न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चतरा लोकसभा सीट पर ताल ठोक रहे उम्मीदवार, कई कद्दावार नेता तलाश रहे दल

1,652

Pravin kumar

Ranchi: झारखंड में लोकसभा चुनाव की सुगबुगाहट शुरू हो गई है. विभिन्न दलों के कद्दावर नेता भी टिकट पाने की होड़ में एक-दूसरे से आगे निकलने की कोशिश में है. चतरा लोकसभा सीट में भी उम्मीदवारी को लेकर दांव-पेंच शुरू हो गया है. इस सीट के लिये कई ऐसे प्रत्याशियों का नाम भी सामने आ रहा है जो अपनी पार्टी छोड़ कर दूसरे दल का दामन थाम सकते हैं. चतरा लोकसभा सीट के वर्तमान सांसद का क्षेत्र बदलने की जहां एक ओर चर्चा है. ऐसे में भाजपा से टिकट की होड़ शुरू हो गई है. दावेदारों की सूची भी लंबी होती जा रही है. ऐसे में दिलचस्प मुकाबला होने की संभावना है.

इसे भी पढ़ेंःआम चुनाव 2019: खूंटी से अर्जुन मुंडा होंगे बीजेपी कैंडिडेट ? जमशेदपुर और खूंटी है भाजपा की सेफ सीट

भाजपा से उम्मीदवारी के लिये ये हैं दावेदार

चतरा लोकसभा सीट से जहां भाजपा के अपने वर्तमान सांसद का सीट बदलने की खबर पार्टी सूत्रों से मिल रही है. वही कहा जा रहा है कि वर्तमान सांसद को पार्टी धनबाद या बांका सीट से उम्मीदवार बना सकती है.  ऐसे में भाजपा से टिकट के दावेदार के रूप में राजेंद्र प्रसाद साहू जिला परिषद उपाध्यक्ष, लातेहार, किसलय तिवारी भाजपा युवा प्रदेश अध्यक्ष, पूर्व सांसद धीरेंद्र अग्रवाल एवं नीलम देवी की भी चर्चा हो रही है. जहां पूर्व सांसद धीरेंद्र अग्रवाल भी भाजपा की ओर से उम्मीदवार बनने की इच्छा रख रहे हैं. वही नीलम देवी झारखंड विकास मोर्चा के उम्मीदवार के रूप में 2014 के लोकसभा में तीसरे स्थान पर रही थीं. वो भाजपा से टिकट मिलने पर  झाविमो छोड़ बीजेपी का दामन थाम सकती हैं. या फिर पार्टी इस सीट से किसी अन्य को भी उम्मीदवर बना सकती है.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआइ की संस्थागत ईमानदारी और विश्वसनीयता को कायम रखना अत्यंत आवश्यक : जेटली

महागठबंधन की स्थिति में झामुमो नहीं करेगा दावा

महागठबंधन की स्थिति में चतरा सीट से झारखंड मुक्ति मोर्चा दावेदारी नहीं करेगा. पार्टी के द्वारा गठबंधन में शामिल दलों के प्रत्याशी को साथ देने का मन बना चुका है. अगर सीट आरजेडी के खाते में जाती है तो सुभाष यादव, अरुण सिंह, बलवंत यादव का नाम सामने आ रहा है. झारखंड विकास मोर्चा के हिस्से अगर महागठबंधन में यह सीट गयी तो नीलम देवी एवं योगेंद्र प्रताप सिंह का नाम रेस में आगे है. बीच-बीच में चर्चा ये भी रही है कि चतरा लोकसभा सीट से पूर्व विधानसभा अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी 2019 में चुनाव लड़ सकते है. लेकिन इंदर सिंह नामधारी द्वारा चुनाव लड़ने से इनकार करने के बाद उनकी दावेदारी  समाप्त मानी जा रही है. गठबंधन ना होने की स्थिति में कई दल में रह चुके पूर्व सांसद नागमणि भी अपने लिए टिकट की जुगाड़ में लगे हुए हैं. इनकी प्राथमिकता के बारे में चर्चा है कि चाहे जो भी दल हो इन्हें टिकट दे और यह चतरा लोकसभा सीट से चुनाव लड़े.

