न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नतीजों से पहले कवायद तेज, राहुल, पवार के बाद लखनऊ में अखिलेश और माया से मिले चंद्रबाबू नायडू

290

Lucknow: लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के तहत रविवार को वोट डाले जायेंगे. 23 मई को नतीजे आने से पहले ही सरकार बनाने की कवायद तेज हो गयी है. इसी कड़ी में विपक्ष संभावित समीकरणों को लेकर सक्रिय हो गया है. आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार को एक के बाद एक कई विपक्षी नेताओं से मुलाकात कर रणनीति तैयार की. दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और फिर एनसीपी चीफ शरद पवार से मिलने के बाद उन्होंने सपा के प्रमुख अखिलेश यादव पसपा सुप्रीमो मायावती से मुलाकात की. नायडू की यह सक्रियता तीसरे मोर्चे की संभावनाओं के तौर पर भी देखी जा रही है.

इसे भी पढ़ें –  CEC सुनील अरोड़ा का अशोक लवासा को जवाब, सार्वजनिक बहस से गुरेज नहीं रहा लेकिन हर चीज का एक समय होता है  

कर्नाटक मॉडल

माना जा रहा है कि केंद्र में कर्नाटक मॉडल पर सरकार बनाने की जुगत शुरू हो सकती है. इस बीच, जेडीएस के मुखिया एचडी देवेगौड़ा ने कांग्रेस के साथ मतभेद की अटकलों को खारिज करते हुए कहा है कि वे कांग्रेस को समर्थन के लिए तैयार हैं. ऐसे में अटकलों का दौर शुरू हो गया है. गौरतलब है कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में नतीजों के दौरान अपनी सरकार नहीं बनते देख कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन देने की घोषणा कर दी थी. इसके बाद एच डी कुमारस्वामी राज्य के सीएम बने थे.

इसे भी पढ़ें – केदारनाथ : प्रधानमंत्री मोदी ने गुफा में लगाया ध्यान, 12250 फीट की ऊंचाई पर है गुफा

माया-अखिलेश 23 के बाद खोलेंगे पत्ते!

मायावती और अखिलेश यादव 23 के बाद ही अपने पत्ते खोलेंगे. दोनों ने जोड़ तोड़ से खुद को अलग रखा है. वहीं नायडू से उनकी मुलाकात के कई मायने लगाये जा रहे हैं. इधर कांग्रेस चाहती है कि सभी गैर-एनडीए नेता नतीजों से पहले एक बार बैठक करें.  वहीं, सूत्रों की मानें तो नायडू ने दोनों नेताओं को दिल्ली में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के घर पर होनेवाली बैठक में शामिल होने के लिए मनाने की कोशिश की है.

इसे भी पढ़ें – राजमहल, दुमका और गोड्डा लोकसभा सीट के लिए 19 मई को सुबह सात बजे से मतदान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: