न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावः पहले चरण की वोटिंग के बीच नक्सलियों ने किया ब्लास्ट, कोई हताहत नहीं

18 सीटों पर मतदान, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

28

Raipur: छत्तीसगढ़ में हो रहे विधानसभा चुनाव के पहले चरण की 18 सीटों पर सोमवार सुबह मतदान प्रारंभ हो गया. राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि पहले चरण की 10 सीटों पर सोमवार सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ जबकि आठ सीटों पर एक घंटे बाद आठ बजे से मतदान प्रारंभ हुआ.

इसे भी पढ़ेंःएनडीसी ने पूर्व सीएम बाबूलाल की सुरक्षा को कैसे खतरे में डाला, जिला प्रशासन की छवि हुई खराब

नक्सलियों ने किया विस्फोट

इधर मतदान को प्रभावित करने के लिए नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट किया. राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की. अधिकारियों ने बताया कि जिले के तुमाकपाल—नयानार मार्ग पर नक्सलियों ने विस्फोट किया. इस घटना में किसी के भी हताहत होने की सूचना नहीं है.

नक्सल प्रभावित इलाके में तीन बजे तक वोटिंग

अधिकारियों ने बताया कि नक्सल प्रभावित मोहला-मानपुर, अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, कांकेर, केशकाल, कोण्डागांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कोण्टा में सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ तथा दोपहर तीन बजे तक मतदान होगा. वहीं विधानसभा क्षेत्र खैरागढ़, डोंगरगढ़, राजनांदगांव, डोंगरगांव, खुज्जी, बस्तर, जगदलपुर और चित्रकोट में सुबह आठ बजे मतदान प्रारंभ हुआ और शाम पांच बजे तक मतदान होगा. सोमवार सुबह से ही बूथों पर मतदाताओं की कतार लग गई. और वे अपनी बारी का इंतजार करते नजर आये. मतदान करने के लिए महिला मतदाता भी बड़ी संख्या में मतदान केंद्रों पर पहुंच गई थी. वहीं, युवा मतदाताओं में उत्साह देखा गया है.

इसे भी पढ़ें: News Wing Breaking : बदल जायेगा राज्य का प्रशासनिक ढांंचा ! एचआर पॉलिसी, क्षेत्रीय प्रशासन, परिदान आयोग के गठन व निगरानी सेल की मजबूती की कवायद

पहले फेज में 18 सीटों पर वोटिंग

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि राज्य की जिन 18 सीटों के लिये मतदान हो रहा है उसमें से 12 बस्तर क्षेत्र की और छह सीटें राजनांदगांव जिले की हैं. इन 18 विधानसभा सीट के लिए कुल 190 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं, जिनकी किस्मत का फैसला यहां के 31,80,014 मतदाता करेंगे. इनमें से पुरुष मतदाताओं की संख्या 15,57,435 तथा महिला मतदाताओं की संख्या 16,22,492 है. वहीं 87 मतदाता तृतीय लिंग के हैं. अधिकारियों ने बताया कि प्रथम चरण में कुल मतदान केन्द्रों की संख्या 4336 है.

सुरक्षा के कड़े इंतजाम

अधिकारियों ने बताया कि राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में मतदान होने के कारण सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. तथा सुरक्षा बल के लगभग सवा लाख जवानों को तैनात किया गया है. निर्वाचन अधिकारियों ने बताया कि राज्य में चुनाव कार्य के लिए केंद्र से लगभग 65 हजार जवानों को यहां भेजा गया है, जिनमें अर्धसैनिक बल और पुलिस बल के जवान शामिल हैं. क्षेत्र में सुरक्षा बल के जवान लगातार गश्त में हैं. तथा पड़ोसी राज्यों की पुलिस के साथ भी बेहतर तालमेल बनाकर अभियान चलाया जा रहा है. क्षेत्र में संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने के लिए मोबाइल चेक पोस्ट भी बनाया गया है.

कई सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबले की उम्मीद

पहले चरण की 18 सीटों में से 12 सीट अनुसूचित जनजाति के लिए तथा एक सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. जिन 18 सीटों पर वोटिंग हो रही है, उनमें से मुख्यमंत्री रमन सिंह की सीट राजनांदगांव पर देश भर की नजर है. इस सीट पर सिंह के खिलाफ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करूणा शुक्ला चुनाव मैदान में है. शुक्ला को सिंह के खिलाफ प्रत्याशी बनाकर कांग्रेस ने वाजपेयी के नाम पर भाजपा को मिलने वाले वोटों पर सेंध लगाने की कोशिश की है.

इसे भी पढ़ें: मोदी बड़े नेता, पर 2019 में 2014 जैसी लहर मुमकिन नहीं, डिजिटल प्लेटफॉर्म का रोल अहम : प्रशांत

वहीं, पहले चरण के मतदान में मंत्री केदार कश्यप और महेश गागड़ा नारायणपुर और बीजापुर से चुनाव मैदान में हैं तथा भाजपा सांसद विक्रम उसेंडी अंतागढ़ सीट से उम्मीदवार हैं. इधर कांग्रेस के नौ विधायक भानुप्रतापपुर से मनोज सिंह मंडावी, कोंडागांव से मोहन लाल मरकाम, बस्तर से लखेश्वर बघेल, चित्रकोट से दीपक कुमार बैज, दंतेवाड़ा से देवती कर्मा, कोंटा से कवासी लखमा, खैरागढ़ से गिरिवर जंघेल, केसकाल से संतराम नेताम और डोंगरगढ़ से दलेश्वर साहू के भाग्य का फैसला भी आज क्षेत्र के मतदाता करेंगे.

राज्य में विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही यहां जीत के लिए सभी राजनीतिक दलों ने अपनी ताकत झोंक दी है. पिछले चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा को बस्तर और राजनांदगांव क्षेत्र की 18 सीटों में से केवल छह सीटों पर ही जीत मिली थी. राजनीतिक दलों ने यहां कई रैलियां की हैं. छत्तीसगढ़ में अभी तक भाजपा और कांग्रेस के मध्य मुकाबला होता आया है. लेकिन इस बार पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ :जे: और बहुजन समाज पार्टी गठबंधन भी चुनाव मैदान में है. गठबंधन के कारण कई सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: