JharkhandRanchi

अपने चुनावी वादों को लगातार पूरा करते दिख रहे हैं मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन

विज्ञापन

Ranchi. 26 नवबंर 2019 को विपक्ष में रह रही झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) ने राज्य की जनता के समक्ष कई चुनावी वादे किये थे. उस समय विपक्ष के नेता रहे हेमंत सोरेन (अब मुख्यमंत्री बन चुके हैं) ने कहा था कि सरकार में आते ही उनके पार्टी सभी वादों को धीरे-धीरे पूरा करेगी.

इसे भी पढ़ें- मुख्यमंत्री श्रमिक योजना को सीएम ने दिखाई हरी झंडी, कहा- 5 लाख से अधिक परिवारों को मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री अपने इन वादों को पूरा करने की दिशा में लगातार आगे बढ़ते दिख रही है.बात चाहें, आदिवासियों के अधिकारों की हो, शिक्षण व्यवस्था की, यह रोजगार और आर्थिक मदद देने की, सभी में हेमंत लगातार काम रहे है.

advt

आदिवासियों के अधिकारों पर की पहल

नयी सरकार के आते हेमंत ने आदिवासियों के अधिकारों को बचाने की दिशा में कदम उठाया था. अपने पहले कैबिनेट की बैठक में हेमंत ने पत्थलगड़ी आंदोलन के समर्थक आदिवासियों के केस वापस लेने का निर्देश दिया था.

ऐसा कर सरकार ने यह संकेत दे दिया था कि आदिवासियों के अधिकारों की रक्षा से सरकार कोई समझौता नहीं करेगी. उसके बाद हेमंत ने चुनावी वादों को पूरा करने के लिए बजट में कई तरह के प्रावधान किया. बिजली उपभोक्ताओं को 100 यूनिट तक बिजली मुफ्त देने लिए सरकार ने 1000 करोड़ रूपये की व्यवस्था इस वित्तीय वर्ष में की.

रोजगार को गारंटी के रूप में लाने का किया काम

इसी तरह स्थानीय युवाओं को 25 करोड़ रूपये तक के टेंडर में प्राथमिकता देने की पहल हुई. पथ निर्माण विभाग के टेंडरों में इसके लिए सरकार ने आदेश भी जारी किया. किसानों को कर्ज माफी के लिए सरकार ने बजट में 2000 करोड़ रूपये की व्यवस्था की. उम्मीद है कि हेमंत जल्द ही कर्ज माफी की घोषणा करेंगे.

इसे भी पढ़ें- पेयजल एवं स्वच्छता विभाग में 721 पदों पर नौकरी के लिये ठगों ने जारी किया विज्ञापन, विभाग ने बताया फर्जी

adv

रोजगार को गारंटी बनाने की दिशा में हेमंत ने बीते दिनों पहल की है. उन्होंने शहरी क्षेत्र के अकुशल श्रमिकों के लिए मुख्यमंत्री श्रमिक योजना को हरी झड़ी दिखायी. यह योजना मनरेगा की तर्ज पर गारंटी योजना है.

स्वतंत्रता दिवस पर की घोषणाएं

शनिवार यानि 74वें स्वतंत्रता दिवस के दिन सीएम ने जितने भी घोषणा की, वह उनके चुनावी वादों का ही हिस्सा है. सरकारी नौकरियों में आरक्षण के लिए उच्चस्तरीय कमिटी बनाने, विदेशों में उच्च स्तरीय पढ़ाई के लिए विशेष छात्रवृत्ति, स्थानीय भाषाओं को संविधान की 8वीं अनुसूची में जोड़ने की बात उनके चुनावी वादों से ही जुड़ी है. इसी तरह से हेमंत ने नयी खेल नीति बनाने की बात की, जो उनके चुनावी वादे के अंतर्गत खेल को खिलाड़ी उन्मूख बनाने की दिशा में है.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button