कौन-कौन विधानसभा पड़ता है चतरा लोकसभा क्षेत्र में

चतरा लोकसभा सीट के अंतर्गत 5 विधानसभा की सीटें आती हैं जिसमें चतरा, सिमरिया, लातेहार, मनिका और पांकी है. चतरा, सिमरिया, लातेहार विधानसभा अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. वही मनिका विधानसभा अनुसूचित जनजाति के लिए और  पांकी सीट सामान्य है.

इसे भी पढ़ेंःराफेल पर सवाल उठाने वाले CBI डायरेक्टर को ‘चौकीदार’ ने हटाया: राहुल गांधी

कब-कौन रहें एमपी

1957: विजया राजे, सीएनएसपीजेपी (जनता पार्टी)
1962: विजया राजे, स्वतंत्र
1967: विजया राजे, स्वतंत्र
1971: शंकर दयाल सिंह, कांग्रेस
1977: सुखदेव वर्मा, जनता पार्टी
1980: रंजीत सिंह, कांग्रेस
1989: उपेंद्र नाथ वर्मा, जनता दल
1991: उपेंद्र नाथ वर्मा, जनता दल
1996: धीरेंद्र अग्रवाल, भारतीय जनता पार्टी
1998: धीरेंद्र अग्रवाल, भारतीय जनता पार्टी
1999: नागमणि, राष्ट्रीय जनता दल
2004: धीरेंद्र अग्रवाल, राष्ट्रीय जनता दल
2009: इंदर सिंह नामधारी, स्वतंत्र
2014: सुनील कुमार सिंह, भारतीय जनता पार्टी

इसे भी पढ़ेंः CBI घूसकांडः केंद्र के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे वर्मा, 26 अक्टूबर को सुनवाई

कब-किस उम्मीदवार ने कितने वोट लाएं और कौन जीता

1999 के लोकसभा चुनाव में नागमणि आरजेडी उम्मीदवार के रूप में 52.73 प्रतिशत वोट लाकर चुनाव जीते. नागमणि को 219783 वोट मिले थे. वहीं दूसरे स्थान पर धीरेंद्र अग्रवाल भाजपा उम्मीदवार रहे. उन्हें 164684 वोट मिले जो कुल मतदान का 39.51प्रतिशत था.

2004 में हुई लोकसभा चुनाव में आरजेडी उम्मीदवार के रूप में धीरेंद्र अग्रवाल विजय हुए. भाजपा से पाला बदल कर आरजेडी में शमिल हुए धीरेंद्र अग्रवाल को 121464 मत मिले थे. वहीं इंदर सिंह नामधारी जनता दल उम्मीदवार के रूप में दूसरे स्थान पर रहे और नागमणि ने इस चुनाव में बीजेपी का दामन थामा और वह तीसरे स्थान पर रहे.

2009 में हुई 15वीं लोकसभा के चुनाव में इंदर सिंह नामधारी निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में 183036 मत लाकर विजयी हुए. वहीं धीरज प्रसाद साहू ने कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में 52158 वोट प्राप्त किये. नागमणि ने पार्टी बदलते हुए आरजेडी का दामन थामा और वह कुल मतदान का 14.5 प्रतिशत लाकर तीसरे स्थान पर रहे.

इसे भी पढ़ेंःअब पाकुड़ की जनता कह रही कैसे डीसी के संरक्षण में हो रहा है अवैध खनन, सवालों पर डीसी चुप

2014 में हुई लोकसभा के आम चुनाव में भाजपा ने नए चेहरे को चुनाव में उतारा और सुनील कुमार सिंह 41.5 प्रतिशत वोट लाकर चुनाव जीते. इन्हें कुल मतदान के 295862 वोट मिले. वहीं कांग्रेस उम्मीदवार धीरज प्रसाद साहू को 117836 वोट मिले, जो कुल मतदान का 16.53 प्रतिशत था. जेवीएम उम्मीदवार नीलम देवी 104176 मत लाकर तीसरे स्थान पर रहीं, जो कि कुल मतदान का 14.61प्रतिशत था. 2014 में हुई लोकसभा चुनाव में कुल 21 उम्मीदवार ने अपना भाग्य आजमाया और 712 971 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया जबकि 2014 के समय में चतरा लोकसभा सीट में 131 2562 मतदाता थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: