न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पुलिस की अनोखी पहल, जनप्रतिनिधियों के सहयोग से जहर की खेती पर कसी जायेगी नकेल

जागरूकता के बाद हुई पोस्ते की खेती तो सख्ती से निपटेगी पुलिस

37

Chatra : मिनी अफगानिस्तान के नाम से बदनाम हो चुके जिले की पहचान अब बदलने वाली है. पुलिस ने चतरा को सफेद जहर की खेती के कलंक से उबारने की योजना बना ली है. पुलिस की इस योजना से जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों के मासूम व गरीब किसानों को कम समय में पैसे के बल पर बहला-फुसलाकर अपराध करने को विवश करने वाले तस्करों की खैर नहीं है.

लोगों को अफीम के हानियों के बार में बतायें

पुलिस की नयी योजना के मुताबिक अब सफेद जहर यानी पोस्ते की खेती पर जनप्रतिनिधियों के सहयोग से नकेल कसा जाएगा. पुलिस ने अपनी योजना के मुताबिक काम भी शुरू कर दिया है. ताकि समय रहते पोस्ता की खेती और तस्करों की योजना को विफल किया जा सके. अभियान के तहत एसपी अखिलेश वारियर के निर्देश पर पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय वरुण देवगम ने वशिष्ठनगर जोरी थाना में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों और पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बैठक की. बैठक के दौरान पुलिस पदाधिकारियों ने जनप्रतिनिधियों से अपने अपने इलाके के किसानों को पोस्ता की खेती से होने वाले हानियों और उसके दुष्परिणामों के प्रति जागरूक करने की अपील की.

hosp3

जनप्रतिनिधि ही तस्‍करों की इंट्री पर लगा सकते हैं रोक

अधिकारियों ने कहा कि जब तक इलाके के जनप्रतिनिधि जागरूक नहीं होंगे. तब तक बाहर से आकर यहां के भोले-भाले किसानों को बहला-फुसलाकर पोस्ता की खेती करवाते रहेंगे. बैठक के दौरान डीएसपी मुख्यालय ने कहा कि जनप्रतिनिधियों के हस्तक्षेप से ही इलाके में तस्करों की एंट्री रोकी जाएगी. हालांकि इस दौरान उन्होंने बातों-बातों में कभी जनप्रतिनिधियों को कानून का हवाला देकर हल्का हड़काया तो कभी पुचकारा भी.

उन्होंने जनप्रतिनिधियों से पुलिस को मदद करने की अपील करते हुए कहा कि जागरूकता अभियान के बाद भी अगर इलाके के किसान तस्करों का सहयोग करते हैं, तो पुलिस रहम दिखाने के बजाय सख्ती से भी निबटने में सक्षम हैं.

तस्‍करों की गतिविधि की सूचना थाने को दें

बैठक के दौरान जनप्रतिनिधियों ने भी कहा कि वे लोग अपने क्षेत्र के किसानों को पोस्ते की खेती नहीं करने के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे. जनप्रतिनिधियों ने कहा कि वह नहीं चाहते कि पोस्ता की खेती कर अफीम की तस्करी में संलिप्त हो कर इलाके के गरीब किसान और उनके परिवार बर्बाद हों. इस दौरान थाना प्रभारी शिव गोप ने भी जनप्रतिनिधियों से क्षेत्र में सक्रिय अफीम तस्करों और उनके समर्थकों के हर गतिविधि की सूचना पुलिस को देने की अपील की. बैठक में वशिष्टनगर जोरी थाना क्षेत्र के सभी पंचायत प्रतिनिधियों के अलावे अन्य जनप्रतिनिधि और बुद्धिजीवी उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: