Corona_UpdatesRanchi

केंद्र ने राज्य सरकारों से मांगा सहयोग, कहा– प्रवासियों को रेलवे ट्रैक और सड़कों पर पैदल चलने से रोकें 

Ranchi: केंद्र सरकार ने सोमवार को अपने-अपने घरों को वापस लौटने में लगे प्रवासियों के संबंध में राज्य सरकारों को एक पत्र लिखा है. गृह सचिव अजय भल्ला द्वारा सभी राज्यों के सीएस को जारी पत्र के मुताबिक राज्य सरकारें सुनिश्चित करें कि मजदूर सड़कों और रेलवे ट्रैक पर न चलें.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaOutbreak: 24 घंटे में सामने आये 4 हजार से अधिक केस, देश में आंकड़ा 67 हजार के पार

चूंकि वर्तमान में बस और श्रमिक स्पेशल ट्रेन सेवा के जरिये उन्हें घर वापसी के लिए सुविधाएं मुहैया करायी जा रही हैं, ऐसे में उनकी बेहतरी के लिए उन्हें रेलवे ट्रैक और सड़कों पर पैदल चलने से रोका जाना चाहिये.

advt
गृह सचिव अजय भल्ला द्वारा जारी पत्र की कॉपी

ज्ञात हो कि प्रवासियों की घर वापसी के मसले पर 10 मई को सभी राज्य सरकारों के साथ कैबिनेट सचिव की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये समीक्षा बैठक हुई थी. बैठक में श्रमिक स्पेशल ट्रेन और बसों की सुविधा बढ़ाये जाने और अन्य संबंधित मुद्दों पर भी बात हुई थी.

पैदल लौट रहे प्रवासियों को शेल्टर्स में रखें

राज्यों को निर्देश दिए गए हैं कि यदि सड़कों पर चलते मज़दूर दिखें तो उनको समझाया जाए. उनके रहने, और खाने-पीने की व्यवस्था नजदीकी शेल्टर्स में हो. घर लौटने को बसों या श्रमिक स्पेशल ट्रेन की व्यवस्था होने तक उन्हें वहां समुचित सुविधाएं उपलब्ध करायी जाये.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaVirusUpdate: इंदौर में 1,935 लोग संक्रमित, 90 मरीजों की मौत 

रेल से कटकर 16 श्रमिकों की जा चुकी है जान

विगत दिनों महाराष्ट्र के औरंगाबाद में 16 प्रवासी मजदूरों के कटकर मारे जाने की ख़बरों के बाद केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को यह पत्र जारी किया है. लॉकडाउन के बीच अपने घरों को लौटने की बेताबी में प्रवासी मजदूर 1000-2000 किमी पैदल चलने को विवश हैं और इसके कारण उन्हें अपनी जान भी गंवानी पड़ रही है. इन हालातों को देखते हुए राज्य सरकारें बसों और स्पेशल ट्रेन की मदद से प्रवासियों को वापस लाने में जुट चुकी हैं. केंद्र ने इन सुविधाओं को अधिक-से-अधिक संख्या में बढ़ाने की बात कही है.

adv

इसे भी पढ़ेंःधनबाद: सूरत से 1203 मजदूर स्पेशल ट्रेन से पहुंचे, रखा सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button