न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मुख्यमंत्री ने एग्रीकल्चर एंड फूड समिट की तैयारियों का लिया जायजा, अधिकारियों को दिये कई दिशा-निर्देश

समिट में 4500 किसान सहित 39 विभिन्न देशों के डेलिगेट्स भी होंगे शामिल, समिट का मुख्य उद्देश्य कृषि एवं अनुसंधान क्षेत्रों के उद्दयिमो को प्रोत्साहित करना

40

Ranchi : 29 और 30 नवंबर को रांची के खेलगांव में आयोजित होनेवाले ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट-झारखंड 2018 की तैयारियों का रविवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जायजा लिया. इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश दिये. इस अवसर पर उपायुक्त, वरीय पुलिस अधीक्षक,  कृषि विभाग की सचिव, परियोजना निदेशक, समेकित जनजातीय विकास अभिकरण, उप विकास आयुक्त, अपर जिला दंडाधिकारी संवर्ग के सभी पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी, सदर, कृषि विभाग के संबंधित पदाधिकारी, रांची नगर निगम, असैनिक शल्य चिकित्सक-सह-मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, रांची सहित जिला स्तर के अन्य पदाधिकारी, फिक्की के प्रतिनिधि समेत अन्य उपस्थित थे.

4500 प्रगतिशील किसानों के शामिल होने की सूचना

ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट- झारखंड 2018 में कुल 4500 प्रगतिशील किसानों के शामिल होने की सूचना कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग से प्राप्त हुई है. इसमें 2500 किसान रांची जिला के विभिन्न प्रखंडों से जिला कृषि पदाधिकारी, रांची द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूची के संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं प्रखंड के संबंधित थाना प्रभारी के सत्यापन के पश्चात उन्हें आवंटित पहचानपत्र के आधार पर शामिल होंगे. इसी तरह अन्य 23 जिलों से आनेवाले प्रगतिशील किसानों का सत्यापन कराने का विभाग स्तर से निर्देश निर्गत कराने का निर्देश दिया गया है.

कॉम्प्लेक्स में स्थापित किया जायेगा कंट्रोल रूम

खेलगांव मेगा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में एक कंट्रोल रूम स्थापित किया जायेगा. कंट्रोल रूम प्रभारी सभी प्रखंड से आनेवाले प्रगतिशील किसानों का प्रखंड से आवागमन एवं बसों के मूवमेंट के संबंध में प्रखंड विकास पदाधिकारी से समन्वय स्थापित करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी प्रतिभागी कार्यक्रम के निर्धारित समय से पूर्व कार्यक्रम स्थल पर पहुंच जायें. उक्त समिट हेतु एक मीडिया लॉन्ज भी रहेगा, जिसके जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, रांची प्रभारी पदाधिकारी होंगे. वह सभी मीडियाकर्मियों से समन्वय स्थापित करेंगे तथा संबंधित की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे. असैनिक शल्य चिकित्सक-सह-मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी रांची को निर्देश दिया गया कि वह मुख्य कार्यक्रम स्थल पर एक मेडिकल सेंटर स्थापित करना सुनिश्चित करें, जिसमें कार्डियेक एंबुलेंस एवं अन्य चिकित्सा सुविधा के साथ चिकित्सा पदाधिकारी प्रतिनियुक्त किये जायें. इसके अतिरिक्त सभी पार्किंग स्थल एवं सभी वैसे स्थान, जहां पर डेलिगेट्स को ठहराया गया है, पर चिकित्सा पदाधिकारी एवं फर्स्ट एड की सुविधा उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे.

 15 वाटर टैंकर और आठ चलंत शौचालय की होगी व्यवस्था

रांची नगर निगम द्वारा कार्यक्रम की तिथि पूर्व से ही रांची शहर को साफ-सुथरा रखने हेतु अपेक्षित कार्रवाई की जायेगी एवं सभी अप्रोच रोड पर विशेष रूप से साफ-सफाई करायी जायेगी. कार्यक्रम की तिथि के एक दिन पूर्व खेलगांव मेगा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में 15 वाटर टैंकर एवं आठ चलंत शौचालय की उपलब्धा सुनिश्चित करायी जायेगी. इसके अतिरिक्त सभी पार्किंग स्थल पर पर्याप्त संख्या में चलंत शौचालय एवं वाटर टैंकर की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे.

silk_park

अग्निशमन वाहन और एनडीआरएफ की टीम की होगी प्रतिनियुक्ति

विधि-व्यवस्था एवं रूट निर्धारण वरीय पुलिस अधीक्षक रांची द्वारा 29 और 30 नवंबर हेतु शहर में ट्रैफिक व्यवस्था एवं प्रतिभागियों के पार्किंग स्थल पर प्रतिनियुक्ति हेतु पुलिस अधीक्षक, यातायात रांची को आकलन कर ट्रैफिक प्लान उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया. उपायुक्त द्वारा अपर जिला दंडाधिकारी, विधि-व्यवस्था रांची को कार्यक्रम में विधि-व्यवस्था संधारण हेतु प्रतिनियुक्ति आदेश वरीय पुलिस अधीक्षक से समन्वय स्थापित कर निर्गत करने का निर्देश दिया गया. कार्यक्रम स्थल पर अग्निशमन वाहन एवं एनडीआरएफ की टीम की प्रतिनियुक्ति करने का भी निर्देश दिया गया.

39 देशों के डेलिगेट्स भी हिस्सा लेंगे

उल्लेखनीय है कि ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट में इजरायल, जापान, डेनमार्क, इटली, दक्षिण कोरिया, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, चीन, यूएई पार्टनर कंट्री के रूप में आमंत्रित हैं. साथ ही, इसमें 39 विभिन्न देशों के डेलिगेट्स भी हिस्सा लेंगे. इसका उद्देश्य कृषि एवं अनुसंधान क्षेत्रों के उद्यमियों को प्रोत्साहित करना, उन्हें नवीनतम कृषि यंत्रों से अवगत कराना, देश विदेश की कृषि से संबंधित व्यापारिक एवं नये आविष्कारों से परिचित कराना, उत्पादों हेतु व्यापार का एक मंच एवं अवसर प्रदान करना तथा कृषि उत्पादों के निर्यात का अवसर प्रदान करना है. इसमें एग्रीकल्चर इक्विपमेंट्स, ऑर्गेनिक फार्मिंग इन हॉर्टिकल्चर एंड एग्रीकल्चर, फूड प्रोसेसिंग सहित अन्य बिंदुओं पर विशेष फोकस किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- जांच के समय ड्राइविंग लाइसेंस और अन्य दस्तावेज की दिखानी होगी सॉफ्ट कॉपी

इसे भी पढ़ें- झारखंड शिक्षा परियोजना से टेट उत्तीर्ण 87 शिक्षकों की नियुक्ति की अनुशंसा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: