JharkhandLead NewsRanchi

झारखंड में NRLM और पीएम आवास योजनाओं से केंद्र सरकार संतुष्ट, एसएचजी के सशक्तीकरण पर दिया जोर

Ranchi : केंद्रीय ग्रामीण विकास सचिव एनएन सिन्हा सोमवार को घाटशिला और धालभूमगढ़ (पूर्वी सिंहभूम) के दौरे पर रहे. इन ब्लॉकों के कशीदा पंचायत, आमाडुबी के गांवों में ग्रामीण विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत का आकलन किया. एनआरएलएम एवं रूर्बन मिशन के अंतर्गत गतिविधियों का जायजा लिया. एसएचजी के क्रियाकलापों को भी नजदीक से समझा. मीडिया से बातचीत में खुशी जताते हुए कहा कि NRLM और उससे जुड़े कार्यक्रमों में यहां बेहतर कार्य किया जा रहा है. प्रधानमंत्री आवास में भी अच्छी प्रगति है.

उन्होंने जिले के पदाधिकारियों से कहा कि पीएम आवास योजना को सिर्फ घर उपलब्ध कराने का माध्यम न समझें, बल्कि इसे गरीबी हटाने के एक मौका के रूप में भी देखें.

advt

सभी प्रकार की योजनाओं से अभिसरण करके लाभुकों को गरीबी से ऊपर उठाने के प्रयासों पर और तेजी से कार्रवाई करें. सबसे महत्वपूर्ण यह है कि विभिन्न कार्यक्रमों से जुड़े स्वयं सहायता समूहों के प्रत्येक व्यक्ति की आजीविका का विस्तार पर जोर दें.

इसे भी पढ़ें:रांची स्मार्ट सिटी में जल्द शुरू होगा दूसरे चरण का ई-ऑक्शन, निवेशकों को न्योता

वे अगर एक आजीविका पर निर्भर हैं तो उसे दो करें, दो हों तो तीन करें. पशुपालन, बागवानी, मत्स्य पालन जैसी कई योजनाएं हैं जो आर्थिक सुदृढ़ता प्रदान करती हैं.

सामाजिक सुरक्षा की जो योजनाएं हैं, उन्हें ग्रामीण विकास कार्यक्रमों के साथ जोड़कर लाभ दिलाने का प्रयास हो. ग्राम पंचायत विकास की जो योजना बन रही है, उसमें प्रत्येक परिवार की जरूरतों को ध्यान में रखा जाये.

इस दौरान उनके साथ ग्रामीण विकास सचिव डा मनीष रंजन, मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी, डीसी सूरज कुमार, एसएसपी डॉ एम तमिल वणन, जेएसएलपीएस सीइओ नैंसी सहाय भी मौजूद रहीं.

इसे भी पढ़ें:कांग्रेस ने केंद्र सरकार के खिलाफ जम कर की नारेबाजी, लोकतंत्र के हनन का लगाया आरोप

किसानों तक पहुंचे जोहार परियोजना का लाभ

एनएन सिन्हा घाटशिला के हीरागंज गांव स्थित बुरुडीह डैम भी गये. वहां जोहार परियोजना के अंतर्गत मत्स्य-पालन (पेन कल्चर) स्थल भी पहुंचे. हीरागंज महिला उत्पादक समूह की महिलाओं द्वारा बुरुडीह डैम में 15 एकड़ में पेन कल्चर का निर्माण किया गया है.

इसमें महिलाओं ने सचिव के साथ मिल कर 2 क्विंटल 30 किलो मछली का चारा डाला. इस पेन कल्चर के ज़रिए उत्पादक समूह की 57 महिलाओं को मत्स्य पालन के ज़रिए आजीविका का साधन प्राप्त होना है.

किसान उत्पादक कंपनी के बोर्ड ऑफ मेंबर्स ने सिन्हा के समक्ष अपनी कंपनी द्वारा किये गये अबतक के व्यवसाय का विवरण दिया.

इसे भी पढ़ें:पीएलएफआइ सुप्रीमो दिनेश गोप के दस्ते साथ हुई पुलिस की मुठभेड़

महिलाओं के द्वारा किये जा रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए सचिव ने बोर्ड मेंबर्स को व्यवसाय को बढ़ाने के लिए प्रयास करते रहने का सुझाव दिया.

उन्होंने महिलाओं को जोहार परियोजना के लक्ष्य को साकार करते हुए कार्य करने की सलाह देते हुए ज़्यादा से ज़्यादा किसानों को परियोजना से जोड़ने की बात कही.

श्री सिन्हा ने धालभूमगढ़ अंतर्गत आमाडूबी ग्राम स्थित हेरिटेज विलेज का भी भ्रमण किया. मौके पर 12 लाभुकों को पीएम आवास की चाबी, आवास प्लस के 10 लाभुकों को स्वीकृति पत्र, राजमिस्त्री प्रशिक्षण प्राप्त 9 लोगों को प्रमाण पत्र दिया.

मंगलवार को श्री सिन्हा ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों संग बैठेंगे. इसमें मनरेगा, जेएसएलपीएस और अन्य योजनाओं की समीक्षा की जानी है. इसी दिन शाम को वे दिल्ली लौट जायेंगे.

इसे भी पढ़ें:हिंदी दिवस के पखवाड़ा पर राजस्थान भवन मानगो में काव्य गोष्ठी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: