न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चंद्रयान-2  पृथ्वी की कक्षा में स्थापित , पीएम मोदी ने  वैज्ञानिकों  को बधाई दी

छह -आठ सितंबर के बीच चांद पर  चंद्रयान उतरेगा. 16 दिनों चंद्रयान-2 पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए चांद की तरफ बढ़ेगा.

47

NewDelhi :  इसरो ने चंद्रयान-2 की सफल लॉन्चिंग के साथ ही नया इतिहास रच दिया.  चंद्रयान सिर्फ 16 मिनट बाद पृथ्वी की कक्षा में स्थापित हो गया.  इसरो चीफ के. सिवन ने चंद्रयान की सफल लॉन्चिंग की घोषणा की.  कहा कि इस मिशन की सोच से बेहतर शुरुआत हुई है. इसरो की इस शानदार कामयाबी पर पीएम नरेंद्र मोदी ने बधाई दी है.  जान लें कि  लगभग 50 दिन बाद छह -आठ सितंबर के बीच चांद पर  चंद्रयान उतरेगा. 16 दिनों चंद्रयान-2 पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए चांद की तरफ बढ़ेगा. इस दौरान चंद्रयान की अधिकतम गति 10 किलोमीटर/प्रति सेकंड और न्यूनतम गति तीन किलोमीटर/प्रति सेकंड होगी

16 दिनों बाद चंद्रयान पृथ्वी की कक्षा से बाहर निकलेगा

6 दिनों बाद चंद्रयान पृथ्वी की कक्षा से बाहर निकलेगा.  इस दौरान चंद्रयान-2 से रॉकेट अलग हो जायेगा. पांच दिनों बाद चंद्रयान-2 चांद की कक्षा में पहुंचेगा.  इस दौरान उसकी गति 10 किलोमीटर प्रति सेकंड और 4 किलोमीटर प्रति सेंकंड रहेगी.    धरती और चंद्रमा के बीच की दूरी लगभग 3 लाख 84 हजार किलोमीटर है.  चंद्रयान-2 में लैंडर-विक्रम और रोवर-प्रज्ञान चंद्रमा तक जायेंगे.  चांद की सतह पर उतरने के 4 दिन पहले रोवर विक्रम उतरने वाली जगह का मुआयना करना शुरू करेगा,

लैंडर यान से डिबूस्ट होगा. ‘विक्रम’ सतह के और नजदीक पहुंचेगा.  उतरने वाली जगह को स्कैन करना शुरू करेगा और फिर शुरू होगी लैंडिंग की प्रक्रिया। लैंडिंग के बाद लैंडर (विक्रम) का दरवाजा खुलेगा और वह रोवर (प्रज्ञान) को रिलीज करेगा.  रोवर के निकलने में करीब 4 घंटे का समय लगेगा.  फिर यह वैज्ञानिक परीक्षणों के लिए चांद की सतह पर निकल जायेगा, इसके 15 मिनट के अंदर ही इसरो को लैंडिंग की तस्वीरें मिलनी शुरू हो जायेगी.

इसे भी पढ़ें : ISRO ने लॉन्च किया चंद्रयान-2, चंद्रमा के साउथ पोल पर उतरेगा

इसरो चीफ ने कहा, कड़ी मेहनत से मिली सफलता मिली

Related Posts

मोदी सरकार खुफिया अफसरों के माध्यम से  महबूबा मुफ्ती  और उमर अब्दुल्ला का रुख भांप रही है!

केंद्र सरकार  घाटी में शांति और सद्भाव स्थापित करने के मकसद से राज्य दो पूर्व मुख्यमंत्रियों को साधने की कोशिश में जुटी है.

SMILE

चंद्रयान-2 की सफल लॉन्चिंग के बाद सिवन ने कहा, ‘वैज्ञानिकों और टीम इसरो की कड़ी मेहनत से यह सफलता मिली है।’ उन्होंने कहा कि 15 जुलाई को मिशन में तकनीकी दिक्कत के बाद टीम इसरो ने इसे तुरंत दूर करने के लिए पूरी ताकत झोंक दी। उन्होंने कहा, ‘टीम इसरो ने घर-परिवार की चिंता छोड़ लगातार 7 दिन तक इस दिक्कत को दूर करने के लिए सबकुछ झोंक दिया। यह कड़ी मेहनत का फल है। मैं सभी को बधाई देता हूं.

पीएम मोदी ने दी बधाई

पीएम मोदी ने इस ऐतिहासिक पल के लिए इसरो को बधाई दी है.  पीएम ने कहा कि चंद्रयान-2 की सफल लॉन्चिंग हमारे वैज्ञानिकों की ताकत को दर्शाता है,  पूरा भारत इस क्षण पर गर्व महसूस कर रहा है.  राज्यसभा और लोकसभा में इसरो की इस शानदार सफलता पर बधाई दी गयी. राज्यसभा स्पीकर वेकैंया नायडू ने इसरो को इस अदभुत सफलता के लिए बधाई दी जबकि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने भी इसरो को बधाई दी.

इसे भी पढ़ें : पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह ने कहा,  गांधी  परिवार का कोई कांग्रेस अध्यक्ष नहीं बना तो पार्टी  24 घंटे में बिखर जायेगी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: