HEALTHJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

आयुष मिशन के लिए केंद्र सरकार ने झारखंड को दिये 15 करोड़, खर्च हुए सिर्फ 4.5 लाख

राष्ट्रीय आयुष मिशन के मामले में उजागर हुई राज्य की उदासीनता

Ranchi : बीते 2 वर्षों में भारत सरकार के आयुष मंत्रालय के द्वारा झारखंड को 15 करोड़ रुपये आयुष योजनाओं के संचालन के लिए दिये गये. इन पैसों का उपयोग राष्ट्रीय आयुष मिशन के तहत आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा जैसी चीजों को बढ़ावा देने में किया जाना था परंतु राज्य सरकार सिर्फ 4.5 लाख रुपये ही खर्च कर पायी. उक्त आशय की जानकारी केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने लोकसभा में सांसद संजय सेठ को दी.

अतारांकित प्रश्न काल में सांसद संजय सेठ ने केंद्रीय मंत्री से पूछा था कि झारखंड में आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा को प्रोत्साहित करने के लिए केंद्र सरकार क्या सहयोग कर रही है?

इसे भी पढ़ें:धनबाद जिला जज मौत मामला : हाईकोर्ट ने सीबीआई को लगायी फटकार, कहा- नहीं निकल रहा कोई नतीजा

Catalyst IAS
ram janam hospital

किन योजनाओं का संचालन किया जा रहा है? सांसद ने यह भी पूछा था कि बीते 2 वर्षों में केंद्र सरकार ने राज्य को कितनी राशि दी है और उसका क्या उपयोग हुआ है?

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

इन सवालों के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने सांसद को सदन में लिखित रूप से बताया कि केंद्र सरकार के द्वारा राज्य सरकार को राष्ट्रीय आयुष मिशन के संचालन के लिए दो साल में 15 करोड़ की राशि दी गयी थी.

इसमें आयुष कार्यक्रमों का प्रोत्साहन के साथ-साथ रांची में 50 बेड का आयुष अस्पताल, 100 आयुष स्वास्थ्य केंद्र व वेलनेस सेंटर खोले जाने की योजना पर काम होना था. इसके अतिरिक्त गोड्डा में स्थित होम्योपैथ मेडिकल कॉलेज का भी उन्नयन किया जाना था.

इसे भी पढ़ें:ओडिशा में बिजली उत्पादन कम होने से झारखंड में आठ घंटे तक लोड शेडिंग, रांची में औसतन तीन घंटे बिजली कट

राज्य सरकार के द्वारा दिये गये रिपोर्ट के मुताबिक इतनी बड़ी राशि दिये जाने के बावजूद बीते 2 साल में राज्य सरकार सिर्फ 4.5 लाख की राशि ही खर्च कर पायी, शेष राशि यूं ही पड़ी रह गयी.

इस जवाब के बाद सांसद संजय सेठ ने बयान देते हुए कहा कि एक तरफ राज्य सरकार के मंत्री केंद्र के असहयोग करने और पैसा नहीं देने का रोना रोते हैं.

दूसरी तरफ राज्य सरकार केंद्र के द्वारा दिये गये सहयोग के एवज में भी काम नहीं कर पा रही है. 15 करोड़ रुपये की राशि मिलना और उसमें सिर्फ 4.5 लाख खर्च करना यह बताता है कि सरकार की मानसिकता काम करने की नहीं है.

यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक तरफ केंद्र सरकार खुले हाथ से राज्य के विकास के लिए पैसे दे रही है और दूसरी तरफ राज्य सरकार उस पर काम नहीं कर पा रही है.

इसे भी पढ़ें:सुंदरनगर में शादी का झांसा देकर यौन शोषण करने का आरोपी चाईबासा से गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button