JharkhandPalamu

खुद केंद्र के पास बकाया हैं झारखंड के 75 हजार करोड़, फिर भी उल्टे वही राज्य के खाते से वसूल रहा पैसा : कांग्रेस

  • मेदिनीनगर कांग्रेस भवन में आदित्य विक्रम जायसवाल ने पत्रकारों से की बातचीत

Palamu : झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रदेश डेलिगेट और प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष आदित्य विक्रम जायसवाल ने केंद्र सरकार पर मनमानी करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि केंद्रीय उपक्रमों के पास झारखंड का करीब 75 हजार करोड़ रुपये बकाया हैं, लेकिन केंद्र सरकार इस राशि को देने के बजाय संकट की इस घड़ी में झारखंड जैसे पिछड़े राज्य से ही गलत और अलोकतांत्रिक तरीके से अचानक 1417 करोड़ रुपये आरबीआई के माध्यम से डीवीसी की बकाया राशि के रूप में वसूल रही है. जायसवाल गुरुवार को मेदिनीनगर के कांग्रेस भवन में पत्रकारों से बात कर रहे थे.

Jharkhand Rai

पूर्ववर्ती रघुवर सरकार के समय का है 5417.50 करोड़ का बकाया

कांग्रेस नेता ने कहा कि इतनी बड़ी राशि से करोना काल में संक्रमित मरीजों के इलाज, लोगों को रोजगार और अधूरी पड़ी विकास योजनाओं को गति दी जा सकती थी. केंद्र सरकार के नकारात्मक रवैये के कारण झारखंड के समक्ष बड़ी मुश्किल उत्पन्न हो गयी है. डीवीसी की ओर से 5417.50 करोड़ रुपये बकाये की बात की जा रही है. वह सारा बकाया पूर्ववर्ती रघुवर सरकार के समय का है. हेमंत सोरेन के नेतृत्व में गठित सरकार की ओर से अपने कार्यकाल का समय पर डीवीसी का बकाया का भुगतान किया गया है और मात्र 100 से 125 करोड़ रुपये का ही बकाया होगा, जिसका भुगतान भी राज्य सरकार की ओर से जल्द से जल्द कर देने का भरोसा दिया गया है.

खान विभाग के 38,600 करोड़ रुपये बकाया हैं कोल इंडिया और सेल पर

जायसवाल ने कहा कि डीवीसी की ओर से जो 1754.50 करोड़ रुपये का दावा किया जा रहा है, वह भी राज्य के ऊर्जा विभाग द्वारा आपत्ति दर्ज करायी गयी है और करीब 3500 करोड़ रुपये के दस्तावेज की जानकारी दी गयी है. केंद्र सरकार के पास झारखंड सरकार का अभी 2982 करोड़ रुपये जीएसटी क्षतिपूर्ति बकाया है. वहीं, 38600 करोड़ रुपये कोल इंडिया और सेल पर खान विभाग का बकाया है. इसके अलावा 33000 करोड़ रुपये कोल कंपनियों पर बकाया है. इस तरह से अगर देखा जाये, तो केंद्र सरकार आर्थिक रूप से सरकार को कमजोर करने की साजिश रच रही है.

मौके पर पलामू जिला कांग्रेस कमिटी के जिला अध्यक्ष जैश रंजन पाठक, पूर्व जिला अध्यक्ष चंद्रशेखर शुक्ला, कैसर जावेद, विनोद तिवारी, सज्जाद खान, पप्पू अजहर, शमीम अहमद राइन, सुधीर चौबे, ईश्वरी सिंह, अजय पांडे, जितेंद्र कमलापुरी, अजय साहू, इमरान सिद्दीकी, रमजान खान, चतरू उरांव, चिंतामणि तिवारी, भिखारी राम, विनोद पाठक, रुद्र शुक्ला, मनोज अग्रवाल आदि मौजूद थे.

Samford

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: