Crime NewsJharkhandRanchi

राजधानी में 155 संवेदनशील जगहों पर लगाये जा रहे हैं सीसीटीवी कैमरे

Ranchi: राजधानी रांची में अब अपराधियों की खैर नहीं. चोरी, लूट,  हत्या, मारपीट जैसी घटना को अंजाम देकर भागना अब अपराधियों के लिए मुश्किल होगा. राजधानी रांची में अपराध नियंत्रण के लिए शहर के बाहरी और भीड़भाड़ वाले क्षेत्र सहित 155 संवेदनशील जगहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाये जा रहे हैं. कोई भी अपराधी अगर किसी घटना को अंजाम देकर भाग रहा है, तो सारी गतिविधियां सीसीटीवी कैमरे में कैद हो जायेंगी. इस तरह वो पुलिस की गिरफ्त में आसानी से आ जायेगा.

 155 संवेदनशील जगहों को किया गया है चिह्नित

राजधानी रांची में बढ़ते अपराध पर नियंत्रण को लेकर 155 संवेदनशील जगहों चिन्हित किया है. इन संवेदनशील जगह पर लगभग 50 करोड़ की लागत से सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे. राजधानी रांची में प्रवेश करने वाली सड़कें, जमशेदपुर-रांची रोड, रामगढ़-रांची रोड और पलामू-रांची रोड के प्रवेश द्वार के सहित खूंटी- रांची रोड,  टाटीसिल्वे रोड, इटकी रोड, पतरातू रोड में सीसीटीवी कैमरा लगाया जा रहा है. शहर के बीचोबीच भीड़भाड़ वाले इलाकों में भी सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे.

एक जनवरी 2019 से नहीं ट्रैफिक व्यवस्था लागू होगी 

राजधानी रांची में अपराध नियंत्रण के साथ-साथ ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए नई व्यवस्था की शुरुआत होनी है. हाई डेफिनेशन सीसीटीवी कैमरे के जरिए ट्रैफिक को कंट्रोल करने की व्यवस्था राजधानी रांची में एक जनवरी 2019 से लागू हो जाएगी. यातायात नियमों का उल्लंघन करनेवालों को चिह्नित करने के लिए राजधानी के प्रमुख चौक-चौराहों पर हाई डेफिनेशन सीसीटीवी कैमरे के जरिए चालान काटा जायेगा. सीसीटीवी के जरिए चालान काटने की व्यवस्था हो जाने पर पुलिस को चकमा देकर भागने वालों के गाड़ी के नंबर भी हाई डेफिनेशन कैमरे में कैद हो जायेंगे. जिसके आधार पर उनके घर तक चालान पहुंचा दिया जायेगा.

 ट्रैफिक नियम तोड़ने वाहन का नंबर होगा ट्रेस 

राजधानी रांची में चिन्हित 16 चौक-चौराहे पर दो तरह के कैमरे लगाये गये हैं. पहला कैमरा एएनपीआर (ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉगनेशन) कैमरा है.  दूसरा आरएलवीड (रेड लाइट वॉयलेशन डिटेक्शन) कैमरा है. इन दोनों कैमरों की मदद से यातायात नियमों का उल्लंघन करनेवाले, रेड लाइन का उल्लघंन करनेवाले, बिना हेलमेट या ट्रिपल राइडिंग करनेवाले वाहन चालकों के नंबर को ट्रेस कर लिया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःपूरी दुनिया के समुद्र पर भारतीय नौसेना की नजर, हर जहाज रहेगा निगरानी में

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: