Chaibasa

चाईबासा: गुदड़ी नरसंहार में 15 आरोपी गिरफ्तार, भेजे गये जेल

Chaibasa: जिले के गुदड़ी थाना क्षेत्र के बुरुगुलीकेरा में हुए नरसंहार में पुलिस ने 15 लोगों को गिरफ्तार किया है. बीते 19 जनवरी को पत्थलगड़ी समर्थक और विरोधियों के बीच हुई हिंसक झड़प में गुलीकेरा ग्राम पंचायत के उपमुखिया समेत सात ग्रामीणों की हुई सामूहिक हत्याकांड में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 15 लोगों को गिरफ्तार किया है.

इसे भी पढ़ेंः28 जनवरी को हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार! 3 सीटों पर अड़ी कांग्रेस, असहमति की स्थिति में 7 मंत्री ही ले सकते हैं शपथ

गिरफ्तार लोगों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है. गिरफ्तार हुए लोगों में सुखराम बुढ,राणसी बुढ,मनसुख बुढ,जीतेन्द्र बुढ,कोंजे बुढ,टीपरु बुढ,जयसिंह बुढ,बुधुवा बुढ,मानव बुढ,बुधुवा बुढ,सुरसेन बुढ,हेरमन बुढ,नागु बुढ कौंजे लुगून,सनिका लुगून शामिल है.

advt

डीजीपी को राज्यपाल ने किया तलब

बता दें कि राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने रविवार को डीजीपी केएन चौबे को राजभवन तलब किया था. और गुदरी नरसंहार और लापता हुए युवकों के बारे में जानकारी ली थी.

साथ ही यह निर्देश दिया कि आरोपियों के खिलाफ विधिसम्मत कार्रवाई की जाए. राज्यपाल ने पूरे राज्य में विधि व्यवस्था बनाए रखते हुए समुचित शांति बहाल रखने का निर्देश भी दिया था.

एसआइटी पर हत्याकांड की जांच का जिम्मा

19 जनवरी को गुदड़ी थाना के बुरुगेलीकेरा गांव में सात पत्थलगड़ी विरोधियों की हत्याि कर दी गई थी. इसकी जांच के लिए आठ सदस्यीय पुलिस अधिकारियों की टीम का गठन किया गया है. एसआइटी टीम को पांच दिनों के अंदर घटना की प्रारंभिक रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है.

इसे भी पढ़ेंःपूछताछ में गैंगस्टर सुजीत सिन्हा का खुलासाः थाने से भागा नहीं 25 लाख देकर भगाया गया था गैंगेस्टर अमन साव

adv

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने चाईबासा नरसंहार को लेकर गंभीर हैं. घटना पर बुधवार को उन्होंने मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव गृह, डीजी पुलिस तथा पुलिस विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की थी.

मुख्यमंत्री ने समीक्षा करते हुए यह स्पष्ट कहा था कि यह सही है कि पुलिस हर जगह नहीं रह सकती है किंतु, पुलिस की कार्यशैली ऐसी होनी चाहिए कि जनता का भरोसा उस पर बना रहे तथा अपराध करने वाले और कानून तोड़ने वालों में पुलिस की दहशत भी बनी रहे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून सबसे ऊपर है और घटना के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. घटना के वास्तविक कारणों के उद्भेदन करने और दोषियों को चिन्हित करने के लिए एसआइटी गठित करने के निर्देश भी सीएम ने दिये थे. उन्होंने पीड़ित परिवार से संपर्क कर परिजनों को अविलंब हर संभव सहायता प्रदान करने के भी निदेश दिये थे.

इसे भी पढ़ेंःरांची समेत देश के 18 केंद्रों में होगी #DU प्रवेश परीक्षा, एडमिशन एप्लीकेशन 1 अप्रैल से होगा शुरू

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button