न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

महिलाओं-बच्चों को सुरक्षा देने में मुख्यमंत्री विफल, उन्हें तुरंत बर्खास्त किया जाये : आप

122

Ranchi : राज्य में बलात्कार की बढ़ती घटनाओं, महिलाओं के खिलाफ हिंसा एवं महिला सुरक्षा की मांग को लेकर आम आदमी पार्टी की महिला ईकाई के नेतृत्व में राजभवन के समक्ष एक दिवसीय धरना दिया गया. धरना के बाद राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा गया. इसमें कहा गया कि झारखंड में महिलाओं के साथ रेप, मर्डर एवं हिंसा की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं. ऐसा कोई दिन नहीं होता, जब अखबार में झारखंड की महिलाओं के साथ रेप की घटना की खबर न हो. यह दुर्भाग्यपूर्ण ही नहीं, बल्कि रघुवर सरकार एवं प्रशासन की घोर विफलता है. खूंटी से लेकर गोड्डा और पलामू से लेकर कोल्हान तक, राज्य के हर क्षेत्र में महिलाओं के साथ हिंसा और रेप की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं.

इसे भी पढ़ें- खूंटी हिंसा पर बोले रघुवर- संवाद करें ग्रामीण, नहीं तो पाताल से भी ढूंढ निकालेगी पुलिस

महिला सुरक्षा को लेकर बने कठोर कानून

पूरे राज्य में महिलाओं के बीच एक डर का माहौल बन गया है. महिलाओं को सुरक्षा देने में राज्य सरकार पूरी तरह से फेल है. थॉमसन रेट्यूटर्स फाउंडेशन के सर्वे के अनुसार वर्तमान समय में भारत को महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश बताया गया है. यह इस देश के लिए काफी शर्मनाक है. महिला सुरक्षा को लेकर और कठोर कानून बनाने एवं महिला सुरक्षा को लेकर बने सभी कानूनों को राज्य एवं राष्ट्र स्तर पर पूरी कठोरता से लागू करने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें- बूढ़ा पहाड़ घटना में हुई है बड़ी लापरवाही, समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण मर गये पुलिस के दो जवान

 आम आदमी पार्टी ने राज्यपाल से की ये मांगें

•  झारखंड के मुख्यमंत्री झारखंड के गृह मंत्री भी हैं.  वह झारखंड की महिलाओं और बच्चों को सुरक्षा देने में पूरी तरह विफल रहे हैं. उन्हें अपने पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं, अतः उन्हें तत्काल बर्खास्त किया जाये.
•  महिलाओं तथा बच्चियों से रेप के मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में छह महीने के भीतर पूरी हो और दोषियों को “फांसी” की सजा हो. साथ ही बलात्कारियों के हिस्से की पूरी चल-अचल संपत्ति कुर्क हो.
•  राज्य में पिछले पांच वर्षों में रेप की जितनी भी घटनाएं हुई हैं,  सरकार उस पर श्वेतपत्र जारी करके बताये कि राज्य में कितने रेप हुए  हैं. उनमें से कितने की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में खत्म हुई,  कितने की सुनवाई चल रही है, कितने केस में सजा हुई और रेप पीड़िताओं के पुनर्वास के लिए क्या-क्या कदम उठाये गये.
• रेप पीड़िताओं के पुनर्वास के लिए सरकार हर पीड़िता के शिक्षा एवं रोजगार की पूरी व्यवस्था कराये और न्यूनतम  मुआवजा राशि के रूप में हर पीड़िता को कम से कम  25 लाख रुपये दे.

इसे भी पढ़ें- पलामू : नाबालिग को अगवा कर दुष्कर्म करने के आरोप में चार गिरफ्तार

धरना में ये रहे मौजूद

आप के इस एक दिवसीय धरना में राज्य समिति की रेणुका तिवारी, यास्मीन लाल, जिला महिला अध्यक्ष अमिता सिन्हा, महानगर अध्यक्ष सुनील सिंह, संचारी सरकार, अनिर्बान सरकार, प्रियंका श्री, कविता सिंह,  डॉ अविनाश नारायण, दीपक कुमार, सूरज कुमार, नूरी खातून, शंकर रंजन सहित कई लोग उपस्थित रहे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: