Dharm-JyotishLead NewsNational

चारधाम यात्रा हुई शुरू , श्रद्धालुओं के लिए SOP जारी, जानें किन नियमों का पालन है अनिवार्य

बदरीनाथ में प्रतिदिन अधिकतम 1000, केदारनाथ में 800 लोग ही जा सकेंगे

New Delhi : कोविड-19 महामारी के कारण लंबे समय तक स्थगित रहने के बाद इस वर्ष की चारधाम यात्रा शनिवार से शुरू हो गयी है.उत्तराखंड उच्च न्यायालय द्वारा चारधाम यात्रा पर रोक हटाए जाने के एक दिन बाद शुक्रवार को राज्य सरकार ने कोविड-19 संबंधी नियमों के सख्त अनुपालन के साथ विस्तृत मानक प्रचालन विधि (एसओपी) जारी कर दी .

इसे भी पढ़ें :एक्टर सोनू सूद और सहयोगियों ने 20 करोड़ रुपये से अधिक का टैक्स किया चोरी

गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 श्रद्धालुओं को अनुमति

उच्च गढवाल हिमालयी क्षेत्र के चारधाम के नाम से प्रसिद्ध बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री मंदिर हर साल अप्रैल-मई में दर्शनों के लिए खुलते हैं लेकिन इस बार कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण यह यात्रा शुरू नहीं हो पाई . उच्च न्यायालय के श्रद्धालुओं की संख्या सीमित रखे जाने के निर्देशों के मददेनजर एसओपी में बदरीनाथ में प्रतिदिन अधिकतम 1000, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 श्रद्धालुओं की संख्या निर्धारित कर दी गयी है .

advt

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : BJP का दामन छोड़ दीदी का पल्लू पकड़ा पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने

72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर कोरोना मुक्त रिपोर्ट

यात्रा के लिए प्रत्येक तीर्थयात्री को 72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर कोरोना मुक्त रिपोर्ट या कोविड रोधी टीके की दोनों खुराक लगे होने का प्रमाणपत्र पेश करना जरूरी होगा. इसके अलावा, कोरोना की दृष्टि से संवेदनशील राज्यों से आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए 72 घंटे पहले की कोरोना मुक्त जांच रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा .

इसे भी पढ़ें :Latehar: करम विसर्जन करने गयीं 7 लड़कियों की गड्ढे में डूबकर मौत

मंदिर में मूर्तियों या घंटियों को छूने पर मनाही

इसके लिए राज्य के बाहर से आने वाले तीर्थयात्रियों को उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण के समय कोविड मुक्त रिपोर्ट या टीकाकरण का प्रमाणपत्र अपलोड करना होगा.

बच्चों एवं बीमार एवं अति वृद्धों को यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी . मंदिर में दर्शन हेतु एक बार में तीन श्रद्धालु ही प्रवेश‌ करेंगे . मंदिर में मूर्तियों या घंटियों को छूने पर मनाही होगी .

इसे भी पढ़ें :RIMS : सालाना बजट करोड़ों का, मरीजों की चादर धोने के लिए धेला तक नहीं

मंदिर के गर्भगृहों में प्रवेश की अनुमति नहीं

देवस्थानम बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने बताया कि तीर्थ यात्री सामाजिक दूरी के साथ पूजा में शामिल हो सकेंगे लेकिन उन्हें मंदिर के गर्भगृहों में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी.

केदारनाथ के कपाट 17 मई, बदरीनाथ के कपाट 18 मई, यमुनोत्री के 14 मई तथा गंगोत्री के 15 मई को कपाट खुले थे लेकिन श्रद्धालुओं को उनके दर्शन की अनुमति नहीं थी . अक्टूबर-नवंबर में चारधाम यात्रा के समापन से पहले अभी भी चारधाम यात्रा के लिए डेढ़ से दो महीने का समय शेष है.

इस बीच, मुख्य सचिव एसएस संधु ने शुक्रवार को केदारनाथ का दौरा किया और हिमालयी धाम की सुरक्षित तीर्थयात्रा के लिए अधिकारियों को पर्याप्त इंतजाम करने के निर्देश दिए .

संधु ने केदारपुरी में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों की भी समीक्षा की और उन्हें गुणवत्ता के साथ तेजी से करने के निर्देश दिए .

इसे भी पढ़ें :Ranchi News : फर्जी जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र मामले में पुलिस आज तक नहीं कर पाई अनुसंधान

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: