न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चंद्रयान 2 ने ली चंद्रमा के सतह के 4375 किमी ऊपर से गड्ढों की तस्वीरें

11 दिन बाद सात सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में सॉफ्ट लैंडिंग करेगा

1,754

Bengaluru : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने सोमवार को कहा कि वर्तमान समय में चंद्रमा के चक्कर लगा रहे चंद्रयान..2 ने चंद्रमा की सतह की कुछ और तस्वीरें ली हैं. जिसमें कई विशाल गड्ढे (क्रेटर) दिखायी दे रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- विधानसभा चुनावः दबाव की राजनीति पर निगम के पार्षद, रांची और हटिया में उतार सकते हैं उम्मीदवार

क्या हैं गड्ढों के नाम

इसरो ने तस्वीरें साझा करते हुए एक बयान में कहा कि चंद्रयान द्वारा जो तस्वीरें ली गई हैं वे ‘सोमरफेल्ड’, ‘किर्कवुड’, ‘जैक्सन’, ‘माक’, ‘कोरोलेव’, ‘मित्रा’, ‘प्लासकेट’, ‘रोझदेस्तवेंस्की’ और ‘हर्माइट’ नाम के विशाल गड्ढों की हैं.

इन विशाल गड्ढों का नाम महान वैज्ञानिकों, अंतरिक्ष यात्रियों और भौतिक विज्ञानियों के नाम पर रखा गया है. विशाल गड्ढे ‘मित्रा’ का नाम भारतीय भौतिक विज्ञानी एवं पद्म भूषण से सम्मानित प्रोफेसर शिशिर कुमार मित्रा के नाम पर रखा गया है.

hotlips top

प्रोफेसर मित्रा को आयनमंडल और रेडियोफिजिक्स के क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण कार्य के लिए जाना जाता है. अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि चंद्रमा के सतह की ये तस्वीरों 23 अगस्त को चंद्रयान..2 के टेरेन मैपिंग कैमरा..2 द्वारा करीब 4375 किलोमीटर की ऊंचाई से ली गयी. चंद्रयान..2 द्वारा ली गई पहली तस्वीर इसरो ने 22 अगस्त को जारी की थी.

इसे भी पढ़ें- धनबाद : घड़बड़ गांव में नहीं बजती शहनाई, कुंवारे ही बूढ़े हो जाते हैं लड़के

सात सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में करेगा सॉफ्ट लैंडिंग

चंद्रयान..2 तीन मॉड्यूल वाला अंतरिक्ष यान है जिसमें आर्बिटर, लैंडर और रोवर शामिल है. इस यान को 22 जुलाई को प्रक्षेपित किया गया था. इसरो ने गत 21 अगस्त को ‘चंद्रयान-2’ को चांद की कक्षा में दूसरी बार आगे बढ़ाने की प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूरी की थी.

इसरो ने इसके साथ ही कहा था कि इस प्रक्रिया (मैनुवर) के पूरी होने के बाद यान की सभी गतिविधियां सामान्य हैं. यान को चंद्रमा की कक्षा में आगे बढ़ाने के लिए अभी और तीन प्रक्रियाओं को अंजाम दिया जाएगा.

आगामी दो सितंबर को लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा और सात सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ करेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like