न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चतरा सांसद सुनील सिंह विरोधियों पर नहीं अपने किये गये कार्यों पर कर रहे अधिक फोकस

116

Chatra:  इस बार के आमचुनाव में चतरा लोकसभा सीट पर सबकी नजर है. भाजपा के सुनील सिंह, राजद के सुभाष यादव और कांग्रेस के मनोज यादव के बीच मुकाबला माना जा रहा है. दावे पर दावे किया जा रहे हैं.

आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी जारी है. लेकिन इन सबके बीच यह जानना दिलचस्प होगा कि असल में चतरा से दिल्ली का टिकट मतदाता किसे देने वाले हैं.

इसका अनुमान लगाने के लिए चतरा लोकसभा के अलग-अलग क्षेत्र के लोगों से बात की गयी.

इसे भी पढ़ेंः वाराणसी में पीएम मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव में क्यों उतरे फ़ौजी तेज बहादुर यादव

इस क्रम में इटखोरी के संजय कुमार ने बताया कि मां भद्रकाली मंदिर का कायापलट हो गया है. यहां सभी तरह की सुविधाएं लोगों को दी जा रही हैं. और इनसबके पीछे सांसद के प्रयास को नकारा नहीं जा सकता है.

वहीं जिले में बन रहे मंडल डैम निर्माण की धीमी को गति को गति प्रदान करने में लोग भाजपा और स्थानीय सांसद के प्रयासों का जिक्र करते हैं. गौरतलब है कि इसी साल जनवरी में प्रधानमंत्री ने मंडल डैम का शिलान्यास किया है.

जिसका लाभ पलामू और चतरा जिले के किसानों सहित अन्य जिलों के किसानों को भी मिलेगा.

इसे भी पढ़ेंः बाजार की चाल तय करेंगे रुपया, कच्चा तेल, कंपनियों के तिमाही नतीजे

इसी क्रम में बालूमाथ के रवि कुमार ने बताया कि रामघाट बांध के उद्धार हो जाने से यहां के लोगों को राहत मिली है.

इसमें सासंद ने निजी तौर पर प्रयास किये हैं. वहीं नेतरहाट के रहने वाले सोमन ऊरांव ने बताया कि नेतरहाट और बेतला को इको टुरिस्ट प्लेस घोषित करवाना आसाना नहीं था. कई सालों से इसके लिए प्रयास हो रहे थे.

अब इसमें सफलता मिली है. इससे यहां के निवासियों में खुशी है. चंदवा टोरी के गोपाल यादव ने बताया कि चंदवा टोरी से शिवपुर और लोहरदगा से टोरी लाइन के लिए कई बार आंदोलन हुए. लेकिन इसमें पिछले दिनों सफलता मिली. इसके लिए सांसद सुनील सिंह ने अलग से प्रयास किये हैं.

विरोधी जो भी कहें, इस लाइन को शुरू करवाने में सांसद के सहयोग को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. इसी के साथ टोरी स्टेशन का विस्तारीकरण भी इन्ही के कार्यकाल में हुआ है.

यहीं के अजय गोप बताते हैं चतरा में जो एनटीपीसी और स्टील प्लांट लगाया गया है, वो अन्यत्र लगने वाला था. लेकिन भाजपा ने इसे जिले में शिफ्ट किया. इससे युवाओं में बेरोजगारी दूर हुई है और बेरोजगारी के वजह से बढ़ रहे अपराध को रोकने में सफलता मिली है.

इसे भी पढ़ेंः BJP ने मालवा-निमाड़ का गढ़ जीतने के लिए उतारे नये योद्धा, मोदी के नाम पर मांग रहे वोट

इसी तरह चतरा के लिए रहने वालें निकेश यादव बताते हैं कि चतरा लोकसभा क्षेत्र में लगभग 200 से अधिक प्रधानमंत्री सड़क की स्वीकृति प्रदान की गयी है. लगभग इन सभी का निर्माण जारी है.

आनेवाले दिनों में जिले की सूरत बदलने वाली है. कई नये कॉलेज शुरू हुए और कई कॉलेज को अपग्रेड करवाया गया है. इस क्रम में पांकी में महिला कॉलेज, मनिका में डिग्री कॉलेज की स्थापना की गयी है. तुबेद नदी पर पुल निर्माण कार्य शुरू हुआ है.

एक मुलाकात के दौरान सांसद सुनील कुमार सिंह ने बताया कि उनकी जीत निश्चित है. उन्हें अपने कथनों से अधिक किये गये कार्यों पर भरोसा है. मतदाताओं से मिलने वाले अपार स्नेह और प्रेम पर भरोसा है.

जो उन्हें हमेशा से मिलता रहा है. जीत हासिल करने के बाद भावी योजनाओं के बारे में श्री सिंह ने बताया कि अभी बहुत सारे काम अधूरे पड़े हैं, जिनको पूरा करना है. इन कार्यों को सांसद अपनी प्राथमिकता बताते हैं. 

सांसद की आगामी प्राथमिकताएंः

  • इको टुरिस्ट में हेरहंज का पाटम डातम और मां नगर भगवती को जोड़ना.
  • रेलवे लाइन के किनारे किनारे कॉरिडोर बनवाना.
  • फ्लाई ओवर ब्रिज टोरी में बनवाना.
  • चंदवा के चटुआग में गांव में पार्क और अन्य सुविधा.
  •  सभी गांवों में सड़क बनवाना जो मुख्यालय तक जुड़ा हो.
  • किसी भी गांव का बरसात के दिनों में संपर्क टूटे ना सभी नदियों और नालो में पुल निर्माण.
  • सभी बड़े प्रखंडों में डिग्री कॉलेज की स्थापना.
  • सभी प्रखंडों में आईटीआई और ट्रेनिंग सेंटर खुलवाना.
  • हर खेत को सिंचाई युक्त करना साथ ही बांस की खेती को बढ़ावा देना.
  • सभी प्रखंडों में स्किल डेवलोपमेन्ट हेतु ट्रेनिंग सेंटरों की स्थापना करवाना जिससे रोजगार को पैदा किया जा सके.
  • इसके अलावा सबसे बड़ी चीज, चतरा तक रेल गाड़ी चलाना और चतरा में ही स्टील प्लान्ट खुलवा देना.
  • इसे भी पढ़ेंः यशवंत सिन्हा ने बिगाड़ा लोकसभा सीट से महागठबंधन उम्मीदवार की जीत का रास्ता : भुवनेश्वर प्रसाद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: