न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चतराः आर्थिक तंगी से जूझ रहे पारा शिक्षक की उचित इलाज के अभाव में मौत

चार महीनों से बाकी है पारा शिक्षकों का मानदेय

908

Chatra: सूबे में पारा शिक्षकों की हालत किसी से छिपी हुई नहीं है. लगातार आर्थिक तंगी से जूझ रहे इन शिक्षकों को परेशानी कम होती नहीं दिख रही. एक ओर कम मानदेय, ऊपर से उनका भी समय पर नहीं मिलना, मुश्किलों को और बढ़ा देता है.

ऐसी ही तंगी झेल रहे चतरा के एक पारा शिक्षक की उचित इलाज के अभाव में मौत हो गयी. या यूं कहें कि पैसों की कमी के कारण वो अपना सही तरीके से इलाज नहीं करवा पाये.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड के ऐसे छह चर्चित हत्याकांड जिसकी गुत्थी अबतक सुलझा नहीं पायी राज्य की जांच एजेंसियां

तंगी के कारण इलाज कराने में असमर्थ

जिले के प्रतापपुर में आर्थिक तंगी से जूझ रहे विष्णुपत भारती जो प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय जुड़ी में पदस्थापित थे. उनकी मृत्यु रविवार को मगध मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान हो गई. परिजनों ने बताया कि अचानक तबीयत खराब होने के बाद, इन्हें मगध मेडिकल कालेज ले जाया गया.

hotlips top

उनके सहकर्मी उमेश कुमार ने बताया कि विष्णुपद भारती कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे. और वो अपना इलाज चाहकर भी कहीं बाहर नहीं करा पा रहे थे. हमेशा आर्थिक तंगी की बात किया करते थे.

इसे भी पढ़ेंःराजद की तर्ज पर आप भी दो फाड़ की कगार पर, डैमेज कंट्रोल के लिए दिल्ली जा रहे प्रदेश संयोजक

30 may to 1 june

जब स्थिति सामान्य से बाहर हो गई तो शनिवार की रात अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई. जिसके बाद परिजनों ने आनन-फानन में मगध मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया, जहां उनकी मृत्यु हो गई.

गौरतलब है कि न्यूनतम मजदूरी पर कार्य कर रहे पारा शिक्षकों का वेतन 4 महीने से लंबित है. इधर पारा टीचर की मृत्यु की सूचना मिलते ही प्रखंड पारा शिक्षक संघ के प्रखंड अध्यक्ष नागेंद्र यादव मिथिलेश कुमार सानू, उमेश कुमार द्वारा शोक व्यक्त किया गया. वहीं विद्यालयों में दो मिनट का मौन रख पारा शिक्षक को श्रद्धांजलि दी गयी.

इसे भी पढ़ेंःनिर्भया हत्याकांड: पांच दिनों की सीबीआइ रिमांड पर आरोपी राहुल रॉय, खुलेंगे कई राज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like