न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारत में भी मंदी के आसार! पीएम मोदी ने वित्त मंत्री सीतारमण से की मंत्रणा

928

New Delhi: भारत में भी मंदी के संकेत दिखायी दे रहे हैं. उपभोक्ता मांग और निवेश में कमी के कारण देश में मंदी का संकट गहराता जा रहा है.

गौरतलब है कि जून 2019 में सरकार के पूंजीगत व्यय में तकरीबन 30 फीसदी की कमी आयी है. वहीं इंडिया इंक द्वारा नये प्रोजेक्ट के ऐलान पर भी इसका असर दिख रहा है.

इसे भी पढ़ेंःबिहार में थर्ड फ्रंट की तैयारी? मांझी से मिले पप्पू यादव, कन्हैया से भी मुलाकात

मंदी को लेकर मंत्रणा

Trade Friends

भारतीय अर्थव्यवस्था में मंदी के संकेत को देखते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बैठक की. जिसमें कई शीर्ष अधिकारी भी शामिल हुए.

बैठक में आर्थिक मंदी से निपटने के उपायों पर चर्चा हुई. हालांकि जो संकेत मिल रहे हैं वो राहत देने वाले नहीं है. फिलहाल निवेश में आयी कमी अभी लंबी चलेगी और देश की अधिकतर मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियों को भी निकट भविष्य में इसके सुधरने की उम्मीद नहीं दिख रही है.

जनसत्ता की खबर के अनुसार, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अप्रैल-जून 2019 में एक इंडस्ट्रियल आउटलुक सर्वे किया था. जिसमें शामिल 1231 मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां शामिल हुई थी.

इस सर्वे के अनुसार, देश की 31.6 फीसदी मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां ही अपने ऑर्डर में वृद्धि की उम्मीद कर रहीं थी, जो कि बीते दस सालों में सबसे कम है. हालत ये है कि नये प्रोजेक्ट नहीं आ रहे हैं.

स्टेटिक एंड प्रोग्राम इंप्लीमेंटेशन मंत्रालय के अनुसार, देश में पीपीपी मोड से चल रहे 65 प्रोजेक्ट में से 1 मई, 2019 तक 37 प्रोजेक्ट देरी से चल रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःजमशेदपुर :  40 साल से लटकी 100 करोड़ की स्वर्णरेखा नहर परियाेजना का खर्च बढ़कर 15 हजार करोड़ हुआ

नए प्रोजेक्ट के लिहाज से देखे तो जून 2019 की तिमाही सबसे खराब तिमाही में से एक रही. दरअसल नए प्रोजेक्ट की घोषणाओं में भारी कमी आयी है.

Centre for Monitoring of Indian Economy (CMIE) के अनुमान के मुताबिक साल 2018-19 में जहां 2.7 लाख करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट का ऐलान हुआ. जबकि जून 2019 की तिमाही में यह घटकर सिर्फ 71,000 करोड़ पर आ गया है.

इसे भी पढ़ेंःपलामू: ट्रैक्टर और ऑटो में जोरदार टक्कर, महिला समेत दो की मौत-तीन गंभीर

SGJ Jewellers

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like