ChaibasaJharkhandNEWS

चाईबासा : गुवा के डीएवी स्कूल में अचानक हुआ ऐसा कि मच गया कोहराम, जानिए क्‍या हुआ

Chaibasa: सेल की गुवा खदान प्रबंधन द्वारा गुवा में संचालित डीएवी स्कूल के वर्ग चार (अ) के कमरे का रुफ सिलिंग गिरने से छह बच्चे गंभीर रुप से घायल हो गये. सभी घायल बच्चों को सेल की गुवा अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज जारी है. यह घटना मंगलवार सुबह लगभग साढे़ दस बजे के करीब की बताई जा रही है. इस घटना की खबर पाकर बच्चों के अभिभावकों का भारी जमावड़ा अस्पताल में लग गया.सभी अभिभावक अपने-अपने बच्चों की स्थिति जानने की कोशिश में लगे रहे .

घटना की खबर पाकर जांच के लिए गुवा थाना प्रभारी अनिल कुमार यादव भी स्कूल एवं अस्पताल पहुंचे. अभिभावकों का भारी आक्रोश विद्यालय के प्राचार्य मनोज कुमार के खिलाफ दिखा, क्योंकि वह बच्चों को देखने अस्पताल में नहीं पहुंचे. बच्चों के अभिभावकों के अलावे मजदूर नेता अन्तर्यामी महाकुड़ ने बताया कि विद्यालय प्रबंधन हमेशा स्कूल फीस बढ़ा रहा है लेकिन बच्चों की सुरक्षा, बेहतर शिक्षा व संसाधन को विकसित करने पर थोड़ा भी ध्यान नहीं दे रहा है. उन्होंने प्राचार्य मनोज कुमार से बात करते हुए आरोप लगाया कि दुर्घटना के बाद बच्चों को तत्काल अस्पताल पहुंचाने में देरी हुई एवं घायल छात्र-छात्राओं के अभिभावकों को समय पर घटना की जानकारी नहीं दी गयी. उन्होंने कहा कि कोरोना काल में महीनों से स्कूल बंद था, फिर खराब रूफ सिलिंग की मरम्मत क्यों नहीं कराई गई. इस घटना के लिए विद्यालय प्रबंधन मुख्यरूप से जिम्मेदार है।

ये कहना है प्राचार्य मनोज कुमार का

ram janam hospital
Catalyst IAS

अभिभावकों व अन्तर्यामी महाकुड़ के सवालों का जबाब देते हुए प्राचार्य मनोज कुमार ने बताया क‍ि यह विद्यालय भवन सेल का है और उसके द्वारा संचालित है. खराब रूफ सिलिंग को ठीक करने के लिए सेल प्रबंधन को कहा गया था, लेकिन नहीं करायी गयी है. दुर्घटना दुर्भाग्यपूर्ण है.  घटना के तत्काल बाद घायल बच्चों को अस्पताल भेजवाया गया. मनोज कुमार ने कहा क‍ि जो फीस ली जाती है वह गुवा सेल प्रबंधन के अकाउंट में जाता है. यह स्कूल पूरी तरह सेल प्रबंधन द्वारा संचालित है.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

ये कहना है गुवा सेल के मुख्‍य महाप्रबंधक का

इस संबंध में गुवा सेल के मुख्य महाप्रबंधक विपिन कुमार गिरी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि गुवा डीएवी स्कूल के प्राचार्य मनोज कुमार के द्वारा स्कूल मरम्मत की बाबत कोई भी लिखित सूचना नहीं दी गई है. अगर सूचना दी जाती तो सेल जरूर मरम्मत करवाता. इस घटना के संबंध में मजदूर नेता रामा पांडे ने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना है. इसमें कहीं न कहीं स्कूल प्रबंधन एवं सेल प्रबंधन दोनों जिम्मेवार है. इसकी जांच होनी चाहिए और जिस ठेकेदार के द्वारा स्कूल बनाया गया उसे ब्लैक लिस्ट कर दिया जाए.
ये बच्‍चे दुर्घटना में हुए घायल

दुर्घटना में वर्ग चार (अ) के छात्र-छात्राओं में प्रतिभा करुवा (11 वर्ष), जश्मिन पूर्ति (10 वर्ष), कृतिका दलई (10 वर्ष), अर्पिता कुमारी (11 वर्ष), प्रियांशी नायक (10 वर्ष) एंव गुंजन गोप (11 वर्ष) शामिल हैं. इस सेक्शन में 45 बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे थे. बाकी बाल-बाल बच गए.

ये भी पढ़ें- जमशेदपुर: सरयू राय की पुस्‍तक ‘तिजोरी की चोरी’ का लोकार्पण,  उठाए गए हैं तीन मामले

Related Articles

Back to top button