ChaibasaJharkhand

चाईबासा : ठेकेदार की मनमानी से शहर में पेयजल संकट बढ़ा, अल्टीमेटम के बाद भी अंडर ग्राउंड केबलिंग कार्य धीमा

विज्ञापन
Advertisement

Chaibasa :  झारखंड के  पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर  के गृह जिले में लोगों को भीषण पेयजल संकट से जूझना पर रहा है. बिजली विभाग में अंडर केबलिंग वायर का कार्य करने वाला ठेकेदार मनमानी पर उतर आया है. और बार-बार स्थानीय विधायक और अधिकारियों के निर्देशों के बाद भी सुधरने का नाम नहीं ले रहा है. अंडर वायर केबलिंग  मशीन से किए जाने के कारण शहर की जलापूर्ति योजना के लिए बिछी जलापूर्ति पाइप फट जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः रांची के दर्जनों स्कूलों ने ट्यूशन फीस में ही जोड़ दी कई मदों की राशि, अभिभावक संघ ने लिया संज्ञान

लगातार जारी है ठेकेदार की मनमानी

इससे जलापूर्ति योजना बार-बार ठप हो जा रही है. बीते 1 माह से ठेकेदार की मनमानी के कारण लगातार चाईबासा शहर के लोगों को पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा है.  चाईबासा विधायक दीपक बिरुवा ने अंडर ग्राउंड केबलिंग करने वाली एजेंसी केईआई के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की बात कही है. एफआईआर कराने का निर्देश पीचईडी विभाग को दिया है.

advt

श्री बिरुवा बुधवार को खुद क्षतिग्रस्त पाइप लाइन स्थल बड़ी बाजार पहुंचे. संबंधित एजेंसी समेत अधिकारियों को फटकार लगाई. कहा कि कार्यकारी एजेंसी, पीएचइडी और बिजली विभाग में समन्वय के अभाव के कारण सारी कठिनाई जनता को झेलनी पड़ रही है.

इसे भी पढ़ेंः पलामू: शराब पीकर गाली गलौच करने पर महिला ने की पति की हत्या, 24 घंटे में हुई गिरफ्तार

 मैन्युअल काम होने से बेरोजगारों को मिलेगा रोजगार

विधायक दीपक बिरुवा ने कहा कि कोविड-19 और लाकडाउन के कारण बेरोजगारी बढ़ गई है. अगर संबंधित एजेंसी केबलिंग का काम मैन्युअल करेगी तो ऐसी समस्या नहीं होगी. साथ ही बेरोजगारों को रोजगार भी उपलब्ध होगा. यह निर्देश भी पहले ही कार्यकारी एजेंसी को दिया जा चुका है. लेकिन एजेंसी द्वारा मनमाना रवैया अपनाया गया. इससे पहले भी संबंधित एजेंसी को पाइप लाइन क्षतिग्रस्त किए जाने पर अल्टीमेटम दिया जा चुका है. इसके बावजूद एजेंसी के कार्य प्रणाली में कोई सुधार नहीं किया गया.

मौके पर ये लोग थे मौजूद

विधायक श्री बिरुवा के निरीक्षण के दौरान नगर परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष डोमा मिंज, पार्षदों में लक्ष्मी कच्छप, जेबा फरहत, कुंदन प्रजापति, अधिवक्ता राजाराम गुप्ता, बाबू अहमद, संचु तिर्की के अलावा बिजली विभाग के पदाधिकारी गौतम राणा, पीएचइडी के पदाधिकारी धर्मेंद्र कुमार, अंडर ग्राउंड केबलिंग  करने वाले एजेंसी केईआई के फ़ैज़ अहमद मौजूद थे.

इसे भी पढे़ंः पतंजलि को कोरोनिल बेचने की इजाजत मिली, पर इलाज की दवा कह कर नहीं

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: