BusinessNational

भारत में भी मंदी के आसार! पीएम मोदी ने वित्त मंत्री सीतारमण से की मंत्रणा

New Delhi: भारत में भी मंदी के संकेत दिखायी दे रहे हैं. उपभोक्ता मांग और निवेश में कमी के कारण देश में मंदी का संकट गहराता जा रहा है.

गौरतलब है कि जून 2019 में सरकार के पूंजीगत व्यय में तकरीबन 30 फीसदी की कमी आयी है. वहीं इंडिया इंक द्वारा नये प्रोजेक्ट के ऐलान पर भी इसका असर दिख रहा है.

advt

इसे भी पढ़ेंःबिहार में थर्ड फ्रंट की तैयारी? मांझी से मिले पप्पू यादव, कन्हैया से भी मुलाकात

मंदी को लेकर मंत्रणा

भारतीय अर्थव्यवस्था में मंदी के संकेत को देखते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बैठक की. जिसमें कई शीर्ष अधिकारी भी शामिल हुए.

बैठक में आर्थिक मंदी से निपटने के उपायों पर चर्चा हुई. हालांकि जो संकेत मिल रहे हैं वो राहत देने वाले नहीं है. फिलहाल निवेश में आयी कमी अभी लंबी चलेगी और देश की अधिकतर मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियों को भी निकट भविष्य में इसके सुधरने की उम्मीद नहीं दिख रही है.

adv

जनसत्ता की खबर के अनुसार, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अप्रैल-जून 2019 में एक इंडस्ट्रियल आउटलुक सर्वे किया था. जिसमें शामिल 1231 मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां शामिल हुई थी.

इस सर्वे के अनुसार, देश की 31.6 फीसदी मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां ही अपने ऑर्डर में वृद्धि की उम्मीद कर रहीं थी, जो कि बीते दस सालों में सबसे कम है. हालत ये है कि नये प्रोजेक्ट नहीं आ रहे हैं.

स्टेटिक एंड प्रोग्राम इंप्लीमेंटेशन मंत्रालय के अनुसार, देश में पीपीपी मोड से चल रहे 65 प्रोजेक्ट में से 1 मई, 2019 तक 37 प्रोजेक्ट देरी से चल रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःजमशेदपुर :  40 साल से लटकी 100 करोड़ की स्वर्णरेखा नहर परियाेजना का खर्च बढ़कर 15 हजार करोड़ हुआ

नए प्रोजेक्ट के लिहाज से देखे तो जून 2019 की तिमाही सबसे खराब तिमाही में से एक रही. दरअसल नए प्रोजेक्ट की घोषणाओं में भारी कमी आयी है.

Centre for Monitoring of Indian Economy (CMIE) के अनुमान के मुताबिक साल 2018-19 में जहां 2.7 लाख करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट का ऐलान हुआ. जबकि जून 2019 की तिमाही में यह घटकर सिर्फ 71,000 करोड़ पर आ गया है.

इसे भी पढ़ेंःपलामू: ट्रैक्टर और ऑटो में जोरदार टक्कर, महिला समेत दो की मौत-तीन गंभीर

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close