JharkhandLead NewsRanchi

ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत के लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार: बन्ना गुप्ता

Ranchi : स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने केंद्र को कटघरे में खड़ा किया है. कहा है कि ऑक्सीजन की कमी के चलते हुई मौत के लिए केंद्र ही दोषी है. कोविड महामारी की शुरुआत से पहले पिछले 2020 साल जनवरी, फरवरी और मार्च के महीनों में भारत में औसतन 850 टन ऑक्सीजन प्रतिदिन मेडिकल क्षेत्र में उपयोग हो रहा था. अप्रैल 2020 से यह मांग बढ़ने लगी. 18 सितंबर तक हम तीन हज़ार टन प्रतिदिन इस्तेमाल करने लगे.

कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से इसलिए मौतें हुईं क्योंकि सरकार ने ऑक्सीजन निर्यात 700% तक बढ़ा दिया था.

इसे भी पढ़ें :CBSE 12th board results : परीक्षाफल तैयार करने के लिए स्कूलों की समय-सीमा 25 जुलाई तक बढ़ाई

नहीं किया मुकम्मल इंतजाम

बन्ना के अनुसार सरकार ने ऑक्सीजन ट्रांसपोर्ट करने वाले टैंकरों की व्यवस्था नहीं की. इसके अलावा अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने में कोई सक्रियता भी नहीं दिखाई.

advt

स्वास्थ्य राज्य मंत्री (केंद्र) भारती प्रवीण पवार ने कहा है कि Covid-19 महामारी की दूसरी लहर के दौरान किसी भी राज्य या केंद्र शासित प्रदेश से ऑक्सीजन के अभाव में किसी भी मरीज की मौत की खबर नहीं मिली है. एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी हैं यह एक गैर जिम्मेदाराना बयान है जिसकी जितनी निंदा की जाए कम है.

ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई मौत के लिए मोदी सरकार जिम्मेदार है. हर बात पर क्रेडिट लेने वाले प्रधानमंत्री को मौत के लिए सार्वजनिक तौर पर देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए.

कोरोना के कुप्रबंधन के बाद मोदी सरकार फर्जी आंकड़ों और झूठे जवाबदेही का सहारा लेकर बचना चाहती है.

इसे भी पढ़ें :74 हजार सेविका-सहायिका को मिलेगा चार महीने का मानदेय, आंदोलन स्थगित

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: