका को स्थायी तौर पर प्रतिनियोजित कर दिया गया था. बाद में हुसैनाबाद के विधायक के दबाव में उनका प्रतिनियोजन तोड़ा गया.

शिक्षक समुदाय का यह भी आरोप है कि जब शिक्षिका हुसैनाबाद में पदस्थापित थी तो कभी भी विद्यालय नहीं जाती थी. इस वजह से प्रधानाध्यापक उनकी हाजिरी काट देते थे. बाद में डीईओ ने प्रधानायापक को निलंबित कर दिया. शिक्षक समुदाय ने वर्ष 2016 में बहाल हुई कई अन्य शिक्षिकाओं के साथ भी डीइओ का अवैध संबंध होने का आरोप लगाया है.

इसे भी पढ़ेंः राज्य में संघर्ष की तकतों को कमजोर करने की हो रही है सजिश, प्रतिमा के क्षतिग्रस्त होने पर उपवास पर बैठे समाज कर्मी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: