National

चिदंबरम  गिरफ्तारी  मामले में सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट की मंशा पर सवाल खड़े किये, मीडिया भी निशाने पर   

NewDelhi : आईएनएक्स मीडिया केस में  पी चिदंबरम की गिरफ्तारी से कांग्रेस आगबबूला है. इस मामले में कांग्रेस नेता मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा कर रही है.  जान लें कि पी चिदंबरम की पैरवी करने वाले  कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी   सुप्रीम कोर्ट, दिल्ली हाई कोर्ट और मीडिया की मंशा पर भी सवाल उठा रहे है.  पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने इशारों-इशारों में दिल्ली उच्च न्यायालय समेत  सुप्रीम कोर्ट के इरादे पर सवाल उठाते हुए कहा कि जिस तरह ऑर्डर पास किये जा रहे हैं, वह बेहद चिंताजनक  है.

चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने वाले दिल्ली हाई कोर्ट के जज को लेकर  सिब्बल ने कहा, उन्होंने 25 जनवरी से  फैसला सुरक्षित रखा था और सात महीने बाद रिटायरमेंट के दो दिन पहले जजमेंट दे दिया.  सिब्बल ने  फैसले की टाइमिंग पर सवाल उठाते हुए  कहा, 3.25 बजे जजमेंट दिया गया.  जजमेंट के बाद हमने अग्रिम जमानत की याचिका पेश की तो इसे शाम चार बजे रिजेक्ट कर दिया गया ताकि हम सुप्रीम कोर्ट भी नहीं जा सकें.

इसे भी पढ़ें –  गिरफ्तारी के बाद रातभर चिदंबरम से किया गया सवाल, आज कोर्ट में होगी पेशी

advt

हमें अपना अधिकार नहीं मिला

सुप्रीम कोर्ट में चली गतिविधियों पर भी सिब्बल ने सवाल खड़े किये. कहा कि मुवक्किल का हक होता है कि वह अपील करे. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में दायर चिदंबरम की अग्रिम जमानत की याचिका के बारे में कहा, हमें कहा गया कि सीजेआई इस पर फैसला लेंगे.  जबकि सुप्रीम कोर्ट हैंडबुक के अनुसार  सीजेआई संवैधानिक बेंच में बिजी हैं तो नियम यह है कि दूसरे सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश इसकी सुनवाई करें.  हमें अपना अधिकार नहीं मिला. रजिस्ट्रार ने बताया कि सीजेआई  शाम चार बजे  सुनवाई करेंगे. सिब्बल  ने कहा कि चार बजे  बजे सुनवाई का समय ही नहीं बचता है.

उन्होंने इशारों-इशारों में कहा कि चिदंबरम की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने जानबूझकर तुरंत सुनवाई नहीं की.  कोर्ट सुनवाई ही नहीं करेगी और दो दिन बाद के लिए याचिका लिस्ट करेगी और इस बीच गिरफ्तारी हो जाये,  तो इसका मतलब है कि पिटिशन  निष्प्रभावी हो गयी.   इस क्रम में सिब्बल व सुप्रीम कोर्ट के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने मीडिया रिपोर्टों पर नाराजगी प्रकट की.  सिब्बल ने कहा,मीडिया कह रहा है कि चिदंबरम भाग गये हैं.  वह वित्त मंत्री रहे चुके हैं, गृह मंत्री रह चुके हैं.उन्होंने सवाल किया कि क्या चिदंबरम भागने वाले आदमी हैं?

इसे भी पढ़ें – आर्थिक बदहाली के बावजूद राजनीतिक कामयाबी के खतरनाक मायने क्या हैं

चिदंबरम को भगोड़ा बताना सही नहीं

सिंघवी  ने कहा कि मीडिया जिस तरह से चिदंबरम को फरार या भगोड़ा बता रहा है, यह सही नहीं है.  उन्होंने कहा कि चिदंबरम कहीं नहीं गये थे. उन्होंने कांग्रेस कार्यालय आकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. फिर भी कहा गया कि भाग गये. यह बहुत दुखद है. कहा कि यह सिर्फ चिदंबरम का मामला नहीं, सिस्टम की चिंता है’. जान लें कि सिब्बल ने चिदंबरम की गिरफ्तारी को सिस्टम में छेड़छाड़ से भी जोड़ दिया और कहा कि यह बहुत गंभीर मामला है. उन्होंने कहा, यह सिर्फ चिदंबरम का मामला नहीं है.

adv

यह सिस्टम से जुड़ा मसला है. कानून को अपना काम करते रहना चाहिए.  इसकी कोई चिंता नहीं है.  चिंता की बात यह है कि सिस्टम को इस तरह तोड़ा-मरोड़ा जा रहा है.  सिब्बल ने भविष्य में हर क्षेत्र के विरोधियों के सरकार का शिकार होने की आशंका प्रकट की.  उन्होंने कहा कि अभी राजनीतिक पार्टी निशाने पर है, कल को मीडिया का शिकार किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें –  झारखंड कैडर के आईएएस अधिकारी केंद्रीय गृह सचिव राजीव गौबा अब नये कैबिनेट सचिव होंगे

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button