NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केन्द्र ने SC से कहा- राजीव गांधी हत्याकांड के दोषियों को नहीं कर सकते रिहा

दोषियों को रिहा करने के तमिलनाडु सरकार के फैसले से सहमत नहीं केंद्र

151

NewDelhi: केन्द्र सरकार ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा कि वह राजीव गांधी हत्याकांड के सात दोषियों को रिहा करने के तमिलनाडु सरकार के प्रस्ताव का समर्थन नहीं करती है. क्योंकि इन मुजरिमों की सजा की माफी से खतरनाक परंपरा पड़ेगी और इसके अंतरराष्ट्रीय नतीजे होंगे.

इसे भी पढ़ेंःलालू यादव को हाईकोर्ट से राहत, 20 अगस्त तक बढ़ी जमानत अवधि

न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा और न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने गृह मंत्रालय द्वारा इस संबंध में दायर दस्तावेज रिकॉर्ड पर लेने के बाद मामले की सुनवाई स्थगित कर दी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वो अगली सुनवाई में का निपटारा करेगा. राजीव गांधी के हत्यारों की रिहाई के मामले में सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है.

इसे भी पढ़ें-रवींद्र भवन और कन्वेंशन सेंटर को पर्यावरण स्वीकृति ही नहीं, शुरू हो गया काम

शीर्ष अदालत ने 23 जनवरी को केन्द्र सरकार से कहा था कि तमिलनाडु सरकार के 2016 के पत्र पर तीन महीने के भीतर निर्णय ले. राज्य सरकार राजीव गांधी हत्याकांड के सात दोषियों की सजा माफ करके उनकी रिहाई करने के निर्णय पर केन्द्र की सहमति चाहती है.

तमिलनाडु सरकार ने केंद्र से मांगी थी सहमति

राज्य सरकार ने इस संबंध में दो मार्च, 2016 को केन्द्र सरकार को पत्र लिखा था. इसमें कहा गया था कि राज्य सरकार ने इन सात दोषियों को रिहा करने का निर्णय लिया है परंतु शीर्ष अदालत के 2015 के आदेश के अनुरूप इसके लिये केन्द्र की सहमति लेना अनिवार्य है.

केन्द्रीय गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव वी बी दुबे ने न्यायालय में दाखिल अपने हलफनामे में कहा है, ‘‘केन्द्र सरकार, दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 435 का पालन करते हुए तमिलनाडु सरकार के दो मार्च, 2016 के पत्र में इन सात दोषियों की सजा और माफ करने के प्रस्ताव से सहमत नहीं है.’’

इसे भी पढ़ेंःदिल्ली में फिर दरिंदगी, दूसरी कक्षा की मासूम के साथ दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तार

दोषियों को रिहा करने से गलत परंपरा की होगी शुरुआत

मंत्रालय ने कहा कि निचली अदालत ने दोषियों को मौत की सजा देने के बारे में ठोस कारण दिये हैं. मंत्रालय ने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी इस हत्याकांड को देश में हुए अपराधों में सबसे घृणित कृत्य करार दिया था.

मंत्रालय ने कहा कि चार विदेशियों, जिन्होंने तीन भारतीयों की मिलीभगत से देश के पूर्व प्रधान मंत्री और 15 अन्य की नृशंस हत्या की थी, को रिहा करने से बहुत ही खतरनाक परपंरा स्थापित होगी और भविष्य में ऐसे ही अन्य अपराधों के लिये इसके गंभीरतम अंतरराष्ट्रीय नतीजे हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंःहजारीबाग व कोडरमा में अवैध माइनिंग से हुए नुकसान की रिकवरी का आदेश

गौरतलब है कि राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में एक चुनाव सभा के दौरान एक आत्मघाती महिला ने विस्फोट करके हत्या कर दी थी. बाद में इस महिला की पहचान धनु के रूप में हुई. इस विस्फोट में धनु सहित 14 अन्य लोग भी मारे गये थे. यह संभवत: पहला मामला था जिसमें विश्व के एक प्रमुख नेता की आत्मघाती विस्फोट से हत्या की गयी थी.

इस हत्याकांड के सिलसिले में वी श्रीहरण उर्फ मुरूगन, टी सतेन्द्रराजा उर्फ संथम, ए जी पेरारिवलन उर्फ अरिवु, जयकुमार, राबर्ट पायस, पी रविचन्द्रन और नलिनी 25 साल से जेल में बंद हैं. शीर्ष अदालत ने 18 फरवरी, 2014 को तीन मुजरिमों-मुरूगन, संथम और पेरारिवलन- की मौत की सजा उम्र कैद में तब्दील कर दी थी, क्योंकि उनकी दया याचिकाओं पर फैसला लेने में बहुत ज्यादा देरी हुई थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

nilaai_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.