Corona_UpdatesLead NewsNationalTOP SLIDER

केंद्र ने जारी की नयी एडवाइजरी, वेटिलेशन पर जोर, 10 मीटर के दायरे में भी फैल सकता है संक्रमण

New Delhi : केंद्र सरकार ने गुरुवार को एक नयी एडवाइजरी जारी की है. जिसमें कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए कुछ बातें बतायी गयी हैं. केंद्र सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन की ओर से यह एडवाइजरी जारी की गयी है. इसके अनुसार कोरोना संक्रमित शख्स के आसपास 10 मीटर के दायर में लोगों के संक्रमित होने का खतरा है. इससे बचने के लिए घर, ऑफिस और अन्य सार्वजनिक जगहों पर वेंटिलेशन बढ़ाने की सलाह दी गयी है.

इसे भी पढ़ें : नागरिक सुरक्षा मद से कोविड-19 महामारी से मृतकों का होगा अंतिम संस्कार : उपायुक्त

advt

प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के अनुसार- कोरोना संक्रमित शख्स का स्लाइवा और नेजल डिस्चार्ज, ड्रॉपलेट और एयरोसॉल के रूप में कोरोना संक्रमण फैलाने की प्रधान वजह हैं. ड्रॉपलेट जहां 2 मीटर तक जाकर सतह पर बैठ जाता है, वहीं एयरोसॉल 10 मीटर तक हवा में फैल सकता है. इसलिए कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करने की सलाह दी गयी है.

नयी एडवाइजरी में यह कहा गया है कि मास्क, सैनिटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही साथ अच्छे वेंटिलेशन का पालन करके कोरोना महामारी के संक्रमण को रोका जा सकता है. एडवाइजरी में कहा गया है कि शहरी और ग्रामीण इलाकों में घरों, ऑफिसों और सार्वजनिक जगहों पर तेजी से वेंटिलेशन सुनिश्चित करने की जरूरत है. अडवाइजरी में कहा गया है कि घरों, ऑफिसों और सेंट्रलाइज्ड बिल्डिंग में पंखे लगा कर, खिड़कियां-दरवाजे खोल कर एयर सर्कुलेशन बढ़ायी जाये.

इसे भी पढ़ें :ई-पास व्यवस्था खत्म करने की याचिका हाइकोर्ट ने की खारिज, कहा- यह जरूरी है 

हवा का सर्कुलेशन कम करेगा कोरोना का खतरा

प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के अनुसार किसी संक्रमित शख्स के हंसने, बोलने, खांसने आदि से जो ड्रॉपलेट या एयरोसोल निकलता है वह वायरस के ट्रांसमिशन का प्रधान कारण है. जिस तरह से किसी जगह पर हवा का सर्कुलेशन बढ़ने से वहां पर आ रही गंध खत्म हो जाती है, उसी तरीके से किसी जगह पर वेंटिलेशन बढ़ाने से वहां कोरोना फैलने का खतरा कम हो जाता है.

इसे भी पढ़ें : जिलाधिकारियों से बोले पीएम मोदी- गांवों पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: