JharkhandKhas-KhabarRanchi

ट्राई जंक्शन पर तीन बड़े नक्सली बने पुलिस के लिए चुनौती

विज्ञापन

Ranchi: ट्राई जंक्शन पर तीन बड़े नक्सली पुलिस के लिए चुनौती बने हुए हैं. इन तीनों नक्सलियों में 15 लाख का इनामी अमित मुंडा, 10 लाख का इनामी महाराजा प्रमाणिक और 5 पांच लाख का इनामी बोयदा पाहन शामिल है.

इन तीनों हार्डकोर नक्सलियों के खिलाफ पुलिस के द्वारा लगातार सर्च अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन हर बार यह तीनों नक्सली पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल हो रहे हैं. इन तीनों हार्डकोर नक्सलियों के द्वारा लगातार सुरक्षाबलों पर हमले की साजिश रची जा रही है हालांकि सुरक्षा बलों के द्वारा उनके मंसूबे को सफल नहीं होने दिया जा रहा है.

ट्राई जंक्शन नक्सलियों का दूसरा सबसे सेफ इलाका

ट्राई जंक्शन में सरायकेला जिले के कुचाई व दलभंगा, खूंटी के अड़की और रांची के तमाड़ थाना क्षेत्र से सटे इलाके आते हैं. इसी इलाके में रायसिंदरी और जंब्रो पहाड़ी भी है. इन इलाकों में कई बड़े नक्सली और उनका दस्ता अपना ठिकाना बनाये हुए है. चाईबासा के सारंडा जंगल के बाद यह दूसरा सबसे सेफ इलाका नक्सलियों ने बनाया है.

इसे भी पढ़ें- देश में रिकॉर्ड 78 हजार से अधिक केस, संक्रमितों का आंकड़ा 35 लाख के पार

बड़े हमले के फिराक में थे नक्सली

बीते दिनों खूंटी पुलिस ने पांच लाख के इनामी जोनल कमेटी के मेंबर जीतराय मुंडा समेत सात नक्सलियों को गिरफ्तार किया था. सभी नक्सली हार्डकोर नक्सली अमित मुंडा, बोयदा पाहन और महाराजा प्रमाणिक दस्ते के सक्रिय सदस्य थे. इन नक्सलियों की निशानदेही पर रांची, सरायकेला, चाईबासा और खूंटी जिले के एसपी के निर्देश पर सुरक्षाबलों ने रांची जिले के पियाकुल्ली, अरहंगा सरायकेला जिले के रायसिंदरी, चाईबासा जिले के चित्तिपल, क्षेत्र में अभियान चलाया. इस दौरान भारी मात्रा में गोली, आइडी और अन्य सामान बरामद किया गया था. पूछताछ में गिरफ्तार नक्सलियों ने नक्सलियों ने खुलासा किया कि भाकपा माओवादी संगठन रांची खूंटी सरायकेला और चाईबासा जिले में बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में थे. वो सुरक्षाबलों को क्षति पहुंचाने की कोशिश में लगे हुए थे.

इसे भी पढ़ें- मन की बात में बोले PM- लोकल को बनाना है वोकल, देश के युवा बनायें एप्स और गेम्स

सुरक्षाबलों पर हमले की प्लानिंग में लगे हैं नक्सली ग्रुप

झारखंड में एंटी नक्सल ऑपरेशन में लगे सुरक्षाकर्मी अक्सर नक्सलियों के निशाने पर रहते हैं. जानकारी के मुताबिक, नक्सली के छोटे-छोटे ग्रुप ट्राई जंक्शन पर सुरक्षाबलों पर हमले की प्लानिंग में लगे हैं. पिछले कुछ महीनों में लगातार हो रहे एंटी-नक्सल ऑपरेशन में कई नक्सलियों को सुरक्षाबल ढेर कर चुके हैं. ऐसे में नक्सली सुरक्षाबलों की इस कार्रवाई का बदला लेने की फिराक में लगे हैं.

adv

पुलिस और CRPF की संयुक्त कार्रवाई से परेशान नक्सली

दरअसल, पिछले पांच महीने में झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त कार्रवाई से नक्सली परेशान हो गये हैं. पिछले साल नक्सलियों ने राज्य में कई जगहों पर छोटी और बड़ी नक्सल घटनाओं को अंजाम दिया. लेकिन पिछले साल की तुलना में इस साल की आठ महीनों में सुरक्षाबलों की चौकसी से नक्सली सफल नहीं हो सके. कई बड़े नक्सली पकड़े गये हैं और कई ने सरेंडर कर दिया. इससे भी संगठन को झटका लगा है. लेकिन नई रणनीति के तहत झारखंड में सक्रिय नक्सलियों ने पड़ोसी राज्यों ओडिशा, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल और बिहार के बड़े नक्सलियों से संपर्क साधा है.

इसे भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर में फिर मुठभेड़: 3 आतंकवादी मारे गये, ASI शहीद

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button