Main SliderNational

गहलोत सरकार छह महीनों के लिए सुरक्षित, विधानसभा में हासिल किया विश्वास मत

Jaipur. राजस्थान की सियासत में एक बार फिर से अशोक गहलोत की जीत हुई है. शुक्रवार को अशोक गहलोत सरकार ने विधानसभा में अपना विश्वास मत हासिल कर लिया. इसके साथ ही आने वाले छह महीनों के लिए राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार सुरक्षित है. सदन ने सरकार द्वारा लाए गए विश्वास मत प्रस्ताव को ध्वनि मत से पारित कर दिया गया.

 

 

 

adv

विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने सदन द्वारा मंत्रिपरिषद में विश्वास व्यक्त करने का प्रस्ताव स्वीकार किए जाने की घोषणा की. इसके बाद सदन की कार्रवाई 21 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गयी. इससे पहले सरकार के प्रस्ताव पर हुई बहस का जवाब देते हुए गहलोत ने विपक्ष द्वारा लगाए गए आरोपों को खारिज कर दिया.

संसदीय मंत्री ने रखा था प्रस्ताव

राजस्थान के संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने विश्वास प्रस्ताव रखा. धारीवाल ने ही बहस की शुरुआत की. मंत्री शांति धारीवाल विश्वास मत पर प्रस्ताव रखते हुए कहा कि भाजपा सरकार गिराने की साजिश कर रही है.

पायलट के लिए दूसरी लाइन में सीट अलॉट

विश्वास मत में चर्चा के दौरान सदन में बैठक व्यवस्था बदली गई थी. डिप्टी सीएम के पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट अब अशोक गहलोत के बगल वाली सीट पर नहीं बैठे थे. उनके लिए निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा के बगल वाली 127 नंबर की सीट अलॉट की गई है.

क्या कहा पायलट ने

विश्वास मत हासिल करने के बाद सचिन पायलट ने कहा कि सरकार द्वारा जो विश्वास प्रस्ताव लाया गया था वह अच्छे बहुमत से पास हुआ. विपक्षी पार्टी द्वारा अनेक कोशिशों के बाद भी सरकार के पक्ष में फैसला आया है.

 

 

सभी अटकलों पर विराम लग गया है. जो मुद्दे उठाए गए थे उन सभी मुद्दों के लिए एक रोडमैप तैयार किया जा रहा है. मुझे पूरा विश्वास है कि रोडमैप को लेकर जल्द ही ऐलान होगा.

advt
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button