न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक माह से सेंट्रल लाइब्रेरी में ठप है वाई फाई सुविधा, विद्यार्थियों को हो रही परेशानी

114

Ranchi : राजधानी के शिक्षण संस्थानों में सुविधाएं तो दे दी जाती हैं, लेकिन इन सुविधाओं का रख रखाव नहीं किया जाता. कुछ ऐसा ही हाल सेंट्रल लाइब्रेरी का है. जहां वर्ष 2016 में विद्यार्थियों को मुफ्त वाई फाई सुविधा देने की शुरुआत की गयी. शुरुआती दिनों में तो लाइब्रेरी में विद्यार्थियों को किसी तरह 24 घंटे मुफ्त वाई फाई सुविधा दी गयी, लेकिन पिछले एक माह से विद्यार्थियों को वाई फाई सुविधा नहीं मिल पा रही है. ग्रामीण और निम्न क्षेत्रों से पढ़ने आने वाले विद्यार्थियों के लिये वाई फाई सुविधा काफी मददगार थी. लेकिन अचानक से लाइब्रेरी में वाई फाई सुविधा बंद होने से विद्यार्थियों की परेशानी बढ़ गयी है. जबकि यहां प्रत्येक दिन भारी संख्या में विद्यार्थियों की भीड़ लगी रहती है.

इसे भी पढ़ेंःमुख्यमंत्री सीधी बात कार्यक्रम में पाकुड़ डीसी पर आरोप, करा रहे हैं अवैध उत्खनन, विस्थापितों को…

किसी तरह चलता है नेट

यहां आने वाले विद्यार्थियों ने बताया कि पिछले एक माह से वाई फाई सुविधा तो पूरी तरह ठप है, लेकिन पूर्व में भी कभी विद्यार्थियों को सही से वाई फाई सुविधा नहीं मिली. कभी कभी इंटरनेट स्पीड बिलकुल नहीं रहता तो कभी टू जी की स्पीड से वाई फाई चलता है. ऐसे में कनेक्ट करते-करते ही विद्यार्थी परेशान हो जाते हैं.

इसे भी पढ़ेंःRSSऔर सरकार के कार्यक्रम ‘लोकमंथन’ पर खर्च होंगे चार करोड़, व्यवस्था में लगाये गये पांच IAS

प्रत्येक दिन आते हैं 550 विद्यार्थी

लाइब्रेरी में पढ़ने आने वाले विद्यार्थियों की संख्या अधिक है. यहां प्रतिदिन कम से कम 550 विद्यार्थी पढ़ने आते है. लाइब्रेरी में पांच रीडिंग रूम है जो विद्यार्थियों से दिन भर भरा रहता है. छुट्टी के दिनों में भी लाइब्रेरी में औसतन विद्यार्थियों की संख्या इतनी ही रहती है. जिनमें रांची काॅलेज, श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय समेत आस पास के शिक्षण संस्थानों और हाॅस्टलों के विद्यार्थी पढ़ने आते हैं. वहीं ग्रामीण क्षेत्रों से भी विद्यार्थी यहां पढ़ने आते हैं.

इसे भी पढ़ेंः‘इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियन सर्विसेस लिमिटेड’ की तेजी से बिगड़ती वित्तीय…

हर वर्ग के विद्यार्थी आते हैं लाइब्रेरी

लाइब्रेरी में ना सिर्फ काॅलेज हाॅस्टल में रहने वाले विद्यार्थी, बल्कि रांची विश्वविद्यालय के कई नन टीचिंग स्टाफ, पीएचडी रिर्सचर, सीविल सर्विसेज, लोक सेवा समेत अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थी आते हैं.

इंटरनेट में उपलब्ध है जर्नल्स

सेंट्रल लाइब्रेरी में ना सिर्फ विद्यार्थियों को पुस्तक व अन्य पठन सामग्री उपलब्ध करायी जाती है. बल्कि यहां के ई सेंटर में नेटवर्क के माध्यम से भी पढ़ने की सुविधा उपलब्ध है. जिसमें दो वेबसाइट वल्ड वाइड जानकारी विद्यार्थियों को देते हैं. जिनमें इनफार्मेशन एंड लाइब्रेरी नेटवर्क एवं डेवलपिंग लाइब्रेरी नेटवर्क प्रमुख है. ऐसे में लाइब्रेरी में ही वाई फाई सुविधा नहीं होने से विद्यार्थियों को काफी परेशानी होती है.

इसे भी पढ़ेंःकास्टिज्म की बात करने पर फंसे पलामू SP, गृह विभाग ने किया शोकॉज, मांगा स्पष्टीकरण

विद्यार्थियों की सुविधा का है ख्याल

इस विषय में जब लाइब्रेरियन संजय कुमार कर्ण से बात की गयी तो उन्होंने बताया कि लाइब्रेरी में विद्यार्थियों के सुविधा का विशेष ख्याल रखा जाता है. केबल कनेक्शन आदि के कारण पिछले कुछ दिनों से लाइब्रेरी में वाई फाई सुविधा नहीं है. इसकी शिकायत बीएसएनएल में कर दी गयी है. लाइब्रेरी के कुछ भागों में वाई फाई का काम चल रहा है, काम अंडर प्रोसेस है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: