JharkhandRanchi

राजधानी के अधिकतर डॉक से चार्टर्ड साइकिलें गायब

Ranchi: राजधानी रांची में सरकार की तरफ शुरू की गयी चार्टर्ड साइकिल योजना का हाल बुरा है. राजधानी में इसके लिए 40 डॉक बनाये गये थे. अब इन डॉक में एकाध साइकिल ही दिखती है. न्यूजविंग संवाददाता ने सोमवार को सुबह में राजधानी के 10 से अधिक डॉक का जायजा लिया. इनमें से छह डॉक में एक भी साइकिल नहीं थी. जबकि कुछ-कुछ जगहों पर एक, तो कहीं दो-दो साइकिलें दिखीं. ये चार्टर्ड बाइक सड़कों पर भी नहीं दिख रही हैं.

इसे भी पढ़ेंः 2019 के बाद चुनाव नहीं लड़ने का हेमा मालिनी ने किया ऐलान, मथुरा से भरा पर्चा

चार्टर्ड बाइक की शुरुआत साइकिल को प्रेरित करने के लिए की गयी थी

काफी तामझाम से जिला प्रशासन की तरफ से चार्टर्ड बाइक की शुरुआत साइकिल को प्रेरित करने के लिए की गयी थी. एक से डेढ़ महीने में इस योजना की शिकायतें अधिक आनी शुरू हो गयीं. कंपनी के अधिकारियों का दावा है कि एक साइकिल (बाइक) 24 घंटे के लिए दी जाती है. 24 घंटे में साइकिल वापस नहीं मिलने पर 10 हजार रुपये तक का जुर्माना लगता है.

advt

पर न तो इसका अनुपालन हो रहा है और न जुर्माने की राशि का हिसाब मिल रहा है. जिला प्रशासन की तरफ से 600 से अधिक साइकिलें जर्मनी से मंगायी गयी थीं. इसका उद्देश्य साइकिल चालन को प्रोत्साहित करना था. इसमें यह कहा गया था कि इसमें डिजिटल ट्रैकिंग की व्यवस्था है और बगैर ऐप के कोई इसकी सवारी भी नहीं कर सकता है.

इसे भी पढ़ेंः आदिवासी अस्तित्व बचाओ महारैली पर जिला प्रशासन ने लगायी रोक, आयोजक बोले सरकार आदिवासी आवाज दबाना चाहती है

क्या कहते हैं चार्टर्ड बाइक के अफसर

चार्टर्ड बाइक के अफसर अराज खान का कहना है कि साईिकल दिन भर लोग चलाते हैं. 24 घंटे में साइकिल वापस दिया जाना अनिवार्य है. यदि चार्टर्ड बाइक किसी जगह पर पड़ी दिखती है,  तो कंपनी के लोग उसे उठा कर निकटवर्ती डॉक तक पहुंचा देते हैं.

इसे भी पढ़ेंः पलामू : सड़क हादसे में भाजपा आइटी सेल के जिला संयोजक समेत दो की मौत

adv

सुबह 8.30 से 9.30 बजे रांची के विभिन्न डॉक की स्थिति

डॉक  स्टेशन साइकिल  
बिग बाजार डॉक एक साइकिल  
रांची क्लब डॉक शून्य  
रतन टॉकिज डॉक एक  
अलबर्ट एक्का चौक डॉक चार  
वेंडर मार्केट के समीप शून्य  
कचहरी चौक शून्य  
रेडियम रोड डॉक एक  
चांदनी चौक दो  
कांके रोड डॉक शून्य  
इस्टर्न मॉल के समीप दो  
ओल्ड एचबी रोड डॉक शून्य  

 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button