न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड समेत पांच राज्यों में आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों का संग्रहालय बनवा रही है केंद्र सरकार

राजधानी रांची के बिरसा मुंडा जेल का नाम होगा बिरसा मुंडा संग्रहालय

83

106.39 करोड़ खर्च कर 40 एकड़ जमीन को किया जायेगा विकसित

Ranchi : केंद्र ने झारखंड समेत पांच राज्यों में आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों का संग्रहालय बनवा रही है. झारखंड की राजधानी में बिरसा मुंडा संग्रहालय पुराना केंद्रीय कारा में बनाया जायेगा. हरियाणा में शेख मुंशी के सौ साल पुराने मकबरे का संरक्षण और राखीगढ़ी सिंधु घाटी की सभ्यता का पुरातात्विक अवशेषों का संरक्षण और विकास कार्य कराया जायेगा. इसके अलावा उत्तरप्रदेश के हरिहरपुर, मुबारकपुर और निजामाबाद के प्राचीन कलाओं का संरक्षण और विकास कार्य, नागालैंड में जीवंत सांस्कृतिक संग्रहालय का निर्माण और तेलांगना के पुचम पली गांव की सांस्कृतिक विधाओं का संरक्षण करने जैसे कार्यों को जनजातीय विकास मंत्रालय ने अपने हाथों में लिया है.

इसे भी पढ़ें –नये भूमि अधिग्रहण कानून में जिलों के उपायुक्तों को पांच हजार हेक्टेयर भूमि पर निर्णय लेने का अधिकार

 केंद्रीय जनजातीय मंत्रालय की बैठक में हुआ था फैसला

केंद्रीय जनजातीय मामलों के मंत्रालय की छह सितंबर 2017 को हुई बैठक में झारखंड समेत अन्य राज्यों में संग्रहालय बनाने का निर्णय लिया गया था. मंत्रालय की राष्ट्र स्तरीय समिति की बैठक में झारखंड, गुजरात, तेलांगना और अन्य राज्यों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे. चयनित स्थानों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने, संग्रहालय को स्टेट ऑफ द आर्ट तकनीक से बनाने, संग्रहालय को एक दूसरे के साथ जोड़ने, विभिन्न स्थानीय भाषाओं में संग्रहालय का प्रचार-प्रसार करने पर सहमति बनी थी. इसके अंतर्गत ही झारखंड में 40 एकड़ की जमीन पर ट्राइबल हट, झारखंड दर्शन, फूड कोर्ट और चिल्ड्रेन पार्क बनाने का निर्णय लिया गया था. इन सभी निर्माण कार्य के लिए झारखंड अरबन इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड के जरिये निविदा आमंत्रित करने पर सहमति बनी थी.

इसे भी पढ़ें –खदान आवंटन मामले में फंस सकते हैं CS रैंक के साथ दो IFS, जिस फाइल पर खदान की अनुशंसा हुई, वह भी गायब

बिरसा मुंडा स्मृति पार्क के लिए 106.39 करोड़ की स्वीकृति

झारखंड के नगर विकास विभाग की तरफ से बिरसा मुंडा स्मृति पार्क के लिए 106.39 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति मिली हुई है. जेल परिसर के 38.9 एकड़ में सांस्कृतिक विरासत को विकसित किया जायेगा. 150 वर्ष पुराने जेल भवन का जिर्णोद्धार कार्य भी इसमें शामिल है. पार्क परिसर में ऐतिहासिक विरासत के साथ क्षेत्रीय संस्कृति की झांकी, पर्यटन विकास और मनोरंजन के साथ अन्य सुविधाएं विकसित की जायेगी. इंडियन ट्रस्ट फोर रूरल हेरिटेज एंड डेवलपमेंट की ओर से योजना का विस्तृत डीपीआर तैयार किया गया है. दो चरणों में स्मृति पार्क का निर्माण किया जायेगा. स्मृति पार्क में बिरसा मुंडा जेल भवन सह परिसर का भी जिर्णोद्धार किये जाने की सरकार ने योजना बना रखी है.

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: