JharkhandLead NewsRanchi

केंद्र न जीएसटी दे रहा है न विशेष बजटीय प्रावधान, आखिर महंगाई की कमाई जा कहां रही है : मुख्यमंत्री

Ranchi :  देश में बढ़ रही बेहताशा महंगाई को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि केंद्र की यह करतूत है. ऐसी नीतियां लाकर केंद्र ने देश के मध्यम वर्ग, गरीब व किसानों को भगवान भरोसे छोड़ दिया है. इस महंगाई की वजह की पेट्रोलियम पदार्थों के दामों में बेहताशा बढ़ोतरी है.

हेमंत सोरेन मंगलवार देर शाम मीडियाकर्मियों को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इस बढ़ोतरी से केंद्र को कितनी कमाई हो रही है, यह भी किसी से छिपी नहीं है. उन्होंने सवाल पूछा कि आखिर वह कमाई जा कहां रही है. क्योंकि केंद्र न तो राज्य सरकार को जीएसटी का हिस्सा दे रही है, न ही इनके द्वारा राज्यों के लिए कोई विशेष बजटीय प्रावधान किया गया है. दूसरी तरफ आज झारखंड जैसा प्रदेश में हमारी सरकार अपने बलबूते कई योजनाओं को लागू कर गरीबों को राहत देने का जिम्मेवारी निभा रही है.

इसे भी पढ़ें – माओवादियों ने दी पारा शिक्षकों को धमकी, नौकरी छोड़कर संगठन से जुड़िए वरना छह इंच छोटा कर देंगे

इससे पहले मुख्यमंत्री ने प्रोजेक्ट भवन में कई प्रतिनिधिमंडलों से भी मुलाकात की. इसमें एचसीएल टेक्नोलॉजी के अधिकारी, झारखंड राज्य प्रशिक्षित पारा संघ सहित एमिटी एजुकेशनल ग्रुप शामिल हैं. इस दौरान मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, सीएम के प्रधान सचिव राजीव अरूण एक्का सहित कई अधिकारी व प्रतिनिधिमंडल के सदस्य उपस्थित थे.

एमिटी एजुकेशनल ग्रुप के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को झारखंड में एमिटी यूनिवर्सिटी के द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में संचालित विभिन्न गतिविधियों और कार्यकलापों से अवगत कराया. उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि रांची में वर्ष 2016 से एमिटी विश्वविद्यालय स्थापित है और इसकी नई बिल्डिंग का निर्माण कार्य जारी है, जिसका इस साल के अंत तक पूरा होने उम्मीद है. उन्होंने मुख्यमंत्री को नए कैंपस में उपलब्ध होने वाली सुविधाओं और व्यवस्थाओं से भी अवगत कराया.

इसे भी पढ़ें – पुलिस ने अहले सुबह की कोयला तस्करों के खिलाफ कार्रवाई, 12 टन जब्त

एचसीएल टेक्नोलॉजी के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान सीएम को बताया गया कि कंपनी श्रम नियोजन एवं कौशल प्रशिक्षण विभाग के साथ मिलकर राज्य के पांच औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में 12वीं पास 500 छात्र छात्राओं को उनके चयन के बाद प्रशिक्षण देगी. 6 माह का प्रशिक्षण पूरा होने के बाद इन विद्यार्थियों को कंपनी में कार्य योग्य बनाते हुए पूर्व प्रशिक्षण के बाद एच सी एल कंपनी में ही नियोजित करेगी. कंपनी के इस प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया कि इसमें राज्य सरकार द्वारा हर संभव सहयोग किया जाएगा. आवश्यकता पड़ने पर किसी हॉस्टल से सुसज्जित किसी एक औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में विद्यार्थियों को पढ़ाई पूरी करने के लिए सभी संसाधन उपलब्ध कराएगी.

झारखंड राज्य प्रशिक्षित पारा संघ के प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक में हेमंत सोरेन ने एक बाऱ फिर दोहराया कि शिक्षा और शिक्षकों की बेहतरी के लिए सरकार प्रतिबद्ध है और इस दिशा में लगातार प्रयास किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि उनकी मांगों को लेकर सरकार द्वारा जल्दी ही कोई ठोस निर्णय लिया जाएगा. इस सिलसिले में नियमावली को तैयार करने की प्रक्रिया चल रही है. उन्होंने यह भी कहा कि नियमावली से ज्यादा से ज्यादा पारा शिक्षकों को लाभ मिले,  इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा. इस मौके पर संघ के प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री को अपनी मांगों को लेकर एक बार फिर ज्ञापन सौंपा. उन्होंने मुख्यमंत्री को एक पौधा और शिबू सोरेन पर लिखित एक पुस्तक भी सप्रेम भेंट की.

इसे भी पढ़ें – पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर बोले RBI के गवर्नर- इनडायरेक्ट टैक्स पर की जाये कटौती 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: