न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चतराः स्कूल नहीं खुला तो ग्रामीण करेंगे आंदोलन, चार दिनों का दिया अल्टीमेटम

स्कूल विलय के खिलाफ गोलबंद होते ग्रामीण

297

Chatra: शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार को लेकर राज्य सरकार के स्कूल विलय के निर्णय का विरोध अब उग्र रूप लेता जा रहा है. चतरा में विद्यालयों के मर्जर के विरुद्ध अब ग्रामीण गोलबंद होने लगे हैं. जिले के विभिन्न प्रखंडों में विद्यालयों के दूसरे स्कूल में मर्ज होने के बाद लोग सकते में है. दर्जनों गांव के बच्चे शिक्षा से वंचित हो रहे हैं. कारण यह है कि दर्जनों गांवों के स्कूलों को बंद कर उस विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों को अन्य गांवों में संचालित विद्यालयों में मर्ज कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ेंःटंडवा में बदल गया लेवी वसूली का तरीका, कंपनी से मिलकर भाड़े में ही कर दी 205 रुपये प्रति टन की बढ़ोत्तरी

फिर से खोला जाये स्कूल

सिमरिया प्रखंड अंतर्गत उर्दू विद्यालय फतहा को भी बंद कर दूसरे गांव के विद्यालय में मर्ज कर दिया गया है. सरकार व शिक्षा विभाग के इस निर्णय से ग्रामीण आक्रोशित हैं. ग्रामीणों ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों से मर्जर पर पुनर्विचार करते हुए मध्य विद्यालय फतहा उर्दू को पुनः खोलने की अपील की है. इस बाबत आंदोलित ग्रामीणों ने उपायुक्त जितेंद्र कुमार सिंह से मुलाकात कर बच्चों के भविष्य हित में बंद पड़े विद्यालय को फिर खोलने की मांग की है.

इसे भी पढ़ेंःचाईबासाः कस्तूरबा गांधी आवासीय स्कूल से भागी 76 छात्राएं, शिक्षा विभाग में हड़कंप

ग्रामीणों का चार दिनों का अल्टीमेटम

ग्रामीणों ने डीसी को विद्यालय खोलने को लेकर चार दिनों का समय दिया है. अल्टीमेटम देते हुए ग्रामीणों ने कहा है कि अगर 4 दिनों के भीतर जिला प्रशासन द्वारा पुनः विद्यालय नहीं खुलवाया जाता है तो ग्रामीण बाध्य होकर प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ जाएंगे. ग्रामीणों का आरोप है कि जिला प्रशासन व सरकार के विद्यालयों के मर्जर के निर्णय के बाद गांव के बच्चों का भविष्य अंधकारमय होता जा रहा है. बच्चे इधर-उधर भटक रहे हैं. विद्यालय को जिस विद्यालय में मर्ज किया गया है. उसकी दूरी गांव से दो किलोमीटर है जहां जाने में गांव के गरीब बच्चे असमर्थ हैं. ऐसे में अगर फतहा विद्यालय को पुनः चालू नहीं किया गया तो बच्चे अनपढ़ बनकर रह जाएंगे.

इसे भी पढ़ेंःजिंदा रहते जिसको लोगों ने कौड़ियों में तौला, मरने के बाद उसके शव की कीमत 60 हजार

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: