National

 केंद्र का राज्यों फरमान, कहा- सख्ती से पालन हो होम क्वॉरेंटाइन के निर्देश

विज्ञापन

New Delhi: केंद्र सरकार ने राज्यों से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए होम क्वॉरेंटाइन करने संबंधी उसके दिशा निर्देशों को पूरी तरह से लागू किया जाए.

होम क्वॉरेंटाइन के लिए क्या है निर्देश

एक आधिकारिक बयान में शुक्रवार को कहा गया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने 10 मई को पृथक-वास पर संशोधित दिशा निर्देश जारी किये जो अब तक प्रभावी हैं. दिशा निर्देशों के अनुसार कोविड-19 के हल्के लक्षण वाले मरीज होम क्वॉरेंटाइन में रह सकते हैं. जिसके लिए मरीज को एक कमरा और शौचालय की सुविधा उपलब्ध हो. साथ ही उसकी देखभाल के लिए एक जवान व्यक्ति मौजूद हो.

इसे भी पढ़ें- देश में Corona की स्पीड तेज: एक दिन में रिकॉर्ड 14,516 नये केस, 375 की मौत

advt

साथ ही मरीज अपने स्वास्थ्य की निगरानी और जिला निगरानी अधिकारी को नियमित रूप से अपने स्वास्थ्य की सूचना देने पर राजी होना चाहिए. सरकार ने कहा कि संशोधित दिशा निर्देश में एक महत्वपूर्ण उपखंड यह है कि इलाज कर रहा डॉक्टर मरीज की चिकित्सा जांच और उसके आवास का आकलन करने के बाद उसके होम क्वॉरेंटाइन होने के बारे में सहमत होना चाहिए.

इसमें कहा गया है कि मरीज को पृथक-वास पर एक एफिडेविट देना होगा और घर पर अलग रहने संबंधी दिशा निर्देशों का पालन करना होगा. इसमें कहा गया है कि इस संबंध में कुछ ऐसी घटनाएं देखी गईं जहां कुछ राज्यों में घर पर पृथक-वास की अनुमति दी गयी और संशोधित दिशा निर्देशों के खंडों का पूरी तरह से पालन नहीं किया गया.

तंग जगहों पर होम क्वॉरेंटाइन रहने वाले लोगों से फैल सकता है कोरोना

केंद्र ने कहा कि इससे परिवार के सदस्यों और पड़ोसियों के बीच यह संक्रामक रोग फैल सकता है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 वैश्विक महामारी को फैलने से रोकने के लिए जमीनी स्तर पर दिशा निर्देशों का सख्त पालन सुनिश्चित करने का राज्यों से अनुरोध किया है.

इसे भी पढ़ें- बीते दो दिन से चीन ने भारत के खिलाफ साइबर जंग छेड़ रखी है!

adv

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने राज्यों को लिखे पत्र में कहा कि हम जांच करने, संपर्क में आये लोगों का पता लगाने और पृथक करने की नीति का मिलकर पालन कर रहे हैं और अगर जारी किये गये निर्देशों का पूरी तरह से पालन नहीं किया जाता तो यह संभव नहीं होगा.

उन्होंने कहा कि यह दोहराया जाता है कि शहरी क्षेत्रों में तंग जगहों पर रहने वाले लोगों द्वारा होम क्वॉरेंटाइन के विकल्प को चुनने से मरीज संक्रमण को परिवार के सदस्य और पड़ोसियों तक फैला सकता है. इस बारे में में हम होम क्वॉरेंटाइन रहने पर दिशा निर्देशों को जमीनी स्तर पर सख्ती से लागू करने का अनुरोध करते हैं.

इसे भी पढ़ें- गलवान विवाद पर राहुल गांधी का आरोप- प्रधानमंत्री ने चीन को सरेंडर किया भारतीय क्षेत्र

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button