न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चतराः 9 करोड़ 33 लाख के घोटाला मामले में प्रधान सहायक व नाजिर सेवा से बर्खास्त, जिला कल्याण पदाधिकारी की जमानत खारिज

1,550

Chatra:  समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में उपायुक्त श्री जितेंद्र कुमार सिंह द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस किया गया. इसमें उपायुक्त ने पूर्व में हुए बहुचर्चित जिला कल्याण के 9 करोड़ 33 लाख रुपय के घोटाला मामले में प्रधान सहायक काशी प्रसाद गुप्ता एवं नाजिर इंद्रदेव प्रसाद को सरकारी सेवा से बर्खास्त किए जाने की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा प्राप्त मुख्य जांच प्रतिवेदन में इन दोनों को दोषी पाते हुए इन्हें सरकारी सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है. साथ हीं पूर्व के जिला कल्याण पदाधिकारी, आशुतोष एवं लालू जी के अग्रिम जमानत को भी खारिज कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ेंः BREAKING NEWS : सरायकेला में नक्सलियों ने गश्ती दल पर हमला किया, पांच पुलिसकर्मी शहीद

कब्रिस्तान के निर्माण को अवैध बताया

Related Posts

भाजपा शासनकाल में एक भी उद्योग नहीं लगा, नौकरी के लिए दर दर भटक रहे हैं युवा : अरुप चटर्जी

चिरकुंडा स्थित यंग स्टार क्लब परिसर में रविवार को अलग मासस और युवा मोर्चा का मिलन समारोह हुआ.

SMILE

एक और मामले की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए उपायुक्त ने कुंदा प्रखंड के मांझी पाड़ा के मुष्टांगवां गांव में 11 लाख 47 हजार हजार रुपए की लागत से बन रहे कब्रिस्तान के निर्माण को भी अवैध पाए जाने की जानकारी दी. उक्त कब्रिस्तान के लिए तय जमीन पर कब्रिस्तान न बनाकर प्रखंड विकास पदाधिकारी कुंदा, मोहम्मद जहूर आलम द्वारा किसी अन्य जमीन पर कब्रिस्तान का निर्माण कराया जा रहा था. जो नियम के विरुद्ध है. इस कारण मोहम्मद जहूर आलम पर कार्रवाई की गयी. वर्तमान में हाई कोर्ट से इनकी अग्रिम जमानत भी खारिज हो गयी है. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य रूप से सिविल सर्जन चतरा, जिला कल्याण पदाधिकारी समेत अन्य उपस्थित हुए.

इसे भी पढ़ेंः मरीज को रेफर करने वाले डॉक्टर को सर्विस फी का 10 प्रतिशत कमीशन देता है मेदांता अस्पताल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: