JharkhandLead NewsRanchi

अखिल भारतीय सेवाओं के संवर्ग नियमों में प्रस्तावित संशोधनों पर मुख्यमंत्री ने जतायी आपत्ति, कहा- झारखंड में अधिकारियों की है कमी

Ranchi : भारत सरकार द्वारा अखिल भारतीय सेवाओं के संवर्ग नियमों में प्रस्तावित संशोधनों पर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आपत्ति जतायी है. उन्होंने इसको लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है. उन्होंने पत्र में कहा है कि जो मसौदा हमें मिला है वो पहली नजर में पिछले प्रस्ताव की तुलना में थोड़ा कठिन है. मुख्यमंत्री श्री सोरेन ने कहा है कि राज्य सरकार को विशेष रूप से केवल तीन श्रेणी के अधिकारियों यानी आइएएस, आइपीएस और आइएफएस की सेवाएं मिलती हैं. जबकि भारत सरकार को हर साल 30 से अधिक अधिकारियों का एक बड़ा पूल मिलता है. अधिकारियों के इस पूल से भारत सरकार के मंत्रालयों में कमी को आसानी से पूरा किया जा सकता है. पर, झारखंड जैसे छोटे संवर्गों में अधिकारियों की भारी कमी है.

इसे भी पढ़ें:BIG NEWS : चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, पांचों राज्यों में चुनावी रैली और रोड शो पर लागू रहेगी पाबंदी

आज की स्थिति में राज्य में केवल 140 IAS अधिकारी (65%) कार्यरत हैं, जबकि 149 की स्वीकृत संख्या के विरुद्ध झारखंड में भारतीय वन सेवा संवर्ग की स्थिति बेहतर नहीं है.

SIP abacus

उन्होंने कहा है कि केंद्र अपने लिए ऐसे अधिकारियों का एक स्थायी कोर कैडर बनाने पर विचार करे. मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से प्रस्तावित संशोधनों पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया है ताकि मौजूदा ढांचे में परामर्श और सहयोग के लिए जगह तैयार की जा सके.

MDLM
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें:कांची सिंचाई योजनाः बारांडा शाखा नहर की संरचना पर खर्च होंगे 2923 लाख

अधिकारियों की कमी की ओर किया इशारा

अपने पत्र में उन्होंने कहा है कि कई अधिकारी एक से अधिक प्रभार संभाल रहे हैं और अधिकारियों की इस भारी कमी के कारण प्रशासनिक कार्य प्रभावित हो रहा है. इसके अलावा पूल से अधिकारियों को जबरन हटाने से राज्य सरकार के लिए अपने कर्तव्यों का निर्वहन करना बेहद मुश्किल हो जायेगा. यह बताने की आवश्यकता नहीं है कि केंद्र सरकार की अधिकांश योजनाएं और परियोजनाएं राज्य सरकारों के माध्यम से ही कार्यान्वित की जाती हैं.

अधिकारियों की बढ़ती कमी राज्य सरकार और केंद्र सरकार की परियोजनाओं के समय पर कार्यान्वयन में बाधा उत्पन्न करेगी.

इसे भी पढ़ें:नियुक्ति परीक्षाओं में वर्ष 2021 को किया गया कट ऑफ डेट, रघुवर दास ने जतायी आपत्ति

संवर्ग से बाहर प्रतिनियुक्ति अधिकारी व उसके परिवार के लिए अशांति का कारण बनेगा

किसी अधिकारी की उसके संवर्ग के बाहर अचानक प्रतिनियुक्ति निश्चित रूप से अधिकारी और उसके परिवार के लिए भारी अशांति का कारण बनेगी. यह उनके बच्चों की शिक्षा में बाधा भी डालेगा. यह निश्चित रूप से अधिकारी को डिमोटिवेट करेगा. उसका मनोबल कम करेगा.

इसे भी पढ़ें:आजसू पार्टी ने की क्षेत्रीय भाषाओं की लिस्ट से भोजपुरी, मगही, अंगिका को हटाने की मांग

Related Articles

Back to top button