न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रभारी व्यवस्था में ही शिव कुमार ने निबटाया जिला अभियंता का कामकाज

अब ले चुके हैं वीआरएस.

28

Ranchi : जिला ग्रामीण विकास अभिकरण (डीआरडीए) रांची में जिला अभियंता के रूप में काम करनेवाले शिव कुमार ने बगैर अर्हता के ही कई वर्षों तक कामकाज निबटाया. जिला अभियंता का पद कार्यपालक अभियंता स्तर के अधिकारी का पद है. सूत्रों का कहना है कि सहायक अभियंता रहते हुए ही शिव कुमार ने डीआरडीए से सांसद, विधायक कोष और डीआरडीए की योजनाओं को पूरा करने में महति भूमिका निभायी. सरकार की तरफ से प्रभारी व्यवस्था के तहत इन्हें जिला अभियंता का कामकाज निबटाने की अनुमति दी गयी थी. अब ये सरकारी नौकरी से अलग हो गये हैं. वीआरएस ले ली है. रांची से इन्हें बोकारो का जिला अभियंता बनाया गया था. वहां कुछ दिन रहने के बाद ही इन्होंने वीआरएस ले लिया.

इसे भी पढ़ें : पेयजल और स्वच्छता विभाग : मोटर पंप खरीद में दो कंपनियों को ही तरजीह

सरकार के करीबी आईएएस के काफी करीब

तत्कालीन मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री का इन्हें वरदहस्त प्राप्त था. इतना ही नहीं स्थानीय सांसद और रांची लोकसभा के अंतर्गत आनेवाले सभी विधानसभा सीट के प्रतिनिधियों के भी ये चहेते रहे हैं. सरकारी नौकरी में रहते हुए इन्होंने अपनी कंपनी बनायी, जिसमें निदेशक अपने ही रिश्तेदारों को बना दिया. इनमें से एक रिश्तेदार केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) में हैं, जबकि एक भाई नगर विकास विभाग की एजेंसी में पदस्थापित हैं. तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के समय इनका कार्यकाल सबसे स्वर्णीम रहा है. उस समय सरकार के करीबी आईएएस अधिकारी डॉ प्रदीप कुमार के जिला अभियंता शिव कुमार काफी करीबी रहे थे. इनके जरिये कई महत्वपूर्ण भवनों के निर्माण का कार्यादेश इन्हें मिला था और इसी दौरान इनकी टीम ने रांची में सबसे अधिक अपार्टमेंट बनाये. उस समय रांची नगर निगम से इनके प्रोजेक्ट का भवन प्लान (नक्शा) भी आसानी से पारित हो जाता था.

इसे भी पढ़ें : साहेबगंज : समदा घाट में मालवाहक जहाज पर लदे, पांच हाईवा नदी में गिरे, चार जहाज पर ही पलटे, अफरा-तफरी

कांके रोड में नीलांबर इस्टेट से शुरू किया था अपार्टमेंट बनाने का काम

palamu_12

जिला अभियंता शिव कुमार ने कांके रोड के नीलांबर इस्टेट से अपार्टमेंट बनाने का काम शुरू किया था. उस समय अपार्टमेंट के फ्लैट की दर तीन सौ रुपये प्रति वर्ग फीट खोली गयी थी. इसके बाद कोयला विहार, रश्मिरथी, एजी मोड़ के निकट एक बड़ा अपार्टमेंट, सरकार के उत्पाद विभाग का बिल्डिंग भी इन्होंने बनाया है. इनके पार्टनरों में सलूजा इंफ्रास्ट्रक्चर और हिरानी बिल्डर्स भी हैं. राजधानी में अधिकतर बड़ी इमारतों में इनकी भागीदारी रही है.
अब खेल रहे हैं करोड़ों की परियोजनाओं में अब तत्कालीन जिला अभियंता शिव कुमार नयी कंपनी के मार्फत करोड़ों की सरकारी योजनाओं से खेल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : जिप अध्यक्ष ने किया कार्यक्रम का बहिष्कार, कहा- स्वास्थ्य मंत्री जनसमस्याओं के प्रति गंभीर नहीं

राजधानी में ही हाई10 अब एक बड़ी कंपनी बन गयी है. सरकार के भवन निर्माण निगम लिमिटेड, झारखंड शहरी आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारियों के साथ इनके बेहतर संबंध बताये जाते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: