ChatraCourt NewsJharkhand

चतरा में हुए छात्रवृत्ति घोटाले का केस एसीबी को ट्रांसफर, जानें पूरा मामला

Ranchi : चतरा जिले के कल्याण विभाग में हुए 9.33 करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार मामले को हाइकोर्ट की फटकार के बाद एसीबी को हस्तांतरित कर दिया गया. इस मामले में वर्ष 2018 में प्राथमिकी दर्ज हुई थी, जिसे अब 2021 में एसीबी को सौंपा गया है. गड़बड़ी की जांच के दौरान अस्तित्वविहीन स्कूलों के खातों में 2.25 करोड़ रुपये ट्रांसफर करने का मामला भी पकड़ में आया था.

इसे भी पढ़ें : JAC: ऑफलाइन होगी मैट्रिक और इंटर की कम्पार्टमेंट परीक्षा, सितंबर में एग्जाम लेने की तैयारी

स्कूल के सभी खाते अभियुक्त नाजिर के पारिवारिक सदस्यों के नाम से खोले गये थे. कल्याण विभाग के अधिकारियों और कर्मियों की मिलीभगत से अंजाम दिये गये इस मामले को दो साल से अधिक समय तक पुलिस ने अपने पास ही रखा था. मामले में तत्कालीन जिला कल्याण पदाधिकारी आशुतोष कुमार बर्खास्त किये जा चुके हैं.

 

ram janam hospital
Catalyst IAS

मामले में अभियुक्त बनाये गये सूरज प्रसाद उर्फ विकास प्रसाद द्वारा दाखिल की गयी अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान इस मामले के दो साल से अधिक समय तक पुलिस और न्यायिक दंडाधिकारी के पास पड़े रहने की जानकारी हाइकोर्ट को मिली.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

राज्य में भ्रष्टाचार के मामलों की जांच के लिए एसीबी कार्यरत है. साथ ही भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों की सुनवाई के लिए निगरानी का विशेष न्यायालय भी है. इसके बाद भी मामले के जिला पुलिस और न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में विचाराधीन होने के मुद्दे को हाइकोर्ट ने गंभीरता से लिया.

ज्ञात हो कि अभियुक्त सूरज प्रसाद के पिता इंद्र देव प्रसाद जिला कल्याण कार्यालय में नाजिर के पद पर कार्यरत थे. सूरज प्रसाद का संबंध प्रयास व सेनवार्ड नामक एनजीओ से है. इन दोनों संस्थाओं के खाते में बिना किसी काम के ही कल्याण विभाग का पैसा ट्रांसफर हुआ था.

 

अभियुक्त नाजिर के परिजनों के नाम से खोले इन खातों में ट्रांसफर हुआ छात्रवृति का पैसा

स्कूल का नाम खाता संख्या असली खाताधारक राशि (लाख में )
यूपीएस हुकुइया 6118001500000215 कुमारी तुलसी प्रसाद  

20.49

 

एमएस माझी पाजा 61180015600000206 नाजिर की पुत्री तारा प्रसाद  

20.49

 

यूपीएस काशीलोना 6118001500000022 नाजिर इंद्र देव प्रसाद  

20.49

 

यूएमएस बेसरा 30409588096 नाजिर की पुत्री तारा प्रसाद  

20.49

 

यूपीएस बैरियाचक 30409588664 नाजिर की पुत्री चंदा प्रसाद  

20.49

 

यूपीएस भौरूडीह 30916495365 नाजिर की पत्नी सुनीता देवी  

20.49

 

यूपीएस आसिद्री 11430000088 नाजिर इंद्र देव प्रसाद  

20.49

 

एनपीएस भौरहा 4107000110057185 नाजिर का पुत्र पृथ्वी प्रसाद  

20.49

 

यूपीएस डांडू 34361815400 नाजिर का पुत्र पृथ्वी प्रसाद  

20.49

 

हाइकोर्ट ने सुनवाई के दौरान इन तथ्यों की जानकारी राज्य के डीजीपी को फैक्स से देने का निर्देश दिया. साथ ही यह भी कहा कि डीजीपी यह भी देखें कि इस प्राथमिकी में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम (पीसी एक्ट) की धाराएं लगी होने के बाद भी इसकी जांच स्थानीय पुलिस कैसे कर रही है.

यह मामला सक्षम न्यायालय के बदले न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में अब तक कैसे विचाराधीन है. हाइकोर्ट की इस फटकार के बाद चतरा पुलिस ने इस मामले को एसीबी के हवाले किया है. साथ ही मुकदमे को न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत से निगरानी के न्यायालय में भेजा.

 

Related Articles

Back to top button